Fax Machine क्या है और कैसे किया जाता है?

क्या आप जानते है फैक्स और फैक्स मशीन क्या है? Fax Communication की दुनिया में सबसे सर्वश्रेष्ठ आविष्कारों में से एक है, जिसका भारत में तेजी से उपयोग बढ़ा है. यह भी टेलीफ़ोन प्रणाली की तरह कार्य करता है. इस मशीन का प्रयोग STD टेलीफ़ोन के साथ जोड़कर किया जाता है. इस मशीन की सहायता कोई भी व्यक्ति दुनिया के किसी भी कोने में बैठकर डॉक्यूमेंट भेज या मंगवा सकता है. इसीलिए यहाँ हम फैक्स की परिभाषा की बिषय में बात करेंगे.

यह सब काम बहुत ही कम टाइम में होता है. इसमें खर्चा भी कम आता है और आपका काम भी जल्दी ही कुछ ही सेकंड में हो जाता है. इसमें सिर्फ STD और कागज का खर्च ही आता है जो की बहुत ही कम है. फैक्स का पूरा नाम “फार अवे जेराक्स (Far Away Zerox)” है. इसमें इन्टरनेट टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल होता है.

इसको प्रयोग करने के लिए एक मशीन की जरूरत होती है जिसे फैक्स मशीन कहा जाता है. इस मशीन की सहायता से ही फैक्स भेजे और प्राप्त किये जाते है. इसमें एक तरफ रखी मशीन में जो दस्तावेज भेजना है उसे डालकर फैक्स नंबर डाला जाता है. इसके बाद दूसरी तरफ जहां फैक्स मशीन है और जिसे यह दस्तावेज भेजा गया है वहां इसकी फोटो कॉपी निकल जाती है. आईये जानते है फैक्स क्या है और कैसे काम करता है के बारे में विस्तार से.

फैक्स मशीन क्या है (Fax Machine Information in Hindi)

Fax Machine Kya Hai

एक Fax Machine ऐसा device होता है जिसका इस्तमाल documents को electronically send करने के लिए होता है, वो भी एक telephone network के माध्यम से.

क्या आप जानते है फैक्स का अर्थ क्या है? फैक्स मशीन में जो transmissions होते हैं जिन्हें की send किया जाता है उसे “faxes ” कहते है. FAX का फुल फॉर्म है short for facsimile. ये प्रक्रिया दो fax machine के बीच हो सकती है, या एक fax machine और computer के बीच होती है, या online fax service के द्वारा होती है जो की equipped होता है faxes को send और receive करने के लिए.

फैक्स एक तकनीक है जो विधुत संकेतों का प्रयोग करती है. यह टेक्नोलॉजी की दुनिया में एक बहुत ही लेटेस्ट कदम था. यह एक ऐसी तकनीक है जो इन्टरनेट का इस्तेमाल करती है. इसको यूज़ करने के लिए एक मशीन की जरूरत होती है जिसे फैक्स मशीन कहा जाता है. इस तकनीक में फैक्स मशीन की मदद से डॉक्यूमेंट का आदान-प्रदान किया जाता है.

इसमें डॉक्यूमेंट को इलेक्ट्रॉनिक फोर्मेट में बदला जाता है और फिर यह डॉक्यूमेंट दूसरी फैक्स मशीन में ट्रान्सफर होते है जहां यह फोटो कॉपी के रूप में निकलते है. यह सब काम इन्टरनेट की मदद से होता है. यह मोबाइल टेक्नोलॉजी की तरह काम करता है. मोबाइल में हम कहीं भी बैठे किसी से भी बात कर सकते है उसी तरह फैक्स मशीन में कहीं पर भी डॉक्यूमेंट भेज और प्राप्त कर सकते है.

फैक्स मशीन का आविष्कार कब हुआ था?

फैक्स मशीन का व्यापार के उद्देश्य से प्रयोग 1865 में शुरू हुआ था तथा इसके 11 साल बाद टेलीफ़ोन का आविष्कार हो गया था. पहली फैक्स प्रणाली को 1902 में प्रदर्शित किया गया था. आज भी फैक्स मशीन का उपयोग किया जाता है लेकिन बदलती टेक्नोलॉजी के चलते फैक्स मशीन पतन की और अग्रसर है और इसका आगे कोई भविष्य नजर नहीं आता.

