5G Tower कैसे लगवाये?

5G Tower Kaise Lagwaye? 5G towers कैसे लगवाएँ इसकी सठिक जानकारी यदि आपको जाननी है तब आज का यह आर्टिकल आपके लिए काफ़ी जानकारी भरा होने वाला है। ये बात तो हम सभी जानते हैं की यदि हमें 5G की स्पीड चाहिए तब हमें 5G Tower की भी ज़रूरत होगी। ऐसे में लोगों के मन में ये सवाल ज़रूर आया होगा की आख़िर 5G Tower कैसे लगवाएँ?

कैसे कोई आम इंसान अपने घर में 5G Tower लगवा सकता है। जैसे जैसे हमारी जनशंख्या बढ़ रही है, वैसे वैसे हमें इन टावर की ज़रूरत भी बढ़ रही है। वहीं सभी उपलब्ध जगहों में लोगों का घर बन जा रहा है। ऐसे में इन नेट्वर्क ऑपरेटर को नए टावर लगवाने के लिए ऐसे जगहों की तलाश है जिससे की 5G की स्पीड सभी उपयोगकर्ताओं के पास साथी रूप से पहुँच सके।

वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दूँ की ये चीज़ जितनी आसान नज़र आ रही है उतनी असल में है नहीं। इसलिए यदि आपको 5G Tower लगवाने की विधि के बारे में सम्पूर्ण जानकारी चाहिए तब आपको ये आर्टिकल पूरी तरह से पढ़ना होगा। तो फिर बिना देरी के चलिए शुरू करते हैं और 5G Tower कैसे लगवाये के बारे में जानते हैं। उससे पहले पढ़िए 5G कैसे काम करता है

5G उपलब्ध शहरों की सूची

Jio और Airtel ने चुनिंदा भारतीय शहरों में 5G सेवाएं शुरू की हैं। 5G नेटवर्क के 2 से 3 साल के भीतर पैन इंडिया में उपलब्ध होने की उम्मीद है।

5G Tower Kaise Lagwaye

5G सेवाओं को आधिकारिक तौर पर अक्टूबर 2022 में भारत में लॉन्च किया जा चुका है। दूरसंचार विभाग (DoT) ने शुरू में घोषणा की कि 5G 13 शहरों – अहमदाबाद, बेंगलुरु, चंडीगढ़, गांधीनगर, गुरुग्राम, हैदराबाद, जामनगर, कोलकाता, चेन्नई, लखनऊ, पुणे, मुंबई, दिल्ली में लॉन्च होगा। हालांकि, सरकार द्वारा बताए गए सभी शहरों को कनेक्टिविटी का विकल्प नहीं मिल रहा है। फिलहाल Airtel और Jio चुनिंदा जगहों पर रोल आउट कर रहे हैं।

Jio ने अक्टूबर, 2022 से चार शहरों – मुंबई, दिल्ली, वाराणसी और कोलकाता में 5G नेटवर्क उपलब्ध कराना शुरू किया है। दूसरी ओर, एयरटेल ने दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, बेंगलुरु, हैदराबाद, सिलीगुड़ी, नागपुर और वाराणसी में अपना एयरटेल 5G प्लस लॉन्च किया। Jio और Airtel दोनों चरणबद्ध तरीके से शहरों के आसपास 5G नेटवर्क तैनात कर रहे हैं। इसका मतलब है कि सभी उपयोगकर्ताओं को अभी तक उनके संगत स्मार्टफ़ोन पर 5G विकल्प नहीं मिल रहा है।

यहां उन शहरों की सूची दी गई है जो आने वाले महीनों में Jio और Airtel 5G प्राप्त करेंगे।

Jio 5G जल्द इन शहरों में आने वाला है

अब चलिए जानते हैं ऐसे कुछ शहरों के बारे में जहां पर बहुत ही जल्द Jio 5G आने वाला है।

AhmedabadBengaluru
ChandigarhGandhinagar
GurugramHyderabad
JamnagarChennai
LucknowPune
Lucknow

Airtel 5G Plus जल्द इन शहरों में आने वाला है

अब चलिए जानते हैं ऐसे कुछ शहरों के बारे में जहां पर बहुत ही जल्द Airtel 5G Plus आने वाला है।

AhmedabadGandhinagar
KolkataJamnagar
GurugramPune
Chandigarh

Jio और Airtel दोनों ने घोषणा की है कि 4G कनेक्टिविटी सिम वाले उपयोगकर्ताओं को 5G कनेक्टिविटी के लिए नया सिम नहीं खरीदना होगा। 5G समर्थित स्मार्टफोन डिफ़ॉल्ट सिम में स्वचालित रूप से 5G नेटवर्क से कनेक्ट हो जाएंगे। इसके लिए आपको अलग से कुछ भी नहीं करना होगा।

