म्यूचुअल फंड की जानकारी

आप सभी ने Mutual Fund के बारे में सुना ही होगा। वर्तमान में यह निवेश करने का बढ़िया तरीका है, इसमें आप छोटी रकम से लेकर बड़ी रकम तक निवेश कर सकते है।

आप भी अगर म्यूचल फंड में पैसा लगाना चाहते है तो सबसे पहले आपको इसकी पूरी जानकारी होनी चाहिए। आज के लेख में हम आपको म्यूचुअल फंड प्राथमिक जानकारी प्रदान करेंगे जो आपके लिए बहुत मददगार साबित होगी।

अनुक्रम दिखाएँ

म्यूचुअल फंड क्या है?

Mutual Fund एक ऐसा Fund है जहां बहुत सारे इन्वेस्टर्स का पैसा इकट्ठा करके अलग-अलग निवेश किया जाता है। सरल शब्दों में कहा जाए, तो यहां बहुत सारे लोग अपना पैसा लगाते है जिसे कंपनी अपने बिजनेस में प्रयोग करती है और ज्यादा से ज्यादा मुनाफा इन्वेस्टर्स को देती है।

mutual fund ki jankari hindi me

म्यूचुअल फंड उद्योग की नींव कब रखी गई थी?

भारत सरकार के द्वारा वर्ष 1963 में यूनिट ट्रस्ट ऑफ इंडिया (UTI)  का गठन किया गया था। इसका उद्देश्य म्यूचुअल फंड उद्योग को लोगों के बीच लाना था। यह शुरुआत में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के अधीन था, परंतु 1978 में इसके सारे अधिकार IDBI Bank को दे दिए गए।

म्यूचुअल फंड की देख रेख कौन करता है?

Mutual Fund की सभी गतिविधियों को देखने का कार्य Fund Manager करता है। इसका काम म्यूचुअल फंड में आ रहे पैसे का सही तरीके से हिसाब किताब करना व पैसे को सही जगह लगाकर अधिक से अधिक मुनाफा निवेशकों को देना होता है। 

म्यूचुअल फंड कैसे काम करता है?

Mutual Fund में निवेश करने के लिए बहुत बड़ी रकम की आवश्यकता नहीं होती आप 500 रुपए प्रतिमाह भी लगा सकते है। इन छोटी-छोटी रकम को कंपनी इकट्ठा करके बड़ी रकम बनाती है और फिर अलग-अलग व बड़ी कंपनियों के stock खरीद लिए जाते है। इन कंपनियों के एक्सपर्ट यह बात अच्छे से जानते है कि कब कौन से शेयर में उछाल होगा व कब गिरावट। 

यह जमा किए पैसे को अलग-अलग कंपनी के stock में लगाते है ताकि किसी एक कंपनी से नुकसान हो तो दूसरी कंपनी के लाभ से पैसा रिकवर कर लिया जाए। यहां महत्वपूर्ण बात यह भी है कि अगर आप लंबे समय के लिए पैसा लगाते है तो अधिक मुनाफा होगा।

NAV क्या है?

NAV का अर्थ है Net Value Asset. NAV की डिमांड पर ही शेयर खरीदे या बेचे जाते है। यह Mutual Fund के एक यूनिट की कीमत होती है और Mutual Fund की scheme की परफॉर्मेंस को दर्शाता है। म्यूच्यूअल फंड कंपनी के द्वारा कभी भी अपना नया यूनिट बनाया जाता है ताकि इन्वेस्टमेंट की रकम को बढ़ाया जा सके।

म्यूचुअल फंड के प्रकार

म्यूच्यूअल फंड सिर्फ एक प्रकार का नहीं होता है इसके भी कई प्रकार है जो निम्नलिखित है:

Equity Mutual Fund

Equity Mutual Fund मे इन्वेस्टर्स लंबे समय के लिए पैसे को जमा करते है तभी इसमें आपको बेहतरीन रिटर्न प्राप्त होता है। इसमें कम समय के लिए निवेश करना घाटे का सौदा हो सकता है।

Debt Mutual Fund

Debt Mutual Fund मे आप 5 साल से कम अवधि के लिए पैसा लगा सकते है। इसमें बैंक आपको Fixed Deposit पर बेहतर रिटर्न देती है।

Hybrid Mutual Fund

Hybrid Mutual Fund में आपको Equity Mutual Fund व Debt Mutual Fund दोनों का फायदा मिलता है, परंतु इसमें निवेश करते समय खास ध्यान रखना चाहिए।

Solution Oriented Scheme

यह आपके और आपके परिवार के भविष्य के लिए बेहतरीन स्कीम है। इसमें आपको कम से कम 5 साल तक पैसा जमा करना होता है ताकि आप अपने बच्चों की शिक्षा, शादी व अपने रिटायरमेंट के बाद अच्छे से जीवन व्यतीत कर सके यानि जो पैसा आप इसमें लगाते है वह एक लंबे समय के लिए जमा करना पड़ता है।

म्यूचुअल फंड को कौन रेगुलेट करता है?

