Mobile-First Indexing क्या है और SEO को कैसे प्रभावित करता है?

क्या आप जानते हैं की ये Mobile-First Indexing क्या है? क्यूँ Google ने इस नए SEO update को ज्यादा महत्व दे रही है. अगर आप एक Blogger हो या फिर आपकी website है तब आपको इस Mobile-First Indexing के विषय में जरुर जानना चाहिए. सुनने में अभी बहुत आ रहा है की Google ने हाल में ही web को ज्यादा mobile friendly बनाने के लिए अपने latest development में Mobile-First Indexing को include किया है, जिससे ये user behaviour trends को reflect कर सकें.

दिनबदिन Mobile users की संख्या बढती ही जा रही है, अगर हम इसे desktop traffic से compare करें तब. पुरे Internet में करीब आधे से भी ज्यादा लोग smartphones और tablets का इस्तमाल करते हैं internet में कुछ चीज़ देखने के लिए. ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि mobile या smartphones ज्यादा userfriendly होते हैं. 2020 के अंत तक करीब 80% global internet traffic mobile से आते रहेंगी. ये तो सभी को पता है की Google Mobiles को बहुत ज्यादा महत्व देता आया है.

Mobile अभी के समय की सबसे ज्यादा demanded चीज़ है. लेकिन केवल एक mobile site के हो जाने से आपकी सभी issues ख़त्म नहीं हो जाते हैं. हाँ ये बात से हम इंकार नहीं कर सकते की Mobile sites अब एक cornerstone बन गए हैं content consumption और खरीदारी का. Mobile searches से अब लोग ज्यादा बेहतर purchase decision ले पा रहे हैं जो की उनकी buying intent को बढ़ा रही है. अब बात उठता है की क्या हमारा site भी Google के Mobile-First Indexing के लिए ready है? क्यूंकि अगर नहीं तब आने वाले समय में ये दोनों sales और traffic में बाकिओं के मुकाबले पीछे आने वाला है.

इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को “Mobile-First Indexing क्या है”, इसके विषय में कुछ basic जानकारी प्रदान कर दूँ जिससे आपके मन में उठ रहे सभी सवालों के जवाब आपको मिल जायेगा. इसके साथ में कुछ frequently asked questions भी discuss करूँगा Mobile-First Indexing के ऊपर जिससे आपको इससे related सभी चीज़ें पूरी तरह से clear हो जाएँगी. फिर में आप लोगों को कुछ ऐसे SEO tricks के बारे में बताऊंगा जिससे आप अपने site को बहुत ही जल्द Mobile Friendly बना सकते हैं और ranking को घटने से रोक सकते हैं. तो फिर बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं की आखिर ये Mobile-First Indexing क्या होता है in Hindi.

Mobile-First Indexing क्या है हिंदी में

Mobile-First Indexing Kya Hai Hindi

Mobile-First Indexing का मतलब होता है एक ऐसा site जो की बहुत ही mobile friendly होता है, users को अपने mobile से इसे view करने में सहजता होती है और ख़ास इसलिए ही Google इन sites को ज्यादा जल्दी Index कर देता है. Users के consumption को ध्यान देते हुए Google ने ये पाया की ज्यादातर users अपने mobile से Internet browse करना ज्यादा पसदं करते हैं. ऐसे में जो भी site ज्यादा mobile friendly होते हैं वो Users को ज्यादा अच्छा browsing experience प्रदान करते हैं. इसलिए ऐसे sites को Google जल्दी से जल्दी index भी कर देती हैं. साथ ही ranking के दृष्टी से आपकी website की mobile version ज्यादा महत्व रखती है Indexing के लिए.

अगर आप आपके site की crawlbot traffic को monitor करें तब आप ये पाएंगे की Smartphone Googlebot के traffic में काफी increase हुई है और pages के cached versions अक्सर page के mobile version ही होते हैं. इसे “Mobile-First” इसलिए कहा जाता है क्यूंकि ये केवल mobile-only index नहीं होता है : उदहारण के लिए, अगर एक site का mobile-friendly version नहीं होता है, तब भी desktop site को भी index किया जाता. लेकिन mobile-friendly experience के न होने से ये आपके site के ranking पर काफी negatively impact करता है, और जिस site में बेहतर mobile experience हो, उसे ज्यादा rankings boost मिलती है चाहे searchers desktop पर ही क्यूँ न हो रही हो.