5G उपलब्धता की जांच करने के लिए, उपयोगकर्ताओं को फोन सेटिंग्स> नेटवर्क और सिम> पर जाकर उपलब्ध नेटवर्क की जांच करनी होगी। इससे आपको मालूम पड़ जाएगा की आख़िर आपका फ़ोन 5G Supported है भी या नहीं।

एक बात ध्यान से समझ लें कि, सभी 5G Supported स्मार्टफोन अभी के लिए 5G नेटवर्क से कनेक्ट नहीं हो सकते हैं। कनेक्शन के लिए टेलीकॉम ऑपरेटर्स ने मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों से एक नयी अपडेट रोल आउट करने को कहा है। अपडेट मिलते ही सभी 5G स्मार्टफोन में 5G कनेक्टिविटी मिल जाएगी। लेकिन वहीं इस बात पर भी ज़ोर देना होगा की आप बहुत ज़्यादा पुराना स्मार्ट फ़ोन का इस्तमाल न कर रहे हों, अन्यथा आपका स्मार्ट फ़ोन उस अप्डेट को भी ग्रहण करने के योग्य नहीं होगा।

5G टावर स्थापना की आवश्यकता

अब चलिए कुछ ऐसे पहलुओं के बारे में जिनकी बहुत ही ज़्यादा ज़रूरत है यदि आप एक मोबाइल टावर की स्थापना करना चाहते हैं

  • यदि आप मोबाइल टावर लगाने के बारे में विचार कर रहे हैं तब आपको कम से कम 1200 square feet जगह की ज़रूरत होगी, यदि आप इसे अपने घर के छत पर स्थापित करना चाहते हैं। वहीं यदि किसी जगह में लगवाना चाहते हैं तब आपको कम से कम 2000 square feet ज़मीन की आवस्यकता होगी।
  • यदि संभव हो तो घर या भवन में कम से कम G+2 मंजिला होना चाहिए, और यह आसपास के क्षेत्र में सबसे ऊंचा होना चाहिए।
  • इतना ही नहीं, आपको ज़रूरी सभी काग़ज़ात सही ढंग से प्रदान करने होंगे, वरना आपका ये application रद्द भी हो सकता है।

5G टावर लगाने के नियम

यहाँ पर आपको एक के बाद एक स्टेप्स बताए गए हैं जिसका अनुसरण कर आप आसानी से अपने इलाक़े में या अपने घर के पास मोबाइल टावर लगवा सकते हैं :-

  • आस-पास के व्यवसायों की निगरानी के लिए एक सख्त प्रोटोकॉल की आवश्यकता है। स्पष्ट कारणों से, शिक्षण संस्थानों या चिकित्सा सुविधाओं के करीब टावर लगाना कानून के खिलाफ है।
  • पूरे भूखंड के आकार और भूखंड पर इमारतों की संख्या और ऊंचाई को प्रदर्शित करने वाली साइट योजना भी प्रदान करनी होती है।
  • टावरों की ऊंचाई दर्शाने वाले संरचनात्मक स्थिरता के एक इंजीनियर के प्रमाणपत्र की आवश्यकता होती है। मोबाइल टावर का वजन संरचना के लिए ही समस्या नहीं होनी चाहिए।
  • कानूनी अधिभोग प्रमाणपत्र, साथ ही भवन की स्वीकृत योजना की प्रमाणित प्रति भी होनी चाहिए।
  • किसी वस्तु पर स्वामी के अधिकार को प्रमाणित करने वाले दस्तावेज स्वामित्व कहलाते हैं। इन्हें भी आपको समय आने पर प्रदर्शित करना होगा।
  • आवेदक और भवन के मालिक ने स्थापना के लिए सहमति दी है, जैसा कि पट्टा समझौते द्वारा दिखाया गया है जो उनके समझौते को दर्शाता है।
  • एक टावर की नींव और डिजाइन विनिर्देशों की विस्तृत ड्राइंग भी दिखाना होगा।
  • टावर की ऊंचाई सहित ऊंचाई डेटा प्रदान किया जाना चाहिए। अन्यथा आपका application रद्द हो सकता है।
  • यदि प्रस्तावित स्थान में उच्च या निम्न तनाव बिजली के तार हैं, तो टावर और लाइनों के बीच की दूरी दिखाने वाली कागजी कार्रवाई की आवश्यकता है।
  • मीट्रिक टन में मापा गया, टावर की ऊंचाई।
  • इस स्थापना के कारण होने वाली घटनाओं के लिए जिम्मेदारी स्वीकार करना और आवश्यक होने पर उचित मुआवजे का भुगतान करने का वचन देना क्षतिपूर्ति अनुबंध के दोनों भाग हैं। इन सभी को भी भली भाँति अपने दस्तावेज़ों में दर्शाना।
  • अग्निशमन विभाग का अनुमोदन पत्र।
  • पर्यावरण (संरक्षण) अधिनियम, 1986 के अनुरूप दिखाने वाले सभी आवश्यक कागजात की प्रतियां।
  • टीईआरएम सेल या इसी तरह के संगठन से प्राप्त पुष्टि कि सभी सार्वजनिक स्थान इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन (ईएमआर) के संपर्क से सुरक्षित हैं।

