Anchor Text क्या है और SEO के लिए कितना जरुरी है?

क्या आपने कभी Anchor Text क्या है के बारे में सुना है? यदि नहीं तो घबराने की जरुरत नहीं क्यूंकि आज हम इसी  के बारे में जानेंगे. इससे पहले चलिए SEO के बारे में जानते हैं. SEO ये आप सब लोगों ने पहले भी सुना होगा. SEO का मतलब होता है Search Engine Optimization और इसका काम Website को Search Engines के लिए Optimize कराना और Website को search engine जैसे Google, Bing आदि में रैंक कराना है. SEO एक तकनीक है, जिसके जरिये हम अपनी Website को search engine में रैंक कराते है.

SEO कई प्रक्रियाओं से मिल कर बना हुआ है. इसे आप 2 भागो में बाँट सकते है. एक होता है ONPAGE और दूसरा OFFPAGE. अब ये Onpage और Offpage भी कई प्रक्रियाओं में विभाजित किया जा सकता है.

Search Engine Optimization और On Page SEO की एक कड़ी anchor text भी होती है. लोग अपने article में SEO करते वक़्त इसको बहुत कम अहमियत देते है. पर anchor text भी किसी site को रैंक कराने में SEO के अन्य प्रकारों जितना ही जरुरी है. तो आइये आज Anchor Text क्या होता है और ये इतना जरुरी क्यूँ है के बारे में पूरी तरह से जानते है.

एंकर टेक्स्ट क्या है (What is Anchor Text in Hindi)

Anchor Text Kya Hai Hindi

Anchor Text अपनी वेबसाइट के perfect SEO optimization के लिए बहुत ही जरुरी होता है. बहुत से लोगों ने इसके बारे में पढ़ा होता है और देखा भी होता है पर वो इस बात से अनभिज्ञ होते है की आखिर ये anchor text क्या है और क्यूँ ये इतना जरुरी होता SEO optimization के लिए.

किसी भी वेबसाइट पर जब आप कोई पोस्ट पढ़ते है तो Post में जब आपको कुछ Clickable text मिलते है. वो हमारे regular texts से अलग होते है. इन text पर आप क्लिक कर सकते है. जब आप उस text पर click करेंगे तो आप किसी किसी दूसरे page या website पर redirect हो जायेंगे. उसे text को हम Anchor text कहते हैं.

जब भी आपके कंप्यूटर पर आप कोई वेबसाइट पर कोई पोस्ट पढ़ रहे होते है और आपका cursor उस पोस्ट के किसी text पर जाकर hand icon में बदल जाता है. तो वो एक anchor text होता है और आप उस पर क्लिक कर सकते है.

आपने हमारी वेबसाइट पर भी हमारे posts में बहुत बार देखा होगा की जब भी हम कोई article लिखते हैं तो उसमे हम कई बार किसी दूसरी post की Link add करते है जिसे Internal या फिर inbound link कहा जाता है अपनी ही Website के किसी पेज की लिंक को लगाकर anchor text के रूप में उप्योग करने को Internal लिंक कहेंगे. जब यही लिंक किसी दूसरी Website के पेज की link होती है तो उसे External link या फिर outbound लिंक कह सकते है.

ये Inbound और Outbound लिंक ही Website के anchor text होते है.

Anchor Text क्यों जरुरी है?

Search engines anchor text से पेज के content और पेज किस चीज़ से जुड़ा है उसकी जानकारी जुटाने के साथ website को किस keyword के लिए रैंक करना है वो भी देखते है. वेबसाइट को रैंक कराने में ये बहुत बड़ा factor है और इसीलिए Link building में ये बहुत बड़ा role अदा करता है.

Anchor text Search Engine को inbound links के लिए संदर्भ प्रदान करता है जिसके लिए उसे रैंक करना चाहिए, इसका वेबसाइट के organic traffic पर सीधा असर पड़ता है. इससे Search Engines से आने वाले traffic में बढ़ोतरी देखी जा सकती है.

Anchor Text के Types क्या हैं

Anchor Text कई प्रकार के हो सकते है. Anchor Text को backlinks या link building के रूप में इस्तेमाल किया जाता है जिससे किसी website की rank गूगल जैसे सर्च इंजन में बढ़ती है. एंकर टेक्स्ट की सहायता से आप अपने keyword चुन कर उसको Anchor Text के साथ उपयोग करेंगे तो आपकी website की रैंक में सुधार आएगा.
कई बार ठीक से link building न करने पर सर्च इंजन websites पर पेनल्टी लगा देते है. उस penalty से बचने के लिए जानते है सही और अच्छे anchor text का उपयोग कैसे करे.