आप जरुर ये सोच रहे होंगे की ये phrase “Mobile-First” एक reference के तरह होता होगा जहाँ की mobile version को website का primary version consider किया जा रहा हो . इसलिए अगर आपका mobile और desktop versions दोनों equivalent हैं — एक instance के लिए अगर आपने अपने contents को mobile के लिए optimized किया है, और अगर आप एक responsive design का इस्तमाल कर रहे हैं — तब ये बदलाव आपके site के performance पर ज्यादा बड़ा impact नहीं डाल सकते हैं search results में. लेकिन इससे ये जरुर represent होगा की Google कैसे आपके website content के बारे में सोच रहा है और कैसे crawling और indexation को ज्यादा prioritize कर रहा है.

याद रखें की अभी तक desktop site को ही primary version (similar to a canonical URL) माना जाता था और वहीँ mobile site को एक “alternate” version के रूप में देखा जाता था किसी site के case में. इसलिए Google webmasters को ज्यादा उत्साहित कर रहा है एक separate mobile site (m.domain.com) के लिए जिससे वो implement कर सकें switchboard tags (ये mobile URL version के existence को represent करता है एक special rel=alternate tag के इस्तमाल से) का. Google शायद अब ज्यादा आपके pages के mobile version को crawl और cache न करें बल्कि अब directly mobile URL को mobile searchers में display कर दें.

Desktop version को primary one करने के पीछे जो कारण तह वो ये की इससे desktop site को prioritized किया जा सके SEOs से और marketing teams के द्वारा. साथ ही इसे website को एक comprehensive version के तोर पर treat किया जाता था, जिसमें full content, structured data markup, hreflang (international tags), majority of backlinks, इत्यादि हुआ करते थे. वहीँ mobile version में lighter content होते हैं, और इसमें भी वही समान level की markup और structure किया जा सकता है, लेकिन इसमें बड़ी मात्रा में backlinks और external attention नहीं पाया जा सकता.

Mobile-First Indexing को क्यूँ लाया गया?

Mobile First Indexing in Hindi

Google के द्वारा Mobile-First Indexing की announcement बहुत ही बड़ी बात है. ये आने वाले समय में हमारे content creation और उसके optimization को बदल का रख देगा. ये इन contents को इस्तमाल करने का नजरिया भी बदल कर रख देगा.

लेकिन आखिर में सबसे बड़ा सवाल की ये क्या है और इसे आखिर क्यूँ लाया गया?

एक आसान सा brief description ये की, Google किसी website के desktop versions को index करने से पहले, या उसे evaluate और relevance के अनुसार rank करने से पहले वो उसके mobile site को पहले index करेंगे. क्यूँ?

ऐसा इसलिए क्यूंकि Google के अनुसार (और साथ में बहुत दुसरे studies के अनुसार), mobile traffic ने desktop traffic को surpass कर लिया है Google में.

जैसे की हम ये जानते हैं की Google की entire business और foundation एक simple principle पर खड़ी हुआ है की : Users को जल्द से जल्द और accurate information प्रदान किया जाये. उदहारण के लिए, जब आप कोई चीज़ search कर रहे हैं जैसे की “कोन से पक्षी भारत में ही पाए जाते हैं,” तब search engine आपको सभी information अच्छे से curated form में प्रदान करें वो भी खूब जल्दी.

इसका अर्थ है perfectly optimized images, fast page speed के साथ, और text की ऐसी formatting जिससे user को उसे पढ़ते वक़्त आखों में तकलीफ न हो. इसी कारण Google चाहता है की content को fast और effectively दर्शाया जाये. इस demand को fulfill करने के लिए, Google केवल desktop sites को index नहीं कर सकता जहाँ majority traffic mobile से आती हो. इससे user experience बहुत ही ख़राब होगा search engines के साथ और उन्हें बाध्य होकर दुसरे search engines की तलाश करनी होगी, जो की Google कभी भी नहीं चाहेगा.

इसे Google के शब्दों में कहें तब :
चाहे हमारा search index कोई भी websites और apps को single index कर लें, लेकिन फिर भी हमारा algorithms किसी website का mobile version को ही महत्व देगा site के ranking के लिए, इसमें structured data को समझने के लिए, और उन pages से snippets show करेगा search results में .

ये सब करने के लिए Google अपने SERPs में निरंतर developments कर रहा है. इससे Google अपने पुरे platform को ज्यादा user friendly बना रहा है.

