Whois क्या है और कैसे इस्तिमाल करे?

क्या आप जानते हैं की ये Whois क्या है? यदि नहीं तब इस post को जरुर पढ़ें क्यूंकि article के ख़त्म होने तक आपको इसके विषय में बहुत कुछ समझ में आ जायेगा. जैसे की नाम से ही पता चल रहा है की यह “कौन” के बारे में जानकारी देता है. Whois एक बहुत ही widely used Internet record listing होती है जो की ये identify करती हैं की कौन domain को own करते हैं और कैसे उनके साथ contact किया जा सके.

Internet Corporation for Assigned Names and Numbers (ICANN) regulate करती हैं domain name registration और ownership को. Whois records खुद को prove किया है की वो बहुत ही useful होते हैं और एक बहुत ही essential resource बनकर उभरा है domain name registration की integrity को maintain के लिए और साथ में website ownership process को भी.

Whois का नाम शायद आपने सुना हो या शायद आपने इसका उपयोग किया भी हो. लेकिन अगर आप Whois के बारे में कुछ नहीं जानते है तो आज आपको इस पोस्ट में Whois क्या है, इसका इस्तेमाल क्यों होता है, इससे क्या पता चल सकता है, इसको इस्तेमाल करने के क्या फायदे है और WhoisGuard क्या है आदि के बारे जानकारी मिल जाएगी. इसलिए मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को Whois क्या होता है के विषय में पूरी जानकारी दे दी जाये. तो बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं.

Whois क्या है (What is Whois in Hindi)

Whois Kya Hai Hindi

Whois एक ऑनलाइन Protocol या एक ऑनलाइन Website है जिसकी मदद से हम किसी भी Domain नेम के मालिक, Domain की वैधता आदि के बारे में जानकारी हासिल कर सकते है.

Whois के द्वारा हम Domain और उसके Sub Domain आदि से संबधित पूरी जानकारी पा सकते है, जिसकी एक यूजर को जरूरत होती है. Whois आपको यह भी बताता है की जिस Domain को आप सर्च कर रहे है वो अवेलेबल है या नहीं. अगर वो Domain अवेलेबल नहीं होगा तो आपको सर्च रिजल्ट में “No Match” दिखा देगा.

Whois का इस्तेमाल क्यों होता है?

Whois का इस्तेमाल मैलवेयर युक्त Domain, फ्रॉड Domain, क्रेडिट कार्ड फ्रॉड, फ्रॉड एंट्रीज़, फ्रौस DNS आदि के बारे पता करने के लिए होता है. Whois के द्वारा हम Domain से संबधित रियल और वास्तविक सुचना हासिल कर सकते है, जिससे यूजर का Domain के बारे में विश्वास बन जाता है. यूजर को यह पता चल जाता है की Domain सही है या नहीं और उससे संबधित सारी जानकारी भी उसे हासिल हो जाती है.

WHOIS Record क्या होता है?

WHOIS records vary करता है registrars के बीच, लेकिन ये सभी अपने पास रखते हैं सभी mandatory (जरुरी) information. इसमें बहुत सारे चीज़ें आती हैं जैसे की name of the registrar, created date, updated date, और expiration date किसी domain name की. ये name servers को भी list करती हैं.

इसमें तीन contacts को भी include किया जाता है — registrant, admin, और technical contacts. ये information, जिसे की provide किया जाता है registration के दोरान, उसमें होते हैं एक name, organization (अगर applicable हो), address, phone number, और email address. बहुत सारे cases में, ये information को duplicate किया जाता है सभी तीनों contacts के across, हालाँकि सभी में अलग अलग information होती हैं.

Whois से क्या-क्या पता चल सकता है?

Whois के द्वारा हम निम्न बातें पता कर सकते है

  • Domain किसके नाम पर है और उसका मालिक कौन है.
  • Domain की वैधता कब तक है.
  • Domain रजिस्टर कब हुआ था.
  • Domain Owner की कांटेक्ट इनफार्मेशन.
  • Domain किस सर्वर पर है.
  • Domain का Name Server क्या है.
  • Domain का IP एड्रेस क्या है.
  • Domain अपडेट कब हुआ था.
  • Domain का स्टेटस क्या है.
  • Domain का Organization, City, State आदि के बारे में.

Whois का इस्तेमाल कैसे करें?

– सबसे पहले अपने Browser में जाए और वहां टाइप करें whois.domaintools.com

– अब आपको स्क्रीन पर Whois Lookup का बॉक्स दिखेगा उसमे जिस Website के बारे में आप जानना चाहते है उसका URL टाइप करें और सर्च पर क्लिक करें.