आइये जानते है Anchor Text के प्रकार:-

1) Generic Anchor Texts – इन category में anchor text के लिए generic word use किया जाता है. Generic शब्द से तात्पर्य है कोई भी साधारण या सामान्य शब्द. ज्यादातर मामलों में generic anchor text आपकी वेबसाइट के लिए कोई मुनाफा नहीं करते है. Generic anchor text linked पेज के बारे में कोई संदर्भ प्रदान नहीं करते है. इससे आपकी रैंक को भी कोई फायदा नहीं पहुँचता है.

Generic Anchor texts में Click here, read more, Go to this site आदि शब्दों का उपयोग बहुतायत में किया जाता है. अगर आप अपनी वेबसाइट की रैंक बढ़ाना चाहते है तो generic anchor text आपकी कोई मदद नहीं करेंगे.

2) Branded Anchor Text – किसी भी text का नाम अगर कोई Brand है तो वो Branded anchor की श्रेणी में आता है. branded anchor texts मे brand को directly use किया जाता है. “जैसे जब भी हम अपनी website पर amazon की लिंक पोस्ट करेंगे और उस लिंक का title “amazon” ही रखते है तो ये एक branded anchor text हो जाता है. इससे website की रैंकिंग में ज्यादा बढ़ोतरी नहीं होती है. अगर आप अपनी वेबसाइट की लिंक बिल्डिंग कर रहे है तो branded anchors का कम उपयोग करें.

3) Naked link Anchors – यह anchors की बहुत ही साधारण श्रेणी है. जब भी हम किसी post में किसी website का या दूसरे webpage का नाम link में directly लिखते है तो उसे Naked link anchors कहते हैं!

जैसे हमने अपनी पोस्ट में amazon का एक लिंक दिया पर उसका title भी amazon.com कर दिया और उसको amazon.com के नाम से अपनी website की पोस्ट में इस्तेमाल कर रहे है तो इसमें amazon.com naked link एंकर है.

4) Image Anchors – आपने बहुत सारी वेबसाइट पर देखा होगा की कई बार आप जब किसी image पर क्लिक करते है तो आपका Browser आपको किसी दूसरी वेबसाइट पर ले जाता है. बहुत सारे ब्लॉग image refer करने के लिए अपनी पोस्ट में image एंकर लगते है. Image anchor लगाने से जब भी आप उस image पर क्लिक करेंगे आप उस वेबसाइट पर पहुँच जायेंगे जहाँ से image को लिया गया है.

वेब साइट पर जब भी कोई image anchor या link की जाती है तो सर्च इंजन उस इमेज के alt attribute से उसके content का पता करता है. सर्च इंजन image से तो keyword का पता कर नहीं सकता की वेबसाइट को किस keyword पर रैंक कराना है इसलिए image के साथ उसे किये गए alt attribute से search engine image के बारे में जानकारी जुटाता है.

अगर image का Alt tag खाली छोड़ दिया जाता है तो सर्च इंजन उस image को बिना anchor वाली मानकर रैंक करने में मदद नहीं कर पाता. इस तरह की इमेज लगाने का कोई फायदा नहीं होता.

5) Partial match Anchor Text – इस प्रकार के anchor मे anchor text का कुछ हिस्सा उपयोग किया जाता है. जब भी कोई anchor text इस्तेमाल किया जाता है तो उसमे हमारे keyword में से कुछ हिस्सा (partial) उपयोग किया जाता है. जैसे अगर हमारा keyword है “Hindi main jaankaari” तो हम इसका partial match anchor text कुछ इस प्रकार कर सकते है – “hindi main best jaankaari” , या फिर अगर हमारा targeted keyword है “GIFT SHOPS” तो इसको हम ऐसे लिख सकते है “Top gift shops in india” इसमें हमने अपने target keyword को partially उपयोग किया है.

इस तरह से anchor text में टारगेट कीवर्ड को partially उपयोग करना ही partial match anchor text कहलाता है. ये link building में काफी जरुरी होते है और वेबसाइट की rank बढ़ाने में बहुत अच्छे होते है.

6) Exact Match Anchor Text – यह सबसे जयदा उपयोग किये जाने वाले anchor text होते है. ये website की रैंकिंग को अच्छा करने मे बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण होते है और रैंकिंग में बढ़ोतरी के लिए सबसे ज्यादा उपयोग में लाये जाते है. अगर आपका target keyword “GIFT shops” है और आप anchor text में “GIFT shops” ही उपयोग कर रहे है तो यह आपका exact match anchor text है. Target keyword को जैसा है ठीक वैसा ही इस्तेमाल करना exact match anchor text कहलाता है.