लेकिन ये वो change नहीं है जिसे की “mobile Indexing” कहा जाता है ? क्यूंकि Google पूरी तरह से केवल mobile Indexing पर switch नहीं कर रहा है. इसका मतलब है की ये केवल “Mobile-First” Indexing है. मतलब ही आपको एक blogger होने के नाते अपने site के desktop version को पूरी तरह से scrapping या slacking करने की जरुरत नहीं.

Mobile-First Indexing change का सही मतलब के बारे में आपको आगे पता चलेगा

आपको अपने site की mobile version का ख़ास ख्याल रखना चाहिए. क्यूंकि अभी के algorithm के हिसाब से ज्यादा organic visits के लिए आपको अपने site को mobile optimized करना होगा. लेकिन एक खुशखबरी ये भी है की सभी लोगों को अपने sites में बहुत ज्यादा बदलाव लाने की जरुरत नहीं है. कुछ के site में कुछ बदलाव भी नहीं करना होगा क्यूंकि उनका site पूरी तरह से ठीक है. ये आपके site के current architecture पर निर्भर करता है, हो सकता है की आपका site इस पहलु में ठीक हो.

तो चलिए आगे हम जानेंगे की कैसे अपने site की Mobile-First Indexing करें.

Mobile-First Indexing के लिए क्या करना चाहिए?

सबसे पहली बात जो आपको समझनी चाहिए वो ये की आपको बिलकुल भी घबराने की जरुरत नहीं है. ऐसा इसलिए क्यूंकि ये बदलाव अभी अपने प्रारंभिक दोर में हैं, यूँ कहे की testing phase में. धीरे धीरे ये केवल इन websites को target करेगा जिसे की Google समझता है की वो ready हो गए हैं इस बदलाव को ग्रहण करने के लिए. लेकिन फिर भी इसमें भी ज्यादा impact नहीं डाला जायेगा. जितना हो सके कम और minimal impact से start करना होगा.

Google के हिसाब से, अगर आपका website responsive या otherwise identical है desktop और mobile versions में, तब आपको कुछ और या दुसरे ढंग से करने की कोई भी जरुरत नहीं है (इसमें में ये assume कर रहा हूँ की आप अपने मेह्जुदा current rankings से खुश हैं).

इसके साथ अगर आपका site पूरी तरह से responsive site भी हो, फिर भी आपको ये ध्यान देना होगा की आपका mobile page speed और loading time ठीक है भी या नहीं. इसे ज्यादा prioritized करना होगा. इसके अलावा images और दुसरे dynamic elements को भी ठीक से optimized करना होगा बेहतर mobile experience के लिए. ये ध्यान दें की Mobile-First Indexing में, वो content जिसे की collapsed या hidden कर दिया गया है tabs में इत्यादि को space limitations के चलते अलग से नहीं treat किया जायेगा visible content के comparison में (जो की पहले से हुआ हो), ऐसा इसलिए क्यूंकि इस प्रकार का screen real estate management असल में बेहतर mobile practice माना जाता है.

अगर आपके पास एक separate mobile site है, तब आपको निचे बताए गए चीज़ों को जरुर check करना चाहिए :

  • Content: ये ध्यान दें की आपके mobile version में भी high-quality, valuable content होने चाहिए जो की आपके desktop site में पहले से मेह्जुद हैं. इसमें सभी text, videos और images शामिल हैं. ये चीज़ का ध्यान दें की mobile version में इस्तमाल किया गया formats crawlable और indexable (जैसे की alt-attributes का इस्तमाल images में) हो.
  • Structured data: आपको अपने site के दोनों mobile और desktop version में समान structured data markup का इस्तमाल करना चाहिए. URLs जिसे की दिखाया जाता है structured data के भीतर mobile pages में, ये उस URL का mobile version होना आवश्यक है. साथ ही unnecessary structured data को add न करें अगर ये आपके page के specific content से कोई relevance नहीं रखता है तब.
  • Metadata: ये बात का खयाल रखें की titles और meta descriptions दोनों equivalent होने चाहिए दोनों versions के सभी pages में.

Note:Official guidance के अनुसार “equivalent” को ज्यादा महत्व दिया गया है की “identical” के बदले – आप चाहें तो अपने mobile titles को और ज्यादा optimize कर सकते हैं shorter character counts के लिए, लेकिन इस बात का ख्याल रखें की उसमें same information और relevant keywords को जरुर से include करें.

