दूरबीन का आविष्कार किसने किया है?

क्या आप जानते हैं की दूरबीन की ख़ोज किसने की?

जैसा की हम जानते हैं कि दूर की चीजों को देखने के लिए दूरबीन यानी Telescope का उपयोग करते हैं. आज पृथ्वी से लाखों-करोड़ों किलोमीटर दूर स्थित ग्रहों, तारों तथा अन्य पिंडों में देखने के लिए दूरबीनों का प्रयोग बहुत बढ़ गया हैं .

दुनिया के अनेक देशों में विशाल दूरबीनें लगाई गई हैं और अंतरिक्ष की गहराई में अधिक Dदूर तक देखने के लिए वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में भी दूरबीनें लगाईं हैं.

उदाहरण के तौर पे – स्पिटज़र अंतरिक्ष दूरबीन, फर्मी गामा दूरबीन आदि. तो आज के इस आर्टिकल में हम दूरबीन से सम्बंधित सभी जानकारी प्राप्त करेंगे.

durvin ka aviskar kisne kiya

तो फिर चलिए शुरू करते हैं.

दूरबीन का अविष्कार किसने किया?

दूरबीन का आविष्कार हेंस लिपरशी (Hans Lippershey) जी ने किया था. Hans Lippershey जी पेसे से एक eyeglass maker थे. 17 वीं सदी सन 1608 में हॉलैंड के मिडिलबर्ग शहर में रहने वाले एक चश्मा व्यापारी के बेटे ने खेल-खेल में किया था.

durvin ke avishkarak

इस व्यापारी का नाम हेंस लिपरशी (Hans Lippershey) था. टेलीस्कोप या दूरबीन एक ऐसा यंत्र जो दूर की चीजों को आसानी पास दिखाता है.

Lippershey ने उसे kikjer का नाम दिया था.

kikjer एक उच्च भाषा का बोला जाने वाला शब्द है.आपको बता दे की Hans Lippershey ने दूरबीन के खोज में कोई विशेष काम नहीं किया था और ना ही Hans Leppershey कोई बहुत बड़ा वैज्ञानिक था. तो आइये जानते हैं की दूरबीन की खोज कैसे की गयी.

दूरबीन का अविष्कार कब हुआ था?

दूरबीन का आविष्कार 17 वीं सदी सन 1608 में हुआ था.

दूरबीन का अविष्कार कहाँ हुआ था?

दूरबीन का अविष्कार हॉलैंड के मिडिलबर्ग शहर में हुआ था.

दूरबीन का अविष्कार कैसे हुआ?

एक छुट्टी के दिन Leppershey अपने बेटे को दुकान पर काम कराने लाया और उसे एक टोकरी में से रंग-बिरंगे कांच को छाटने के लिए कहा लेकिन वो सभी कांच को आँखों में लगाकर दरवाज़े की तरफ देखता था.

उसने कभी लाल तो कभी पीला सभी रंग के कांच एक साथ मिला के देखना शुरू किया और तभी वह डर गया उसने देखा की सामने वाली गिरजाघर उसके आँखों के सामने आ गयी है. उसको लगा की यह कोई भ्रम था लेकिन उसने दोबारा देखा तो उसे वही दिरश्य दिखा.

अब उसने सोचा के वो अपने पिता को यह जादुई बात बताये या नहीं?

लेकिन वो अपने आप को ज्यादा देर तक न रोक पाया और उसने अपने पापा Hans Leppreshey को आवाज दी और उनसे कहा की वे अपने आँखों में इन कांच को लगा कर देखे. इस चमत्कार को देखकर Hans Leppreshey भी हैरान रह गया और उन कांच को लगाने के बाद दूर वाली चीज़े ३ गुना और पास आजा रही थी और उसे वो मीनार जो दूर स्तिथ थी वो भी पास में नज़र आने लगी.

Hans Leppreshey ख़ुशी से पागल होकर बेटे को गोद में लेकर नाचने लगा लेकिन अभी तक उसका बेटा परेशान था की ऐसा क्या हो गया  और फिर उसने बताया की बेटा तुमने अनजाने में एक आविष्कार कर दिया. दूर की वस्तु को सामने देखने का.

Hans Leppreshey ने कहा के अब हम एक यंत्र बनायेगे जिससे हमारा नाम भी होगा. इस तरह अनजाने में दूरबीन का आविष्कार किया गया था.

सितम्बर 25, 1608 में Hans Leppreshey ने दूरबीन का पेटेंट अपने नाम करवाया था. इस दूरबीन में उत्तल लेंस और अवतल लेंस दोनों का ही उपयोग किया गया था.

Galileo ने भी बनाया आकर्षक दूरबीन

इसके बाद Galileo के इस दूरबीन की खबर सुनने के बाद उसने भी दूरबीन बनाना शुरू किया और उसने उसमे अधिक लेंस को जोड़कर ३ गुना पास दिखने वाले दूरबीन को फेल कर दिया और उसने 20-30 गुना ज्यादा पास दिखने वाला दूरबीन तैयार कर लिया.

दुनिया के कुछ प्रसिद्ध दूरबीन कौन कौन से हैं?

चलिए अब जानते हैं वो कौन से ऐसे दूरबीन या telescope है जो की सबसे ज़्यादा प्रसिद्ध हैं.

1. Hubble Space Telescope

2. James Webb Space Telescope

3. Kepler telescope

4. Atacama Large Millimeter/submillimeter Array (ALMA)

5. Arecibo Observatory

आज आपने क्या सीखा

आज आपने सीखा की किस तरीके से दूरबीन का आविष्कार किया गया था और दूरबीन का अविष्कार किसने किया. हालाँकि यह आविष्कार ज्यादा कठिन और विशेष नहीं था. फिर भी इस आविष्कार से आगे चलकर मानवता को काफ़ी फ़ायेदे हुए.

अगर आपके मन में इस लेख को लेकर कोई भी डाउट हो तो उसे कमेंट ज़रूर करें.

आपको ये लेख पसंद आई हो तो अपने फ़्रेंड के साथ और Social Media Platforms जैसे की – फेसबुक, इन्स्टाग्राम और ट्विटर पर ज़रूर शेयर करें.

2 COMMENTS

  1. Hello Bhai,

    I want to know more about blogging. I love to write but don’t how to start although gone through many videos on youtube.

    Can we talk over the phone and discuss this?.

    Thanks
    Bijay

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here