Anode और Cathode क्या है?

एनोड और कैथोड क्या है? जब भी हम batteries के बारे में सोचते हैं तब हमें Cathode और Anode के विषय में जरुर याद आता है. एक समय था जब मुझे इन दोनों में फर्क मालूम नहीं पड़ता था और इसलिए मैंने कई बार अपने शिक्षकों से डांट भी खायी है. क्यूंकि इन दोनों में एक मामूली सा ही फर्क होता है लेकिन अगर पता न हो तब circuits या उससे सम्बंधित चीज़ों को ठीक से समझा नहीं जा सकता है. अब सवाल उठता है की आखिर ये Cathode और Anode क्या है? मुझे उम्मीद है की आपको इसके विषय में पता हो, या फिर हो सकता है आप भी मेरे ही तरह इन दोनों में फरक अभी तक भी ठीक से न बता प् रहे हों. लेकिन घबराने की कोई भी बात नहीं है क्यूंकि आज इस article Cathode और Anode क्या है में हमने इसी सन्धर्व में बातचीत करने का विचार किया है.

वैसे किसी एक battery में भी जो दो ends होते हैं उनमें से एक Cathode होता है वहीँ दूसरा Anode होता है. इसमें जिस बात पर ज्यादा doubt उत्पन्न होता है वो होता है की कौन सा terminal Anode है या Cathode है कैसे पता करें और वो Positive है या फिर Negative होता है. इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को Cathode और Anode क्या है? के विषय में पूरी जानकारी प्रदान करें जिससे की आपके सभी doubts clear ही जाएँ. तो बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं और Anode और Cathode क्या होता है in hindi के बारे में जानते हैं.

Current का Flow क्या होता है?

Anode और Cathode को Current के Flow से define किया जा सकता है. आमतोर से बात करें तब, current का अर्थ होता है electrical charge का movement. वो movement चाहे किसी भी direction में हो ये Current कहलाती है. ये बात अपने मन में बैठा लें की Current की Direction Positive Charge के movement के ऊपर निर्भर करती है न की Negative Charge के ऊपर.

इसका एक और अर्थ भी है की Curent की movement हमेशा Electon के movement के विपरीत होती है. अब आप सोच रहे होंगे की किसने ऐसा define किया है? तब इसका जवाब शायद ही आपको कोई दे सके क्यूंकि यही standard होता है, जिसे की सबने universally मान लिया है. Current उसी direction में flow करता है जिस direction में positive charge carriers move करती है. वहीँ हम इसे ऐसे भी सोच सकते हैं की Current हमेशा negative charge carriers के movement के विपरीत move करती है.

Cathode की Characteristics क्या है?

1.  Cathode एक negatively charged electrode होती है.

2.  ये cathode attracts करती है cations या positive charge.

3.  ये cathode electrons का source होता है या आप इसे एक electron donor भी कह सकते हैं. ये positive charge भी accept करती है.

4.  क्यूंकि cathode electrons generate करती हैं, जो की typically electrical species होते हैं जो की actual movement करते हैं, आप ये भी कह सकते हैं की cathodes charge generate करती हैं और current move करती है cathode से anode तक. ये थोडा confusing लग सकता है, क्यूंकि Current का direction निर्भर करता है positive charge किस direction में move कर रही हैं. बस एक चीज़ याद रखें की charged particles की कोई भी movement को current कहा जाता है.

Anode की Characteristics क्या है?

  • Anode positively charged electrode होता है.
  • ये anode attract करता है electrons या anions को.
  • ये anode एक source होता है positive charge या एक electron acceptor का.

Cathode और Anode की एक महत्वपूर्ण बात?

एक बात का याद रखें की, charge किसी भी direction में flow कर सकती है, चाहे वो positive से negative हो या negative से positive हो. इसी कारण ये anode positively charged हो सकता है या negatively charged, ये situation पर निर्भर करता है. और यही समान चीज़ cathode पर भी लागु होता है.

Anode और Cathode क्या है

Anode Cathode Kya Hai Hindi

इन दोनों terms cathode और anode का इस्तमाल एक Polarised Electrical Device के terminals को refer करने के लिए किया जाता है. इन दोनों में जो मुख्य difference होता है वो ये की, anode एक ऐसा terminal होता है जहाँ की (conventional) current device के भीतर flows करता है बाहर से, वहीँ cathode एक ऐसा terminal होता है जहाँ की (conventional) current flows device से बाहर जाता है.

लेकिन ध्यान दें की, यह usage कुछ instances में लागु नहीं होता है क्यूंकि जब एक device एक reversible process से गुजरता है, तब वहीँ terminal जिसे की “anode” कहा जाता है उसे अब “cathode” कहा जायेगा. इसमें जायज सी बात है की बहुत सी confusion उत्पन्न होंगी और इसलिए बेहतर होगा की हम पहले के General Standard usage को ही consider करें specific field में.

Anode क्या है?

वह टर्मिनल है जहां (पारंपरिक) प्रवाह बाहर से डिवाइस में बहता है. इसका मतलब है कि एनोड पर डिवाइस से इलेक्ट्रान बहती है.

Cathode क्या है?

कैथोड टर्मिनल है जहां (पारंपरिक) वर्तमान डिवाइस से बहती है. इसका मतलब यह है कि इलेक्ट्रॉन इस टर्मिनल में बाहर से बहते हैं.

Anode और Cathode के अंतर को आसानी से याद कैसे रखे

अक्सत students को Andoe और Cathode में काफी doubts होती है, उन्हें इन दोनों को सही तरीके से पहचानने में बड़ी दिक्कत आती है. तो चलिए एक बढ़िया सी trick के बारे में जानते हैं जिससे आपको इन दोनों को पहचानने में आगे कभी और दिक्कत नहीं आने वाली है.

‘A’no’D’e वो होता है जो की ‘ADD’s electrons करता है दूसरों में, जिससे उसकी elctrons की संख्या कम हो जाती है, इससे ये positive electrode बन जाता है.

वहीँ ‘CAT’hode ‘CAT’ches electrons (catch करता है Electrons को) दूसरों से और ऐसा करने से वो खुद negative बन जाता है, इससे ये negative electrode बन जाता है.

Cathode किरणों की खोज किसने की थी?

CRT (Cathode Ray Tube) की earliest version को “Braun tube” भी कहा जाता है, और इसे एक German physicist Ferdinand Braun ने सन 1897 में खोज की थी. यह एक cold-cathode diode था, जो की एक modification था Crookes tube की जिसमें एक phosphor-coated screen का इस्तमाल किया गया था.

Anode Rays (किरणों) की खोज किसने की थी?

Anode rays की खोज Eugen Goldstein ने सन 1886 में की थी. एक anode ray (जिसे की positive ray या canal ray भी कहा जाता है) ऐसा positive ions का beam होता है जिसे की कुछ specific types के gas-discharge tubes से create किया जाता है. उन्हें सबसे पहले observe किया गया था Crookes tubes में experiment करने के दौरान. ये Experiments एक German scientist Eugen Goldstein के द्वारा सन 1886 में किया गया था.

Conclusion

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Anode और Cathode क्या है जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को कैथोड किरण क्या है के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं. यदि आपको यह post कैथोड एनोड क्या है हिंदी में पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

5 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here