  • Hreflang: अगर आप rel=hreflang का इस्तमाल कर रहे हैं internationalization के लिए, तब आपके mobile URLs’ hreflang annotations हमेशा point करने चाहिए आपके देश के mobile version या language variants की और, साथ में desktop URLs भी desktop versions के तरफ point करने चाहिए.
    Note hreflang attribute हमेशा linked document के language को specify करते हैं. ये attribute केवल तभी इस्तमाल किया जाता है जब href attribute set हो.
  • Social metadata: OpenGraph tags, Twitter cards और दुसरे social metadata को जरुर से include करना चाहिए दोनों mobile version और desktop version में.
  • XML और media sitemaps: ये ensure करें की सभी links to sitemaps accessible हों site के mobile version से. ये robots directives (robots.txt और on-page meta-robots tags) पर भी लागु होता है और trust signals, जैसे की privacy policy page को links.
  • Search Console verification: अगर आपने केवल अपने desktop site को ही Google Search Console में verify किया है, तब उसके साथ mobile version को भी add कर verify जरुर करें.
  • App indexation: अगर आपके पास app indexation set up मेह्जुद हैं आपके desktop site के लिए, तब आपको उसके साथ आपके site के mobile version को भी app indexed कर देना चाहिए app association files, के साथ.
  • Server capacity: ये sure करें की आपके host servers handle कर सकें increased crawl rate को. ये केवल उन sites के लिए applicable है जिसमें की उनकी mobile version किसी दुसरे separate host में हों, जैसे की m.domain.com.)
  • Switchboard tags: अगर आपके पास अभी mobile switchboard tags implemented हैं, तब आपको इसके implementation को बदलने की कोई भी जरुरत नहीं है. इसे वैसे ही रहने दें.
  • इस बात का ख्याल रखें की आपके पास correct rel=canonical और rel=alternate link elements हो mobile और desktop versions के भीतर.

Mobile-Responsive vs. Mobile-Friendly

दो बहुत ही common solutions जो की people हमेशा अपने mobile websites में इस्तमाल करते हैं वो है mobile-responsive और mobile-friendly sites. वैसे तो दोनों बहुत हद तक similar होते हैं, लेकिन इन दोनों मेंभी कुछ major differences होते हैं जो की आपके SEO को negatively impact कर सकते हैं Mobile-First index में अगर उनका ठीक से इस्तमाल न किया जाये तब.

Mobile-responsive sites (या dynamic servings sites) में उनके primary content, जिसमें की text, images, video, और दुसरे page elements शामिल हैं, dynamically sync करते हैं desktop और mobile site के बिच. Google ज्यादा responsive web design को prefer करती हैं, क्यूंकि ये server को समान HTML code सभी devices को send करने के लिए हमेशा allow करते हैं.

Responsive sites virtually बहुत सारे common mobile user experience issues को eliminate करती हैं जैसे की : Pinching, zooming, squinting, और दुसरे सभी annoying functions जिससे कभी न कभी आपका जरुर पाला पड़ा होगा mobile इस्तमाल करने के वक़्त.

उदहारण के लिए image जिसे आप चाहकर भी देख नहीं पाते हैं जब आप अपने mobile को landscape mode में turn करते हैं. ये एक प्रकार का sign है की ये website mobile responsive नहीं है.

वहीँ दूसरी और, mobile-friendly sites में आप ऐसे बहुत से common user experience से सम्बंधित issues देख सकते हैं. Mobile-friendly sites allow करता है आपके content को dynamically change होने के लिए जब उसे आप एक mobile browser में देख रहे हैं. लेकिन इसका मतलब ये नहीं की आपके content responsive हैं. इसका मतलब है की आप उस site का desktop version mobile में देख नहीं सकते हैं. बल्कि आप केवल एक functional mobile site ही देख सकते हैं, जिसमें की page elements अभी भी impacted होने वाले हैं.

आज के समय में बहुत सारे device अलग अलग shapes और sizes के आ रहे हैं. ऐसे में सभी devices को mobile friendly बनाना आसान काम नहीं है, क्यूंकि उनके sizes और ratios का भी ध्यान रखना होता है. चाहे वो tablets हों, या mobile, smartphones, ऐसे बहुत सारे devices. इस बात में Mobile-friendly इन सभी का उत्तर नहीं है.

