रथ यात्रा क्यों मनाया जाता है और कौन से दिन है?

रथ यात्रा के विषय में शायद काफी लोगों को पता भी हो लेकिन ऐसे बहुत ही कम लोग होंगे जिन्हें की ये पता हो की आखिर रथ यात्रा क्यों मनाई जाती है? रथ यात्रा भारत में मनाया जाने वाला बहुत ही प्रसिद्द पर्व है. लेकिन बाकी पर्वों और रथ यात्रा में बहुत फर्क है, क्योंकि रथ यात्रा घरों अथवा मंदिरों में पूजा पाठ या व्रत करके मनाया जाने वाला पर्व नही है. इस पर्व को इकट्ठे होकर मनाया जाता है. इस पर्व में रथ यात्रा निकाली जाती है. इस पर्व को देश में दो शहरों में रथ यात्राएं निकाली जाती हैं.

भारत देश के उड़ीसा राज्य के तटवर्ती शहर जगन्नाथपुरी में भगवान जगन्नाथ का भव्य मंदिर है इस शहर को मुख्यतः पुरी के नाम से जाना जाता है. पुरी में हर वर्ष भगवान जगन्नाथ की विशाल रथ यात्रा निकाली जाती है. पुरी के जगन्नाथ मंदिर को भारत के चार धाम में से एक माना गया है. हालांकि अहमदाबाद में भी भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा निकाली जाती है, लेकिन पुरी की रथ यात्रा ज्यादा प्रसिद्ध है. इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को रथ यात्रा के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिसमें जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा क्या है, रथ यात्रा क्यों मनाया जाता है और इसे कैसे मनाया जाता है इत्यादि शामिल हो. तो फिर बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं.

रथ यात्रा क्या है – What is Rath Yatra in Hindi

Rath Yatra Kyu Manaya Jata Hai Hindi

रथ यात्रा एक पर्व है जिसे मुख्यतः हिन्दू धर्मावलंबियों के द्वारा हर वर्ष एक बार मनाया जाता है. यह पर्व बाकी हिन्दू पर्वों से अलग माना जाता है क्योंकि बाकी हिन्दू पर्व मुख्यतः अपने घरों अथवा मंदिरों में पूजन पाठन या व्रत रखकर मनाये जाते हैं. लेकिन यह पर्व उन सबसे अलग है क्योंकि इस पर्व को सभी लोग इकट्ठे होकर मनाते है. इस पर्व को पुरी शहर में रथ यात्रा निकालकर मनाया जाता है. इस पर्व को 10 दिनों तक मनाया जाता है.

पुरी शहर भारत के उड़ीसा राज्य में स्थित है जिसे शंख क्षेत्र, श्रीक्षेत्र, पुरूषोत्तम पुरी इत्यादि नामों से भी जाना जाता है. इस शहर के लोग प्रमुख देवता भगवान जगन्नाथ को ही मानते हैं और पुरी को भगवान जगन्नाथ जी की मुख्य लीला भूमि माना जाता है. यहां का मुख्य पर्व भी भगवान जगन्नाथ की रात यात्रा है. रथ यात्रा पर्व बड़ी ही धूम धाम के साथ मनाया जाता है. रथ यात्रा के दर्शन लाभ के लिए देश विदेश से लाखों भक्त आते हैं.

रथ यात्रा कब मनाया जाता है?

रथ यात्रा आषाढ़ शुक्ल की द्वितीया को जगन्नाथपुरी में प्रारम्भ होती है. यह रथयात्रा 10 दिनों की होती है. मान्यता है कि भगवान जगन्नाथ आषाढ़ शुक्ल की द्वितीया से दशमी तक लोगों के बीच रहते हैं. रथ यात्रा का उत्सव सैंकड़ों वर्षों से लगातार मनाया जाने वाला पर्व है. हर वर्ष रथ यात्रा में शामिल होने के लिए लाखों श्रद्धालु पहुंचते हैं. रथ यात्रा में शामिल होने वाले श्रद्धालुओं की संख्या साल दर साल बढ़ती जा रही है.

भगवान जगन्नाथ जी को भगवान श्रीकृष्ण और राधा की युगल मूर्ति का रूप माना जाता है. रथ यात्रा की तैयारी हर वर्ष बसंत पंचमी से ही शुरू कर दी जाती है. भगवान जगन्नाथ जी की रथ यात्रा के लिए नीम के चुनिंदा पेड़ की लकड़ियों से रथ तैयार किया जाता है. रथ की लकड़ी के लिए अच्छे और शुभ पेड़ की पहचान की जाती है जिसमे कील आदि न ठुके हों और रथ के निर्माण में किसी प्रकार की धातु का उपयोग नहीं किया जाता है.

