Insurance क्या है और बीमा कितने प्रकार के होते हैं?

क्या आप जानते हैं की इन्शुरन्स या बीमा क्या है (What is insurance in Hindi)? क्यूँ हम सभी को अपने जीवन की या अपने property की बीमा जरुर से करनी आवश्यक होती है, वहीँ Insurance या बीमा के प्रकार कितने होते हैं इत्यादि. यदि आपके मन में भी Insurance या बीमा को लेकर कुछ doubts हैं तब आप इस post को अंत तक जरुर पढ़ें क्यूंकि आज हम Insurance के सभी पहलूवों के विषय में जानेंगे.

जैसे की हम सभी जानते हैं की किसी भी इन्सान का जीवन और संपत्ति दोनों ही मृत्यु, असक्षमता और बर्बादी से घिरी हुई होती है. किसी को ये नहीं मालूम की अगले ही पल उनके साथ क्या होने वाला है. वहीँ ऐसी दुर्घटनाओं से आपको बहुत ज्यादा financial losses हो सकते हैं. वहीँ ऐसे अवस्था से खुद को रक्षा करने के लिए Insurance एक बहुत ही बेहतरीन तरीका है जिससे इन risks को बहुत हद तक दूर किया जा सकता है.

वहीँ इन insurance schemes से इन risks का पूरा उत्तरदायित्व insurance company द्वारा संभाला जाता है. Insurance हमें बचाती हैं बहुत से risks से जैसे की घर में आग लगना, car accident का होना, घर में चोरी होना. वहीँ ऐसे में कुछ insurance के प्रकार हैं जो की आपके बीमारी के इलाज के लिए पैसे भी प्रदान करते हैं, वहीँ आपके मौत होने पर आपके परिवारवर्ग को ये insurance amount भी पेश करते हैं.

वहीँ अगर आपको Insurance क्या होता है विषय में और अधिक जानना है तब आपको ये article बीमा क्या होता है पूरी तरीके से पढना होगा. जिससे आपको इसके विषय में पूरी जानकारी प्राप्त होगी. तो फिर बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं.

बीमा क्या है – What is Insurance in Hindi

Insurance Kya Hai Hindi

Insurance एक तरह का legal agreement होता है दो two parties के बीच जो हैं पहला बीमा company (जो insurance देता है या insurer) और दूसरा है वो individual (जो insurance लेता है या insured).

इसमें insurance company ये वादा करती है की अगर कभी कुछ अनहोनी या अकस्मातिक घटना हो जाती हैं तब Company ही सभी चीज़ों का उत्तर्दियी लेने वाली है. वहीँ जितनी भी चीज़ों का नुकशान हुआ होगा वो सभी company ही पूर्ण करेगी.

इस प्रकार के घटनाओं को आकस्मिकता कहा जाता है क्यूंकि इन घटनाओं का कोई ठीकाना नहीं होता है की वो कब घटित होने वाले हैं. इसमें insurance company को सभी नुकशान की भरपाई करनी पड़ती है जैसे की उन्होंने पहले वादा किया था.

बीमा के सिद्धांत – Principles of Insurance in Hindi

जब आप कोई insurance खरीदते हैं insurance company से तब insurer (जो की company होती है) और insured (जो की आप होते हैं) को एक legal contract प्राप्त होता है insurance का, इसे ही insurance policy कहा जाता है.

इस insurance policy में वो सभी details होते हैं जिनके विषय में आपको जानना चाहिए जैसे की वो सभी conditions और circumstances जिसके under की insurance company आपको आपका insurance amount pay करने वाली है यदि कोई loss होता है तब, यदि आपको नहीं तब आपके द्वारा चयन किया गया nominee.

Insurance एक बहुत ही बढ़िया तरीका होता है खुदको और खुदके परिवार को किसी भी financial loss से बचाता है. अक्सर ये पाया गया है की जितनी बड़ी insurance cover होती है उतनी ही छोटी premium भी होती है. ऐसा शायद इसलिए क्यूंकि इस प्रकार के insurance को claim बहुत ही कम लोग करते हैं लेकिन उन्हें इसके लिए सभी premium भरने होते हैं. इसलिए company की इसमें ज्यादा फायेदा होता है.

कोई भी इन्सान या company insurance प्राप्त करने के लिए अर्जी कर सकता है लेकिन उस किस प्रकार का insurance प्रदान करना है ये बात insurance company तय करती है. इसके लिए insurance company आपके application को भली भांति evaluate करती है आपको कोई decision सुनाने से पहले. वहीँ ज्यादातर समय comapny high-risk applicants को insurance प्रदान करने से मुकरती है.