Google के हिसाब से, अगर आपका site mobile-responsive हो, तब आप इस Mobile-First Indexing में दूसरों से आगे जा सकते हैं. इस जिनकी sites Mobile Responsive हैं उन्हें Congrats ! क्यूंकि आपको कोई extra work करना नहीं होता है केवल site को maintain करना होता है, इसलिए की आपके content dynamically update होते हैं perfectly mobile में. लेकिन अगर आप एक mobile-friendly design का इस्तमाल कर रहे हों, तब आपको content को उस हिसाब से update करना होगा जिससे की ये score high कर सके Mobile-First Indexing में.

Mobile-First Indexing के विषय में Frequently Asked Questions:

क्या Mobile-First Indexing में mobile pages को एक separate mobile index में add किया जाता है?
Mobile-First Indexing में केवल एक ही index (वही जिसका इस्तमाल अब Google कर रहा है) होता है. वहीँ इसमें बदलाव के कारण इसमें कोई नयी “Mobile-First” index generate नहीं किया जाता है, और न ही इसमें कोई separate “mobile index” create किया जाता है, जहाँ “desktop index” अभी तक active हो. बल्कि ये simply change करता है की कैसे content existing index में add किया जाये.

1क्या Mobile-First index live है और मेरी site को affect कर रही है? अगर नहीं, तब ये कब से काम करना शुरू करेगा?

Google अभी Mobile-First Indexing को एक testing project के हिसाब से शुरू किया है. इसके लिए उन्होंने कुछ चुनिन्दा sites को इस project का हिस्सा बनाया है. ये सभी sites का चुनाव manually किया गया है, उनके sites को analyze कर और उनके site structure को देखकर, वो भी कुछ specific keywords के लिए ही.
लेकिन आने वाले कुछ वर्षों में Mobile-First Indexing को ज्यादा महत्व दिया जायेगा. इसलिए Google ने सभी web-masters को ये ऐलान किया है की जल्द से जल्द अपने sites को mobile optimized बना दो जिससे आने वाले समय में उन्हें फायेदा होगा.

2क्या Google केवल मेरी mobile site का ही इस्तमाल करेगा मेरी site की rankings determine करने के लिए?

Mobile-First का मतलब है की site के mobile version को primary version consider किया जायेगा जब बात आती है sites की rankings पता करने की. लेकिन ऐसे कुछ circumstances भी आते हैं जहाँ पर desktop version को भी consider किया जाता है, उदहारण के लिए अगर आपके site की mobile version नहीं हैं तब.
इसलिए आप Google ranking में mobile search results और desktop search results को लेकर काफी अलग अलग results देखने वाले हैं. जहाँ पहले Google ranking के लिए desktop search results को ध्यान देता था वहीँ अभी mobile search results को जोर दे रहा है.

3क्या Google और desktop site की ranking पर ज्यादा ध्यान नहीं देगा?

ऐसी बात नहीं है की Google और desktop site पर ध्यान देगा या नहीं बल्कि ये बात साफ है की desktop site के मुकाबले mobile site पर ज्यादा ध्यान दिया जायेगा. मुझे तो लगता है की वो traffic के हिसाब से उन्हें preference देंगे. कहने का मतलब है की अगर traffic mobile से आ रहा है तब mobile version को importance दिया जायेगा वहीँ अगर desktop computer से आ रहा है तब desktop site पर ज्यादा ध्यान दिया जायेगा. Ranking भी उसी हिसाब से तय की जाएगी.

4क्या होगा अगर मेरे Site की mobile version नहीं है तब?

अगर आपके पास mobile version नहीं है आपके site की और आपका desktop version भी ज्यादा mobile-friendly नहीं है तब आपके content indexed तो होंगे, लेकिन वो ज्यादा अच्छा ranked नहीं हो पाएंगे दुसरे mobile-friendly websites की तुलना में. ये आपके site की authority में और उसके overall ranking में negative impact डालेंगे. जो की आपके site के लिए बिलकुल भी अच्छी बात नहीं है.

5कैसे Google की ये नयी change ranking factors और strategy आगे चलकर क्या करने वाली है?

