बारिश के मौसम में होने वाली बिमारियों से बचने के घरेलू नुस्खे

0

बारिश का मौसम अपने साथ मौज मस्ती और खुशियाँ ले कर आता है. इस मौसम को सभी मनुष्य से लेकर जानवर भी पसंद करते हैं क्यूंकि यही मौसम हमें भिसन गर्मी से राहत दिलाता है. बारिश का मौसम सूखे बंजर जमीं पर हरयाली ले कर आता है जिसकी खूबसूरती देख कर सभी प्रसन्न हो जाते हैं. इस मौसम में ताज़ी हवा और ठन्डे मौसम का सुख हमें मिलता है. सुखी नदियाँ और तालाब बारिश की पानी से भर जाती है जो पानी की असुविधाओं से झुझ रहे लोगों को राहत दिलाता है. बारिश का मौसम हमारे प्रकृति की सुन्दरता को चार चाँद लगाता है.

बारिश का मौसम हमारे लिए सिर्फ खुशियाँ ही नहीं बल्कि अपने साथ बहुत सारी बीमारियाँ भी ले कर आती है. बच्चे से लेकर बूढ़े लोगों तक सभीको इस बीमारी का सामना करना पड़ता है. बारिश का पानी जगह जगह गढ़ों में भर जाने की वजह से उस रुके हुए पानी से बीमारियाँ पैदा होती हैं और लोगों को बीमार करती हैं. अगर इन सभी बिमारियों से बचने का तरीका हमें मालूम हो और हम उनसे सावधानी बरतें तो हम अपने बच्चों और रिश्तेदारों को बीमार पड़ने से रोक सकते हैं. तो चलिए आज हम बारिश में होने वाली तरह तरह की बिमारियों से बचने के नुस्खे जानेगे.

Rainy Season Diseases, their Symptoms And Remedies in Hindi

आज हम जानेंगे बारिश के मौसम में होने बाले बिमारिओ के बारे में. और जानेंगे उनके लक्ष्यन और उपचार के बारे में. आप ये सब घरेलु उपचार को अपना कर इन बिमारिओ से बच सकते है.
Rainy Season Diseases, Symptoms, Remedies in Hindi

1# जुखाम (Cold)

बारिश के मौसम में लोगों में सबसे अधिक पाए जाने वाली बीमारी जुखाम होती है. ये किसीको भी और कभी भी हो सकती है. इसका मुख्य कारण होता है बारिश, बारिश के पानी में भीग जाने की वजह से ये बीमारी जल्दी हो जाती है और ये आसानी से ठीक भी नहीं होती. जुखाम के बहुत सरे लक्षण हैं जैसे हर वक़्त नाक से पानी आना, कफ (cough) होना, हल्का हल्का बुखार होना, बदन दर्द होना और सर दर्द होना, ये सभी लक्षण जुखाम के होते हैं. आपके साथ या आपके आस पास के लोगों में अगर आपको ये लक्षण दिखे तो समझ लेना उन्हें जुखाम हो गया है. जुखाम एक ऐसा बीमारी है जो की एक मनुष्य से दुसरे मनुष्य तक फैलता है. इसलिए इससे बचना और दूर रहना बहुत ही ज्यादा जरुरी है.

जुखाम हो जाने के बाद कौन सी चीजों का ध्यान रखें इसके बारे में जाने

1) बारिश के मौसम में आपको जुखाम ना हो इसके लिए सबसे पहले तो आप बारिश में ना भीगें, जीतना हो सके उतना बारिश से दूर रहे. बाहार जाते वक़्त अपने साथ हमेसा छत्री या फिर बरसाती ले कर ही निकलें, क्यूंकि इस मौसम में बारिश कभी भी हो सकती है.

2) ठंडी चीजों से दूर रहें जैसे ice- cream और cold drink. ठन्डे मौसम में ठंडी चीजों का सेवन करने से भी आप बीमार हो सकते हैं.

3) गरम खाना खायें और पियें जैसे की घी, अदरक, तुलसी पत्ता, दूध, सूप इत्यादि.

4) अपने हाथ और पैर की मालिश सरसों की तेल से करें इससे आपको जुखाम से जल्दी राहत मिलेगा.

5) ये सरे नुस्खें अपनाने के बाद भी आपको जुखाम से राहत ना मिले तो डॉक्टर को जरुर दिखाएं.

