Accessibility

    0

    Accessibility का मतलब है की ऐसे प्रोडक्ट्स और वातावरण को डिजाईन करना जो की डिसएबल लोगों (विकलांग) के लिए सहायक हो. उदहारण के लिए व्हीलचेयर, एंट्रीवे राम्प्स, हियरिंग एड्स, और ब्रैल्ली सिग्न्स.

    वहीँ आईटी की दुनिया में एक्सेसिबिलिटी का मतलब होता है ऐसे हार्डवेयर और सॉफ्टवेर को डिजाईन करना जो की उन लोगों की मदद करे जो विकलांगता का अनुभव कर रहे हों.

    हार्डवेयर

    एक्सेसिबिलिटी हार्डवेयर उन्हें समझा जाता है की जिन्हें की ख़ास उद्देश्य से डिजाईन किया गया है किसी ऐसे चुने हुए लोग के लिए, जिससे की वो उसे कंप्यूटर ऑपरेट करने में मदद कर सके.

    उदहारण के लिए एक्सेसिबिलिटी सामान जैसे की कीबोर्ड जिसपर keys पर बड़े अक्षरों में लिखे हुए हों, बड़ी आकार के माउस और ट्रैकबल, पिल्लो स्विचेस जो की बहुत ही कम दबाव से ही एक्टिवेट हो जाते हैं. ये सभी उपकरणों के इस्तमाल से कोई भी विकलांग व्यक्ति कंप्यूटर को आसानी से चला सकता है, जो की पहले संभव नहीं था.

    सॉफ्टवेर

    आजकल के आधुनिक ऑपरेटिंग सिस्टम में ऐसे बहुत सारे स्टैण्डर्ड एक्सेसिबिलिटी आप्शन पहले से ही इन्क्लुड़ किये जाते हैं जो कि यूजर को उन्हें इस्तमाल करने में सहायक होते हैं, और उन्हें कोई बाहरी स्पेशलाइज्ड हार्डवेयर की जरुरत ही नहीं पड़ती है.

    उदहारण के लिए विंडोज और macOS दोनों OS में डिस्प्ले मॉडिफिकेशन आप्शन, जैसे की मैग्निफिकेशन और इन्वेर्टिंग कलर्स पहले से ही शामिल किये जाते हैं, जो की आखों की तकलीफ वाले यूजर को मदद कर सके. टेक्स्ट से स्पीच को भी चालू किया जा सकता है जिससे स्क्रीन पर मेह्जुद टेक्स्ट को आसानी से सुना जा सकता है. डिक्टेशन का भी इस्तमाल आम कार्यों को करने के लिए किया जा सकता है वोकल कमांड के मदद से.

    एक्सेसिबिलिटी आप्शन को आप निचे बताए गए स्टेप्स से आसानी से प्राप्त कर सकते हैं अपने ऑपरेटिंग सिस्टम में :

    विंडोज: सेटिंग → Ease of Access

    macOS: सिस्टम प्रेफेरेंसेस → एक्सेसिबिलिटी

    iOS: सेटिंग → जनरल → एक्सेसिबिलिटी

    एंड्राइड: सेटिंग → एक्सेसिबिलिटी

    « Back to Wiki Index