Mutual Fund को रेगुलेट करने का काम SEBI (Securities Exchange Board of India) के द्वारा किया जाता है। यह फंड हाउस पर नियंत्रण रखती है ताकि निवेशकों के साथ धोखाधड़ी ना हो। 

म्यूचुअल फंड House के चार्जेस क्या होते है?

Mutual Fund में निवेश करने से पहले आपको उसके खर्च और शुल्क के बारे में जानकारी होनी चाहिए। म्युचुअल फंड हाउस अपनी सेवाएं प्रदान करने के बदले आप से Exchange Ratio Charges लेता है। यह 0.25% से लेकर 3% तक होता है। 

म्यूचुअल फंड मे इन्वेस्ट कैसे करें?

Mutual Fund में आप Offline या Online दोनों तरीकों से इन्वेस्ट कर सकते है, तो चलिए इनके बारे में जानते है:

Offline: आप सीधे म्यूच्यूअल फंड कंपनी में जाकर वहां से फॉर्म प्राप्त कर सकते है। इससे आपको सीधे निवेश का फायदा मिलेगा, लेकिन अगर आप किसी डिस्ट्रीब्यूटर के जरिए म्यूचुअल फंड इंवेस्टमेंट का फॉर्म भरते है तो कुछ प्रतिशत आपको उन्हें देना होगा।

Online: यहां आप म्यूच्यूअल फंड कंपनी की website पर जाकर स्वयं फॉर्म भर सकते है। इसके लिए आपकी KYC की जाती है तो आप जरूरी दस्तावेज जैसे पैन कार्ड, बैंक पासबुक व आधार कार्ड आदि अपने पास रखें।

Groww App (Android) : Sign Up Now

इस link के जरिये आपको पहले Groww App में sign up करना होगा अगर आपके पास पहले से account नहीं है तब. वहीँ एक बार आपने account बना दिया तब आप आसानी से इस app के माध्यम से Mutual Fund में पैसे invest कर सकते हैं.

म्यूचुअल फंड में निवेश करते समय ध्यान देने योग्य बाते

म्यूचुअल फंड में पैसा लगाते समय कुछ बातों का ध्यान रखना आवश्यक है तभी आप यहां से मुनाफा प्राप्त कर सकते है:

  • म्यूचुअल फंड में पैसा लगाने से पहले किसी अनुभवी व्यक्ति से विचार विमर्श करें ताकि आपको म्यूच्यूअल फंड की सभी जानकारियां प्राप्त हो सके
  • सबसे पहले ऐसी कंपनी का चुनाव करें जिस का पुराना रिकॉर्ड अच्छा रहा हो और वहां से निवेशकों को मुनाफा हुआ हो
  • जो कैटेगरी आपको बेहतरीन Net Value Asset  दे उसका चुनाव करे।

म्यूचुअल फंड और शेयर मार्किट में क्या फर्क है?

Share Market में पैसा लगाकर मुनाफा प्राप्त किया जाता है, म्यूचुअल फंड भी उसी प्रकार कार्य करता है बस इसमें यह फर्क है कि शेयर मार्केट में risk के चांस ज्यादा होते है, लेकिन म्यूचुअल फंड में आप पैसा सुरक्षित रख सकते है और मुनाफा कमा सकते है साथ ही आपसे Tax भी नहीं लिया जाता है।

म्यूचुअल फंड को रेगुलेट करने का कार्य किसका है?

म्यूचुअल फंड को रेगुलेट करने का कार्य Securities Exchange Board of India का है।

म्यूचुअल फंड House कितने प्रतिशत तक चार्जेस लेती है?

म्यूचुअल फंड House 0.25% से लेकर 3% तक की चार्जेस लेती है।

म्यूचुअल फंड में कम से कम कितना पैसा लगाकर शुरुआत कर सकते है?

म्यूचुअल फंड में कम से कम 500 रुपए प्रतिमाह लगाकर शुरुआत कर सकते है।

आज आप ने क्या सिखा?

मुझे पूर्ण आशा है की मैंने आप लोगों को म्यूचुअल फंड की प्राथमिक जानकारी के बारे में पूरी जानकारी दी। और में आशा करता हूँ आप लोगों को Mutual Fund में निवेश के बारे में समझ आ गया होगा.

मेरा आप सभी पाठकों से गुजारिस है की आप लोग भी इस जानकारी को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में Share करें, जिससे की हमारे बिच जागरूकता होगी और इससे सबको बहुत लाभ होगा. मुझे आप लोगों की सहयोग की आवश्यकता है जिससे मैं और भी नयी जानकारी आप लोगों तक पहुंचा सकूँ.

आपको यह लेख म्यूचुअल फंड की जानकारी कैसा लगा हमें comment लिखकर जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले.मेरे पोस्ट के प्रति अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

Previous articleट्री टोपोलॉजी किसे कहते हैं?
Next articleमेष टोपोलॉजी किसे कहते हैं?
नमस्कार दोस्तों, मैं Prabhanjan, HindiMe(हिन्दीमे) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Enginnering Graduate हूँ. मुझे नयी नयी Technology से सम्बंधित चीज़ों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे. :) #We HindiMe Team Support DIGITAL INDIA

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here