– अब एक नया पेज ओपन होगा जिसमे आपको उस Domain से संबधित सारी जानकारी मिल जाएगी.

Whois इस्तेमाल करने के फायदे क्या है?

वैसे तो Whois के बहुत से महत्वपूर्ण फायेदे होते हैं. लेकिन यहाँ पर हम कुछ इसकें best फायेदे के विषय में जानेंगे.

1.  Maintain Domain Name

अगर आप कोई नया Domain Name लेना चाहते है तो आप इस Website की मदद से अपने Domain को सर्च कर सकते है की वो अवेलेबल है या नहीं. अगर वो अवेलेबल नहीं होगा तो आपका No Match दिखा देगा और आप उस Domain को खरीद सकते है.

इसका सबसे बड़ा फायदा यह है की अगर आपका बिज़नस है तो आप अपने Domain से संबधित Domain सर्च कर सकते है, जिससे आपको मार्किट मे कम्पिटेशन का पता चल सके.

2.  Domain Name Registration Issue Solving

कई बार हम अपने Domain से जुड़ी जानकारी भूल जाते है और ऐसे में कभी हमे उसकी जरूरत पड़ती है तो हमारे लिए उन्हें खोजना मुश्किल हो जाता है और ऐसे Whois बहुत मदद करता है. यह आपको Domain Name की रजिस्ट्रेशन डेट, एक्सपायरी डेट और रजिस्ट्रेशन की इनफार्मेशन दे देता है, जो आपके लिए बहुत काम की होती है.

3.  Security Issue

कई बार हमारी Website परकोई अटैक हो जाता है तो ऐसे में जब हम Cyber Security की मदद लेते है तब वह Whois टूल की मदद से हमारे Website की इनफार्मेशन निकालता है और हमारी Website को सही करता है. ऐसे में Whois हमारी Website को सिक्योरिटी प्रदान करता है.

4.  Network Information

कई बार हमें नेटवर्क इनफार्मेशन जैसे DNS, Name Servers आदि की जरूरत पड़ती है तब हम Whois की मदद से यह सारी जानकारी आसानी से हासिल कर सकते है.

WhoisGuard क्या है?

जैसा की हमने आपको बताया है की Whois में आपके Website से संबधित सारी जानकारी होती है जिसकी वजह से Hacker यह सारी जानकारी हासिल कर लेते है और हमारी Website पर अटैक कर सकते है. लेकिन अगर आप चाहते है की Whois के Database में आपकी प्राइवेट जानकारी ना दिखे तो WhoisGuard की मदद ले सकते है.
असल में WhoisGuard आपकी पर्सनल इनफार्मेशन को Whois के पब्लिक Database में डिस्प्ले होने से बचाता है. WhoisGuard अपने खुद का डाटा Whois के पब्लिक Database में डाल देता है, जिससे किसी की भी पर्सनल इनफार्मेशन स्पैमर्स को शो नहीं होती है.

जब भी कोई बंदा Whois से एमकिल देखकर आपको मेल करेगा तो सबसे पहले वो मेल WhoisGuard के पास जाएगी और वह उसे चेक करेगा की कहीं इसमें स्पैम तो नहीं है और जब वह सन्तुष्ट होगा तो उस मेल को आपने ओरिजनल मेल एड्रेस पर फॉरवर्ड कर देगा. कई Domain देने वाली कम्पनियां आपको इसकी Privacy लेने को कहती है.

Conclusion

इस पोस्ट को पढने के बाद आप अच्छे से जान गए होंगे की Whois क्या है (What is Whois in Hindi), इसका इस्तेमाल क्यों करते है, इससे क्या-क्या पता चल सकता है, Whois के फायदे क्या है, WhoisGuard क्या है, इसकी जरूरत क्यों है. यदि आपको मेरी यह post Whois क्या होता है हिंदी में अच्छा लगा हो या इससे आपको कुछ सिखने को मिला हो तब अपनी प्रसन्नता और उत्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

16 COMMENTS

  1. hello sir,
    mera ek article google ke first page par rank huwa thaa fir wo 2-3 number par aaya fir 4 number par aa gaya aaisa kyun hota hai jab ki main 100% quality content likhaa or keyword bhi low compedition wala daal or maine do follow or no follow backlinks bhi banaye fir bhi aaisa ho raha hai or mera article 1000 words se 1500 words ke bich thaa aaisa kyun? please reply

  2. Helpful information bro. kya aap bta sakte ho ki aap es blog par kon si company ka hosting or kon sa plan use kar rhe ho?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.