भविष्य में ये बहुत सारे ranking factors और strategy पर प्रभाव डालने वाले हैं. Researchers के अनुसार Mobile-First Indexing एक प्रकार का indication है की Google अब traditional links और HTML URLS के ऊपर कम ही depend करेगा ranking के लिए. कहने का मतलब है की Google अब URL system से दूर जाने को सोच रहा है और API type approach जो की “entities” (यानि की structured data) के ऊपर based होते हैं उनके ऊपर ज्यादा importance दे रहे हैं.

6क्या इसमें कोई अंतर है की कैसे responsive sites और separate mobile sites को treat किया जायेगा?

हाँ भी और नहीं भी. इसमें जो मुख्य कारण वो ये हैं की आपको कितना और काम करना पड़ेगा इस बदलाव के लिए तैयार होने के लिए. कहने का तात्पर्य यह है की अगर आपके पास fully responsive site हो, तब आपके पास सभी चीज़े पहले से आपके mobile version में present होना चाहिए जो की अब केवल desktop version में हो, साथ ही आपकी main challenge ये होनी चाहिए की आपकी mobile experience को well optimized करें सभी user perspective से (जैसे की page speed, load time, navigation, इत्यादि). वहीँ एक separate mobile site में, आपको ये बात को sure करना होगा की आपकी mobile version में भी वो सभी चीज़ें होनी चाहिए जो की आपके desktop site में होना चाहिए, जो की करने में बहुत समय लग सकता है सही तरह से implement करने में responsive site के comparison में.

7क्या इस update से मेरे ads/content/etc. को अपने mobile site में serve करने का नजरिया बदलेगा?

अगर आपके current approach से ads में कोई बदलाव नज़र आता है जैसे की ads का slow होना या कोई poor user experience हो तब तो आपको इस चीज़ का ख़ास ध्यान देना आवश्यक है. अगर आप चाहें की आप कुछ अपने mobile site content को hide करना चाहें अपने site में space की बचत के लिए, तब ये actually में कोई issue नहीं है क्यूंकि यहाँ पर भी content को उसी हिसाब से treat किया जाता है जैसे की उस page के article को fully loaded होकर visible होने पर होता है, ये तब तक संभव है जब तक content crawlable या accessible हो.

Mobile-First Indexing का भविष्य क्या है?

Mobile traffic ही आने वाले समय में Internet पर सबसे ज्यादा होने वाला traffic है. ये आएगा नहीं आ चूका है और बड़े लम्बे समय तक रहने वाला भी है. चूँकि अभी प्राय सभी users Mobile में data consumption करना ज्यादा prefer कर रहे हैं. ऐसे में Mobile-First Indexing की मदद से वो sites search results में ज्यादा दिखाई पड़ रहे हैं जो की users को बेहतर experience प्रदान कर रहे हैं.

अगर किसी का website ज्यादा responsive, fast नहीं है तब आने वाले समय में उनके rankings पर भरी गिरावट देखने में मिल सकती हैं. इसलिए सभी नए पुराने webmasters को अपने site के लिए उन्हें Mobile-First Indexing के सभी conditions को follow करना चाहिए. इसलिए बेहतर इसी में है की आप इस Mobile-First Indexing में अपने site को औरों से बेहतर बनाये जो की आपको आने वाले समय में बहुत काम आने वाली हैं.

Conclusion

मुझे आशा है की मैंने आप लोगों को Mobile-First Indexing क्या है? के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को Mobile-First Indexing क्या है के बारे में समझ आ गया होगा. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं. आपके इन्ही विचारों से हमें कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिलेगा. यदि आपको मेरी यह post Mobile-First Indexing क्या होता है in Hindi अच्छा लगा हो या इससे आपको कुछ सिखने को मिला हो तब अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

21 COMMENTS

  1. Sir मै अपने वेबसाइट में से जो page remove कर दिया हु वो भी गूगल पर index हो गया इससे मुझे प्रॉब्लम face करना पड़ रहा तो कृप्या आप बताये कि गूगल से मै unwanted page और category को कैसे remove करू |

    • Thanks Kajal, आज से आप लोगों को प्रतिदिन एक नया article पढने को मिलेगा. ये वाकई आपके Knowledge को बढ़ाने में मददगार साबित होगा. Article पढने के लिए धन्यवाद् और अच्छा लगे तो share जरुर करें.

  2. बहुत अच्छी जानकारी शेयर की आपने मोबाइल फर्स्ट इंडेक्स की

  3. Very helpful article! I just recently started a blog in Hindi just like you. Can give me some SEO tips for Hindi blogs or things you do to get traffic on your blog.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.