फैक्स कैसे किया जाता है

क्या आपने कभी ये समझने की कोशिश करी की Fax Mahine कैसे काम करती है, इस machine के भीतर क्या होता है, चलिए आगे जानते हैं.

1.  Fax भजने के लिए, आपको पहले page को input slot में रखना होता है और ऐसे करने से ये अन्दर खिंच लिया जायेगा several pairs of rollers के माध्यम से. बड़े fax machines में built-in document feeders होते हैं जो की automatically feed करते हैं multiple pages में एक stack से, इसके लिए आपको machine को pages feed नहीं करना पड़ेगा manually.

2.  जैसे ही paper अन्दर जाता है, एक bright light अन्दर shine करती है. Page की White areas बहुत light को reflect करती है, वहीं black areas बहुत ही कम little reflect करती है.

3.  ये light page से reflects off होती है एक light-detecting CCD (charged-coupled device) में.

4.  ये CCD बदलती है page की analog pattern जो की black और white areas होती हैं एक numeric (digital) pattern में binary zeros और ones की, साथ में ये information को एक electronic circuit को pass करती हैं.

5.  ये circuit फिर send करती है digital information को telephone line से fax machine तक receiving end में.

6.  जब आप एक Fax receive करते हैं, तब वही समान circuit incoming digital information को ग्रहण करती हैं phone line से और routes करती है एक built-in printer में.

7.  एक typical personal fax machine में, paper को pull किया जाता है एक large roll से machine के भीतर. (बड़े office fax machine में, ये असल में एक plain-paper hopper से आती है, जैसे की एक laser printer में होता है.)

8.  फिर ये thermal (heat-based) printer, जो की इस curcuit के द्वारा operated होती है, reproduce करती है incoming fax को एक paper में जैसे जैसे ये आगे बढती है.

9.  अंत में एक automatic blade page को cut करती है और printed fax बाहर निकलती है output slot के रास्ते से.

आपने यदि ध्यान दिया होगा तब आप ये सोच सकते हैं की असल में दो separate machines होते हैं एक Machine में : एक होता है fax-sender और दूसरा एक fax-receiver. जब आप एक fax machine का इस्तमाल करते हैं quick “photocopies” निकालने के लिए documents की, तब दो machines एक साथ link up करती है साथ में : इसमें fax को down phone line तक भेजने के बदले में, ये circuit उस scanned data को reroute करती है directly printer के पास, जिससे आपको एक copy मिल जाती है original document की.

व्यापार की दृष्टि से FAX मशीन का उपयोग

ऐसे कई कार्य है जिसमे फैक्स मशीन का प्रयोग किया जाता है. पर्यटन स्थल, होटल, दूकान, STD बूथ, कोरियर कार्यालय आदि जगहों पर इस मशीन का यूज़ किया जाता है. शेयर बाजार, थोक व्यापार आदि में भाव जानने के लिए भी इस मशीन को बहुतायत से यूज़ किया जाता है. नेशनल और इंटरनेशनल जानकारी प्राप्त करने के लिए इस मशीन का प्रयोग किया जाता है.

तार और फैक्स में अंतर

1.  तार में सन्देश 24 घंटे के अंदर पहुँचता था जबकि फैक्स में सन्देश कुछ ही सेकंड में पहुँच जाता है.

2.  तार में सन्देश कागज के रूप में होता था जिसे किसी व्यक्ति के द्वारा या डाक द्वारा भेजा जाता था जबकि फैक्स में सन्देश इलेक्ट्रॉनिक फोर्मेट में होता है जिसे सामने बैठे आदमी को कुछ ही सेकंड में फोटो कॉपी के रूप में प्राप्त हो जाता है.

3.  तार यानी टेलीग्राफ सेवा अब अस्तित्व में नहीं है जबकि फैक्स मशीन का उपयोग अब भी हो रहा है.

Conclusion

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख फैक्स मशीन क्या है (Fax Machine Information in Hindi) जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को फैक्स की परिभाषा के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं. यदि आपको यह post फैक्स कैसे किया जाता है हिंदी में पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.