इन्सुरांस के साथ माजरा ये है की, आपको पहले चुनना होता है की आपको किस चीज़ पर insurance चाहिए.
उसके बाद insurer उसका risk calculate करता है, और सब कुछ जांच लेने के बाद ही आपको बताता है की आपको कितना premium भरना पड़ेगा.

1. Policy का चुनाव करें

एक insurance policy ऐसा एक document होता है जिसमें की आपको उसके विषय में सभी details लिखी गयी होती है. जैसे की किन चीज़ों के लिए आपको insurance मिलती है और किन चीज़ों के लिए नहीं.

2. Premium Pay करें

Premium उस amount को कहा जाता है जो की आप प्रत्येक महीने या फिर साल में एक बार pay करते हैं आपके policy के हिसाब से. इसकी amount इस बात पर निर्भर करती है की ये insurance किन चीज़ों को cover कर रहा है.

3. Claim करना

अगर insurance period के भीतर कुछ अनहोनी घटित हो जाती है तब आप या आपका nominee अपना insurance claim कर सकते हैं. इसमें आपको अपने हादसे का पूरा विवरण देना होता है जिसे की insurance company check करती है और अगर आपका claim सभी जगहों से ठीक हो तब आपको अपना claimed amount मिल जाता है जैसे की पहले तय हुआ था.

बीमा कितने प्रकार के होते हैं – Types of Insurance in Hindi

वैसे तो Insurance के बहुत से प्रकार हैं लेकिन यहाँ पर हम कुछ महत्वपूर्ण प्रकारों के विषय में जानेंगे.

1. जीवन बीमा – Life Insurance in Hindi

जैसे की नाम से पता चलता है की, life insurance में आपके जीवन की बीमा की जाती है. आप life insurance इसलिए खरीदते हैं ताकि आपके न होने पर भी आपका परिवार किसी के ऊपर dependent न हो और खुद financially secured हों.

Life insurance उन लोगों के लिए बहुत important हो जाता है जब आप अकेले ही अपना परिवार में कमाने वाले होते हैं और पूरा परिवार आप पर ही निर्भर करता है.

2. स्वास्थ्य बीमा – Health Insurance in Hindi

Health insurance को medical treatments के खर्चे को cover करने के लिए लिया जाता है. इसमें भी बहुत से प्रकार के health insurance policies होते हैं जो की अलग अलग diseases और ailments को cover करती हैं.
आप एक generic health insurance policy भी ले सकते हैं या फिर कोई specific policy किसी disease के लिए भी ले सकते हैं. इसमें जो premium pay किया जाता है वो सभी प्रकार के treatment, hospitalization और medication costs को cover करता है.

3. कार बीमा – Car Insurance in Hindi

वैसे ही Car Insurance से आप अपने Car को insured कर सकते हैं. यदि कोई भी दुर्घटना घटित होनी है तब आपको इसका मुआवजा प्राप्त होता है.

4. शिक्षा बीमा – Education Insurance in Hindi

इस insurance में आप अपने बच्चे के सही education के लिए पैसे जमा कर रहे होते हैं और वो सही समय आने पर आपको एक lumpsum amount के तोर पर मिलता है अपने बच्चे के education के लिए.

5. गृह बीमा – Home Insurance in Hindi

यदि आपने अपना घर बना लिया है तब आपको जरुर से home insurance खरीद लेना चाहिए क्यूंकि इससे आपके घर को यदि कोई भी damage होती है फिर चाहे वो fire हो, कोई प्राकृतिक विपदा हो या कुछ और, सभी चीज़ों में आपको अपना मुआवजा प्राप्त होता है.

इन्शुरन्स लेने से क्या टैक्स लाभ भी प्राप्त होता है?

Insurance लेने के और भी फायेदे हैं safety, security benefits को छोड़कर. इससे आपको tax benefits भी प्राप्त होता है.

1. Life insurance premium वो भी up to ₹1.5 lakh तक को आप claim कर सकते हैं एक tax-saving deduction के तोर पर under Section 80C

2. Medical insurance premium वो भी up to ₹25,000 खुदके लिए और अपने परिवार के लिए, वहीँ ₹25,000 अपने माता पिता के लिए को आप claim कर सकते हैं एक tax-saving deduction के तोर पर under Section 80D

इन claims को आपको करना होता है e-filing income tax returns भरने के समय में.

Insurance Claim कैसे किया जाता है?

चलिए अब जानते हैं की आप कैसे अपना Insurance amount claim कर सकते हैं.