2# Malaria और Dengue

बारिश का पानी मच्छरों को अपनी आबादी बढ़ाने में मदद करता है. मादा Anopheles और Aegypti मच्छर malaria और dengue जैसे बिमारियों का मुख्य कारण होते है. बारिश के रुके हुए पानी में ये मच्छर अंडे देते हैं ताकि वो अपना आबादी बढ़ा सकें और लोगों को बीमार कर सकें. बुखार, बदन दर्द, जुखाम, सर दर्द, थकान, उलटी, आँखों में जलन ये सारे लक्षण malaria और dengue के हैं. इनमे से कोई भी लक्षण आपको दिखे तो जल्द से जल्द अपने नजदीकी अस्पताल में जरुर दिखाएं.

Malaria और Dengue से बचने के लिए क्या करें

1) malaria और dengue मच्छरो के वजह से होते हैं इसलिए जितना हो सके उतना उनसे दूर रहे. उनसे बचने के लिए mosquito coil और liquid का इस्तेमाल करें.

2) अपने आस पास के जगहों को साफ़ सुथरा रखें और पानी जमने ना दें.

3) प्लास्टिक की बोतले, टूटे फूटे खिलौने और टायर इन सब में बारिश के पानी का जमने का खतरा रहता है जहाँ malaria फ़ैलाने वाले मच्छर पैदा होते हैं तो कृपया ऐसी चीजों को नष्ट कर दें.

3# Typhoid

Typhoid भी बारिश के मौसम में होने वाली एक बीमारी है. ये बीमारी खाने और पानी को दूषित करने वाले bacteria से फैलता है. Typhoid में तेज बुखार, सर दर्द, diarrhea जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं.

Typhoid को जल्दी ठीक करने के लिए क्या करें

1)ज्यादा से ज्यादा पानी पियें ताकि आपके शारीर में पानी की मात्रा ठीक से बनी रहे.

2)अच्छी तरह से आराम करने की बेहद जरुरत है.

3) typhoid के लक्षण दीखते ही उसका इलाज करवायें, सही समय पर इलाज करने से उसके जल्दी ठीक होने की सम्भावना बढ़ जाती है.

4# Hepatitis A

Hepatitis A एक ऐसी बीमारी है जो दूषित लोगों के छूने से या उनके करीब रहने से फैलती है. ये एक ऐसा virus है जो पेट में बीमारी पैदा करता है और पेट में जलन पैदा करता है. इस बीमारी में jaundice, आँखों में पिला पन, उलटी, कमजोरी, बुखार जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं.

Hepatitis A से लड़ने के लिए क्या करें

1) Hepatitis A के लक्षण दीखते ही अस्पताल में जा कर इलाज करवाएं. बिना इलाज के इस बीमारी का ठीक हो पाना मुश्किल है.

2) इस बीमारी को ठीक करने के लिए जो दवाइयां होती हैं वो किसी भी सरकारी या प्राइवेट अस्पताल में आसानी से मिल जाया करती हैं.

3) जितना हो सके उतना high calorie खाना खायें.

4) मसालेदार और तेल से बनी चीजों को अनदेखा करें.

5# Diarrhoea

Diarrohea भी एक आम बीमारी है जो आपको बरसात के दिनों में देखने को मिलती है. ये बीमारी गंदे खाने और पिने के वजह से होती है. ये बहुत आम बीमारी है और इससे ज्यादा डरने की जरुरत नहीं लेकिन फिर भी जैसे की ये एक बीमारी है और हमें इस बीमारी से दूर रहना ज्यादा बेहतर होगा. उलटी, low blood pressure, मल पड़ना, abdominal pain होना ये सब diarrhoea के लक्षण हैं.

Diarrhoea को ठीक करने के लिए क्या करें

1)जब भी आपको इस बीमारी के लक्षण दिखें तो आप डॉक्टर को दिखा कर उनके बताये गए दवाइयों का ही केवल सेवन करें.

2) पानी को उबाल कर उसे ठंडा कर पियें.

3) बाहार के खाने और मसालेदार खाने को नजरअंदाज करें.

4) घर के बने हुए सादे खाने ही खायें जो आराम से हजम हो जाये.

ये थी वो बीमारियाँ जो अक्सर बारिश के मौसम में हम मनुष्य को होने के ज्यादा chances होती हैं. तो अगर आप भी इन बिमारियों से जूझ रहे हैं तो उनसे जुड़े हुए दिए गए नुस्खे अपनाइए और रोग मुक्त हो जाइये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here