कभी कभी exact match anchor text website को penalize करने का भी reason बन जाते है. अगर आपका Target keyword “gift shops” है और आप anchor में “gift shops” ही उपयोग कर रहे है तो मुमकिन है की आपकी वेबसाइट पर पेनल्टी लगा दी जाए.

Anchor Text के फायदे

Anchor text को अपनी वेबसाइट पर इस्तेमाल करने के बहुत सारे फायदे है. अगर आप ने इनको सही तरीके से इस्तेमाल करना सीख लिया तो आप बड़ी आसानी से अपने ब्लॉग को सर्च इंजन में अच्छी ranking पर ला सकते है. आइये जानते है क्या है anchor text के फायदे –

1) Anchor text का पोस्ट में सही उपयोग किया जाए तो आपकी page rank सर्च इंजन में बढ़ेगी. जितनी ज्यादा page rank होगी उतना ही ज्यादा organic ट्रैफिक होगा. page rank ज्यादा होने से जब भी कोई आपके target keyword से जुड़ा कुछ सर्च करेगा तो आपका ब्लॉग result में index होगा.

2) Bounce rate कम करने में भी anchor text एक बहुत बड़ा अहम् role अदा करते है. अगर आपने कभी adsense इस्तेमाल किया होगा तो आपको पता होगा की bounce rate किसी website के लिए कितनी जरुरी है. ऐसा कहा जाता है की bounce rate 35% से कम होनी चाहिए. अगर anchor टेक्स्ट का ढंग से इस्तेमाल किया जाए तो आप अपनी बाउंस रेट कम कर सकते है. और adsense या किसी और adnetwork से अच्छा पैसा कमा सकते है.

Anchor Text से जुडी कुछ महत्वपूर्ण बातें

कुछ लोग Anchor Text की पूरी जानकारी के बिना ही इधर उधर हर जगह Anchor Text इस्तेमाल करने लगते है. ऐसा करना आपकी वेबसाइट के लिए नुकसानदायक हो सकता है. इस तरह के anchor का इस्तेमाल करने से बचे. कुछ इसी प्रकार की जानकारी जो anchor text या anchor का इस्तेमाल करने से पहले सबको पता होनी चाहिए.

1) एंकर टेक्स्ट को relevant यानी की content के अनुसार प्रासंगिक रखिये. जितना ज्यादा relevant आपका article आपके टारगेट कीवर्ड से होगा आपको rank कराने में उतना ही फायदा होगा.

2) अपनी वेबसाइट को किसी भी spam वाली वेबसाइट से link न करें. इस तरह की linking आपके seo के लिए बुरी हो सकती है.

3) एक ही Anchor Texts को एक ही पोस्ट में बार बार इस्तेमाल करने से बचिए.

4) दुसरे blogs पर guest post लिखते समय याद रखें की उस domain की authority 30 से ऊपर हो. guest post भी relevant keyword पर लिखें जिस पर आप टारगेट करना चाह रहे है.

एंकर टेक्स्ट आज भी लोगों के बीच बहस का मुद्दा बना हुआ है. कुछ लोग मानते है की ये अब उतना उपयोगी नहीं रहा तो कुछ मानते है की ये अभी भी उपयोगी है. इस बहस का तो अभी कोई अंत दिखाई नहीं देता पर हाँ एक वेबसाइट की रिसर्च से ये बात साबित हो गयी की एंकर टेक्स्ट आज भी उतना ही उपयोगी है.

मेरा आप सभी पाठकों से गुजारिस है की आप लोग भी एंकर टेक्स्ट क्या है (What is Anchor Text in Hindi) की जानकारी को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में Share करें, जिससे की हमारे बिच जागरूकता होगी और इससे सबको बहुत लाभ होगा. मुझे आप लोगों की सहयोग की आवश्यकता है जिससे मैं और भी नयी जानकारी आप लोगों तक पहुंचा सकूँ.

मैं आशा करते है ऊपर दी गयी जानकारी आपको पसंद आई हो और एंकर टेक्स्ट से जुडी आपकी सारी परेशानियां खत्म हो गयी होंगी.

Hindi Me Jankari

6 COMMENTS

  1. nice post….sir me apne post ke niche teen aur post ke link add karta hun aur unke upar is sabdh ko use karta hun like
    ये भी पढ़े –
    post 1 title
    post 2 title
    post 3 title
    क्या ये bad anchor text hain

    • Hello Radhe Gour ji, चूँकि या details में बता पाना संभव नहीं है इसलिए अधिक जानकारी के लिए आप हमें हमारे Community में अपने सवाल पूछ सकते हैं https://ask.hindime.net/
      जहाँ आपको आपके सारे सवालों के जवाब बहुत ही जल्द मिल जाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here