1. इसके लिए आपको पहले अपना claim करना होगा आपके insurance policy के against.

2. अब आपको सभी details प्रदान करना होगा आपके loss के विषय में जो की आपने suffer किया है. ये differ करता है insurance से insurance.

3. फिर आपको सभी bills/proof आपके damage, loss, hospitalisation, इत्यादि के submit करने होते हैं.

4. अब आपका काम यहीं पर ख़त्म हो जाता है, अब insurance company आपके claim को verify करेंगी.

5. वहीँ आपका claim यदि सही साबित हुआ तब आपको अपना claimed amount प्राप्त हो जाता है, आपके loss के अनुसार.

बीमा के कार्य

Insurance एक process के तोर पर evolve हुआ है जो की लोगों के loss और uncertainty की रक्षा करता है. इसे एक social device के तोर पर describe किया जाता है life और property का loss को कम करने में.

Insurance society में general economic growth को बढ़ावा देता है जिससे society की process सही तरीके से stability के साथ चल सके. Insurance industries develop करते हैं ऐसे financial institutions जो की आगे चलकर uncertainties और risks को कम करने में मदद प्रदान करते हैं.

1. Safety और Security प्रदान करते हैं

Insurance प्रदान करते हैं financial support और उसके साथ uncertainties को कम भी करते हैं business और human life में. ये किसी particular event के against safety और security प्रदान करता है.
चूँकि हमेशा sudden loss होने का डर होता है, ऐसे में इसे कम करने में Insurance का बड़ा हाथ होता है.

2. Financial resources generate करती है

Insurance generate करती हैं funds, premium को collect कर. इन funds को invest किया जाता है government securities और stocks में. इन funds को देश के industrial development में इस्तमाल किया जाता है जिससे की देश का economic development हो सके. वहीँ Employment opportunities को भी बढ़ावा मिलता है.

3. Life insurance savings को बढ़ावा देती है

Insurance केवल risks और uncertainties से ही आपकी रक्षा नहीं करती है, बल्कि ये एक investment channel भी प्रदान करती है. Life insurance हमें enable करती है systematic savings करने के लिए regular premium भरने के तोर पर. वहीँ Life insurance एक investment का mode भी प्रदान करती है.
ये हम में money saving करने की आदत पैदा करती है. Premium का जो lumpsum amount होता है वो हमें maturity के समय में matured amount के हिसाब से अंत में प्राप्त होता है. इसलिए insurance savings करने के लिए encourage करती है.

बीमा की परिभाषा – importance of insurance in Hindi

4. Promote करती है economic growth:
Insurance generate करती हैं significant impact हमारे economy पर वो भी domestic savings को mobilize कर.
Insurance इस accumulated capital को productive investments का रूप प्रदान करती है. Insurance enable करती है loss को mitigate करने में, financial stability करने में और trade को promote करती है, साथ में trade और commerce activities बढ़ावा प्रदान करती है जिससे अंत में economic growth और development प्रदान करती है. इसलिए, insurance economy की sustainable growth में एक अहम् भूमिका निभाते हैं.

5. Medical support:
Medical insurance को बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है heath के risk को manage करने के लिए. क्यूंकि हम में से कोई भी कभी भी बीमार पड़ सकता है, जिसमें बहुत खर्चा हो सकता है. वहीँ अगर आपके पास medical insurance हो तब ये आपके बड़े खर्चे को cover कर देती है जिससे आपकी काफी मदद हो सकती है ऐसे परिस्तिथों में.

6. Risk को Spread करने में :
Insurance हमारे risk को spread करने में मदद करती है. जिससे वो हमें बड़े losses से रक्षा प्रदान करती है.

7. Funds Collect का एक बड़ा Source होता है :
Large funds को premium के द्वारा आसानी से collect किया जा सकता है. इन funds को country के development में इस्तमाल किया जा सकता है, जिससे देश की economic growth होती है.

बीमा के फायदे

वैसे तो Insurance किसी भी individual, family businessman, businesses के साथ साथ society को भी बहुत फायेदा पहुंचाती है. वहीँ चलिए इसके कुछ महत्वपूर्ण advantages के विषय में जानते हैं : –

1. Insurance प्रदान करती है economic और financial protection, insured व्यक्ति या चीज़ को जिसका insurance कराया गया हो, वो भी एक nominal amount में जिसे की premium कहा जाता है.
वहीँ ये financial protection प्रदान करती है nominee को यदि कहीं insured व्यक्ति के pre-matured death हो जाती है तब. इसके साथ ये बहुत से loss को भी cover करती है जैसे की property का loss चोरी होने के कारण से, किसी अग्निकांड से या फिर कोई प्राकृतिक विपदा से.