रथ यात्रा क्यों मनाया जाता है

भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा का पर्व हर वर्ष मनाया जाता है. इस पर्व को मनाने के पीछे कुछ मान्यताएं है. जिसमें से सर्वप्रचिलित मान्यता है कि भगवान जगन्नाथ की बहन सुभद्रा नें भगवान जगन्नाथ जी से द्वारका दर्शन करने की इच्छा जाहिर की जिसके फलस्वरूप भगवान ने सुभद्रा को रथ से भ्रमण करवाया तब से हर वर्ष इसी दिन जगन्नाथ यात्रा निकाली जाती है.

भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा के लिए तीन रथ तैयार किये जाते हैं. रथ यात्रा में सबसे आगे श्रीकृष्ण के बड़े भाई बलराम का रथ रहता है जिसमें 14 पहिये रहते हैं और इसे तालध्वज कहते हैं, दूसरा रथ 16 पहिये वाला श्रीकृष्ण का रहता है जिसे नंदीघोष या गरूणध्वज नाम से जाना जाता है और तीसरा रथ श्रीकृष्ण की बहन सुभद्रा का रहता है जिसमें 12 पहिये रहते हैं और इसे दर्पदलन या पद्मरथ कहा जाता है. तीनों रथों को उनके रंग और लंबाई से पहचाना जाता है.

रथ यात्रा की कहानी

रथ यात्रा के पीछे एक पुरानी कहानी प्रचिलित है की ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन भगवान जगन्नाथ का जन्म हुआ था. उस दिन भगवान जगन्नाथ, उनके बड़े भाई बलराम और बहन सुभद्रा को रत्नसिंहासन से उतार कर भगवान जगन्नाथ के मंदिर के पास बने स्नान मंडप में ले जाया जाता है. फिर 108 कलशों से उनका शाही स्नान होता है जिससे भगवान जगन्नाथ बीमार पड़ जाते हैं और उन्हें बुखार आ जाता है. इसके बाद भगवान जगन्नाथ को एक विशेष स्थान में रखा जाता है जिसे ओसर घर कहते हैं.

15 दिन बाद भगवान जगन्नाथ स्वस्थ होकर घर से निकलते हैं और भक्तों को दर्शन देते हैं. इसे नवयौवन नेत्र उत्सव भी कहते हैं. इसके बाद आषाढ़ शुक्ल की द्वितीया को भगवान जगन्नाथ, उनके बड़े भाई बलराम और बहन सुभद्रा के साथ रथ में सवार होकर नगर भ्रमण के लिए निकलते हैं.

रथ यात्रा कैसे मनाया जाता है?

भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा के लिए तीन रथ तैयार किये जाते हैं. जब तीनों रथ तैयार हो जाते हैं तब ‘छर पहनरा’ अनुष्ठान किया जाता है. इन तीनों रथों की पूजा करके सोने की झाड़ू से रथ और रास्ते को साफ किया जाता है. आषाढ़ शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को रथ यात्रा का आरंभ होता है. ढोल नगाड़ों के साथ ये यात्रा निकाली जाती है और भक्तगण रथ को खींचकर पुन्य लाभ अर्जित करते हैं.

रथ यात्रा जगन्नाथ मंदिर से शुरू होती है और पुरी शहर से होते हुए नगर भ्रमण कर गुंडीचा मंदिर पहुंचती है. 10वे दिन रथ पुनः मंदिर की ओर प्रस्थान करते हैं. 11वे दिन मंदिर के द्वार खोले जाते हैं. इस दिन भक्तगण स्नान कर भगवान के दर्शन करते हैं.

रथ यात्रा का महत्व

पुरी स्थित वर्तमान मंदिर 800 वर्षों से भी पुराना है जिसे चार पवित्र धामों में से एक माना गया है. कहा जाता है कि जिन भक्तों को रथ यात्रा का रथ खींचने का सौभाग्य मिलता है वो बहुत भाग्यवान माने जाते हैं. पौराणिक मान्यता के अनुसार रथ खींचने वाले को मोक्ष की प्राप्ति होती है.

ऐंसी मान्यता है कि इस दिन भगवान स्वयं नगर भ्रमण कर लोगों के बीच आते हैं और उनके सुख दुख में सहभागी बनते हैं. ऐंसा भी माना जाता है कि जो भक्त रथयात्रा में भगवान के दर्शन करते हुए एवं प्रणाम करते हुए रास्ते की धूल कीचड़ आदि में लोट लोट कर जाते हैं उन्हें श्री विष्णु के उत्तम धाम की प्राप्ति होती है.

सबसे खास बात यह है कि रथ यात्रा के दिन कोई भी मंदिर एवं घर में पूजा न कर सामूहिक रूप से इस पर्व को सम्पन्न करते हैं और इसमें किसी प्रकार का भेदभाव नहीं देखा जाता है.

रथ यात्रा क्यों मनाते है?

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख रथ यात्रा क्यों मनाया जाता है जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को रथ यात्रा क्या होता है के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है.

इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं.

यदि आपको यह post रथ यात्रा क्यूँ मनाई जाती है पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये.

6 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here