परियोजना की समय-सीमा दो साल की समाप्ति समय सीमा के लिए कहती है। यदि अनुमति समाप्त नहीं होती है, तो मूल परमिट की समय सीमा समाप्त होने से पहले अनुरोध किए जाने पर इसे शुल्क के लिए बढ़ाया जा सकता है।

एक माह के भीतर टावर के निर्माण की अनुमति मिलनी चाहिए। मोबाइल टावर लग जाने के बाद तीन महीने के अंदर सरकारी गजट में दिखना चाहिए। यदि कार्रवाई नहीं की गई तो टावर को गिरा दिया जाएगा। इन सभी बातों का आपको सही से ख़्याल रखना होगा।

क्या 5G टावर लगाने के लिए रिलायंस जियो आपको हर महीने 50,000 रुपये तक का भुगतान करेगा?

मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली टेल्को ने अब अपने नेटवर्क की गुणवत्ता में सुधार करने की योजना शुरू की है, और रुपये तक का भुगतान करने की पेशकश कर रही है। 50,000 प्रति माह किराया के रूप में जो कोई भी अपनी संपत्ति पर एक टावर स्थापित करने के इच्छुक है।

आपको बस एक बड़ी छत या जमीन चाहिए, और आप स्थापना के लिए आवेदन करने के पात्र होंगे। किराया इस बात पर निर्भर करता है कि किसी विशेष क्षेत्र में कंपनी को अपने नेटवर्क को कितनी बुरी तरह से सुधारने की आवश्यकता है, और यह भी कि आपकी संपत्ति ग्रामीण या शहरी स्थान पर है या नहीं।

यहां यह ध्यान देने योग्य है कि रिलायंस जियो रुपये के बीच की पेशकश कर रहा था। 25,000 और रु. 30,000 प्रति माह किराए के रूप में अब तक, न्यूनतम आवश्यकताओं के साथ जमीन पर 2,000 वर्ग फुट या छत पर 500 वर्ग फुट का क्षेत्र होना चाहिए। लेकिन ध्यान दें की आपको कभी भी किसी भी रूप से पहले पैसों का भुक्तान नहीं करना चाहिए। वहीं आपको केवल अफ़िशल कम्पनी को ही अपना दस्तावेज देना चाहिए।

मोबाइल टावर के निर्माण के क्या फायदे हैं?

मोबाइल टावर लगाने का मासिक किराया 8,000 रुपये प्रति माह और एक लाख रुपये प्रति माह के बीच हो सकता है, और मुंबई जैसे मेट्रो शहरों में यह कुछ लाख रुपये तक जा सकता है।

मोबाइल टावर के निर्माण में क्या नुकसान है?

कई अध्ययनों से यह भी पता चलता है कि सेल टावरों से कैंसर हो सकता है क्योंकि वे गैर-आयनीकरण, उच्च रेडियो फ्रीक्वेंसी (आरएफ) तरंगों का उत्सर्जन करते हैं।

मोबाइल टावर लगाने के लिए कंपनियों से कैसे संपर्क करें?

मोबाइल टावर लगाने के लिए अपनी संपत्ति को किराये पर देने का सबसे अच्छा तरीका टावर कंपनियों से सीधे संपर्क करना है। मोबाइल टावर लगाने के लिए उपलब्ध कंपनियों के बारे में अधिक जानने के लिए आप दूरसंचार विभाग की वेबसाइट पर भी जा सकते हैं।

आज आपने क्या सीखा?

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख 5G टावर कैसे लगवाये जरुर पसंद आई होगी। इसे पढ़ने के बाद आप आसानी से 5G उपलब्ध शहरों की सूची समझ गए होंगे। मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को 5G Tower की पूरी जानकारी के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है।

इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे। यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं।

यदि आपको यह लेख 5G Tower के लिए क्या प्रावधान है पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये।

पिछला लेख5G क्या है और ये इंडिया मे कब आएगा?
अगला लेखCPU क्या है और कैसे काम करता है?
नमस्कार दोस्तों, मैं Prabhanjan, HindiMe(हिन्दीमे) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Enginnering Graduate हूँ. मुझे नयी नयी Technology से सम्बंधित चीज़ों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे. :) #We HindiMe Team Support DIGITAL INDIA

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here