2. वहीँ ये लोगों के risks को कम करती है जो की अन्यथा उनके लिए बड़े losses का कारण बन सकते थे. वैसे तो पूरी तरह से risks और uncertainities को हटाना मुमकिन नहीं है लेकिन इसे बहुत हद तक कम किया जा सकता है. इसलिए insurance company आपके risks को कमाने के लिय आपसे छोटा सा premium charge करती हैं.

3. ये लोगों के standard of living को maintain करने में मदद प्रदान करती है अगर कोई ऐसी unexpected loss हो जाता है तब. वहीँ unfortunate financial crisis से भी ये हमारी रक्षा करती है.

4. चूँकि Insurance में हमें कुछ premium pay करना होता है, जिसके लिए हमें ये saving करने पर प्रोत्साहना प्रदान करती है. जिससे saving करना हमारा एक habit बन जाता है.

5. ये हमें किसी दुसरे पर dependent होने से रक्षा करती है. जिससे की आप अपना जीवन अपने ढंग से जी सकें और हमें सशक्त बनाती है. ये life insurance policy हमें full financial support प्रदान करती है अगर किसी की death हो जाये तब.

6. ये Loan लेने में भी मदद प्रदान करती है. यदि आपकी कोई policy चल रही है तब आप उस policy के आधार पर insurance company से loan ले सकते हैं. जिसमें इस policy को collateral के हिसाब से रखा जाता है.

7. ये नयी नयी employment opportunities प्रदान करती है सभी के लिए. इस आधुनिक युग में सेकड़ों entrepreneurs और हजारों employees इसी लाइन में engaged हैं.

8. Foreign Trade को Promote करती है. किसी देश के international trade को बढ़ावा देने में insurance companies का बहुत बड़ा हाथ होता है. क्यूंकि Insurance करने से इन businesses का risks बहुत कम हो जाता है, जिससे वो मनचाहे export activities कर सकते हैं अपने businesses की.

9. Businesses को smoothly operate करने में insurance companies का बहुत बड़ा हाथ होता है. क्यूंकि इससे properties का loss divide हो जाता है. वहीँ employees का insurance company के द्वारा कराने से employees का motivation बढ़ा हुआ होता है.

10. ये inflation को कम करने में मदद करती है. Inflation को कम करने के लिए money की volume को कम करना होता है. वहीँ insurance companies लोगों से premium के तोर पर पैसे ले जाने से inflation को कम करने में सहायता मिलती है.

11. इन premium amounts को बहुत से development areas जैसे की trade और industry में खर्च किया जाता है. जिससे country का economic growth होता है.

बीमा के हानि

Insurance के disadvantages के विषय में जानते हैं.

1. ये सभी प्रकार के losses को compensate नहीं करती है जिससे की ये पक्षपात करती है insurance लोगों के साथ, insurance companies के द्वारा.

2. Financial Compensation को प्रदान करने में काफी समय लग जाता है क्यूंकि बीच में काफी lengthy legal formalities से होकर गुजरना होता है.

3. वैसे तो insurance savings को encourage करती है, लेकिन ये उतनी facilities प्रदान नहीं करती है जितनी की bank के द्वारा प्रदान किया जाता है.

4. ये intentionally ही insurer को कम से कम compensate करने का सोचते हैं जिससे की इनकी profit को maximize किया जा सके.

5. ये crimes को भी बढ़ावा देती है society में, क्यूंकि ज्यादातर beneficiaries policy का insured amount पाना चाहते हैं.

6. कभी कबार तो premium का total amount, maturity amount से भी ज्यादा हो जाती है.

Insurance हिंदी में

ये चाहे कोई भी insurance हो, life insurance, health insurance या कोई general insurance, आप इन insurance policy को offline या online खरीद सकते हैं. जैसे की offline में आप insurance को insurance agents से खरीद सकते हैं, वैसे ही आप आजकल Online में कई websites से खरीद सकते हैं.

सबसे ध्यान देने वाली बात ये हैं की आपको अपनी तरफ से पूरी research कर लेनी चाहिए insurance का चुनाव करने से पहले क्यूंकि बाद में insurance बदलने से आपको loss हो सकती है.

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख बीमा क्या है (What is Insurance in Hindi) जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को बीमा के प्रकार के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है.

इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं.

यदि आपको यह post Insurance क्या होता है हिंदी में पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here