भारत में पहला आधार कार्ड किसका बना था?

पहला आधार कार्ड किसका बना? हम एक ऐसे देश में रहते हैं जिसकी आबादी करीब 130 करोड़ से भी ज्यादा की है, यूँ कहे की हम दुनिया के दूसरे सबसे बड़े राष्ट्र है आबादी के मामले में. फिर ऐसे में सभी लोगों की जानकारी इकट्टा करना साथ में उन्हें सही समय में सभी सुविधाएँ पहुँचाना बहुत की कठिन है. इसलिए भारत सरकार द्वारा आधार कार्ड को जनहित के लिए लाया गया था.

अब ऐसे बहुत से हमारे पाठक है जिन्हें की आधार कार्ड के विसय में तो जानकारी है लेकिन उन्हें ये नहीं पता की आखिर भारत का पहला आधार कार्ड किसका बना था? तो इसलिए आज के इस आर्टिकल में हम ये जानेंगे की वो कौन पुरुष या महिला थी जिसने की सबसे पहले आधार कार्ड पायी या पाया था. तो बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं.

पहला आधार कार्ड कब बना?

भारत का पहला आधार कार्ड सितंबर 29, 2010 को बनाया गया था.

सबसे पहला आधार कार्ड किसका बना?

सबसे पहला आधार कार्ड रंजना सोनवाने (Ranjana Sonawane) जी का बना था. उन्हें सितंबर 29, 2010 को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जी के उपस्थिति में, उस समय के Congress president Sonia Gandhi जी के द्वारा दिया गया था.

pahla aadhar card kiska bana tha

रंजना सोनवाने जी की बात की जाये तब वो पहली महिला थी पुरे भारत में जिन्हें की आधार कार्ड सबसे पहले मिला था. वो उत्तरी महाराष्ट्र के Tembhali नामक ग्राम की रहने वाली है.

रंजना सोनवाने (Ranjana Sonawane) का आधार नंबर क्या है?

रंजना सोनवाने (Ranjana Sonawane) जी का आधार नंबर है “782474317884”. इस नंबर के साथ उस दिन से रंजना जी एक अलग पहचान बन गयी थी. क्योंकि वो अब बन चुकी थी भारत की पहली महिला जिसे आधार कार्ड प्राप्त हुआ था. आधार कार्ड या UID (Unique Identification) प्राप्त हुआ था.

रंजना सोनवाने (Ranjana Sonawane) किस गांव की रहने वाली है?

रंजना सोनवाने टेमभीली (Tembhli) गांव की रहने वाली है. रंजना जी का गांव एक बहुत ही देहाती गांव है जो की उत्तरी महाराष्ट्र के Nandurbar जिले में स्तिथ है. ये करीब पुणे से 470km दूर अवस्तिथ है. जहाँ पहले ये गांव परछाई में था वहीँ पहला आधार कार्ड मिलने पर इसे अब बाहर के लोग भी जानने लगे हैं.

पहली महिला आधार कार्ड धारक बनने के बाद रंजना जी के जीवन में क्या बदलाव देखा गया है?

यकीं मानिये उनके जीवन में बिलकुल भी बदलाव नहीं है. क्योंकि जब इंडिया टुडे नमक एक प्रसिद्द पत्रिका ने उस गांव में रंजना जी के वर्तमान स्तिथि के बारे में जानने को चाहा तो परिणाम चौकाने वाला था. क्योंकि रंजना जी अभी भी वैसी ही अवस्था में थी जैसे की वो आधार कार्ड मिलने से पहली थी.

पूछे जाने पर उन्होंने एक अजीब दास्ताँ बयां करी, उनका कहना था की उन्हें लगा की आधार कार्ड मिलने पर उन्हें शायद नॉकरी मिलने में आसानी होगी, लेकिन बाद में उन्हें ये मालूम पड़ा की आधार कार्ड बस एक पहचान पत्र से कुछ अधिक नहीं है.

इससे उनका मन को काफ़ी ठेंस पहुंची. उन्हें लगा की ऐसे में पहली आधार कार्ड पाने वाली महिला बनने का क्या लाभ जब इससे उन्हें जीवन में कुछ बदलाव ही नहीं हो रहा.

आज आपने क्या सीखा

मुझे आशा है की मैंने आप लोगों को भारत में पहला आधार कार्ड किसका बना के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को पहली आधार कार्ड धारक महिला के बारे में जानकारी मिल गया होगा.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं. आपके इन्ही विचारों से हमें कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिलेगा.

यदि आपको मेरी यह लेख सबसे पहला आधार कार्ड किसका बना था अच्छा लगा हो या इससे आपको कुछ सिखने को मिला हो तब अपनी प्रसन्नता और उत्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

Previous articleसरकारी योजना 2021 के बारे में जानकारी
Next articleदुनिया का सबसे बड़ा बम कौन सा है?
नमस्कार दोस्तों, मैं Prabhanjan, HindiMe(हिन्दीमे) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Enginnering Graduate हूँ. मुझे नयी नयी Technology से सम्बंधित चीज़ों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे. :) #We HindiMe Team Support DIGITAL INDIA

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here