ITI क्या है और कैसे करे?

ITI क्या है? क्या आपने पहले कभी ITI के बारे में सुना हुआ है? लोग अक्सर ITI और IIT में confuse हो जाते हैं. ऐसा इसलिए क्यूंकि दोनों ही शब्दों में सिर्फ I की placement अलग अलग है. वैसे दोनों में काफी बड़ा अंतर है.

माना की दोनों ही Technology Field से सम्बंधित हैं. लेकिन जहाँ IIT एक premier technology institute हैं जो की B.Tech, M.Tech और PhD जैसे research oriented चीज़ें पढाई जाती है. वहीँ ITI एक Training Institute हैं जहाँ पर theory subjects के मुकाबले practicals पर ज्यादा ध्यान दिया जाता है. वहीँ इसमें engineering और non-engineering technical fields के training प्रदान की जाती है.

अक्सर आपने सुना होगा की students 10th के बाद या 8th के बाद जिन्हें की ज्यादा जरुरत नौकरी की होती है वो आगे के पढाई के बदले में ITI Course करना ज्यादा पसदं करते हैं. ऐसा शायद इसलिए क्यूंकि ITI एक job specific course होता है जो की students को जल्द ही Market ready बना देता है.

इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को आईटीआई कोर्स की पूरी जानकारी के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे की आपके मन के सभी सवालों के जवाब आपको इस article पर ही प्राप्त हो जाएँ. तो फिर बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं.

आईटीआई क्या है – What is ITI in Hindi

ITI Kya Hai Hindi

ITI एक प्रकार का Industrial Training Institute होता है. इन्हें ITI’s भी कहा जाता है. ये training प्रदान करता है दोनों engineering और non-engineering technical fields में.

ITI एक प्रकार का post-secondary school होता है भारत में जिन्हें की बनाया गया है Directorate General of Employment of Training (DGET) के under, वहीँ यह एक हिस्सा है Ministry of Labour & Employment Union Government of India (भारत सरकार) का.

यहाँ इन training institutes में बहुत सारे trades (subjects) जैसे की Electrical, Mechanical, Computer Hardware, Refrigeration और Air Conditioning, Carpentry, Plumbing, Welding, Fitter इत्यादि विषयों में training प्रदान की जाती है.

इन institutes को specially establish किया गया था Students को technical knowledge प्रदान करने के लिए जिन्होंने 10th standard पास कर लिया है. वहीँ ऐसे students जो की कुछ technical knowledge प्राप्त करना चाहते हैं न की higher studies pursue करना चाहते हैं. या आप कह सकते हैं की विद्यार्थियों को industry-ready बनाना.

आईटीआई का फुल फॉर्म क्या है?

ITI का फुल फॉर्म है “Industrial Training Institute“. इसे हिंदी में “औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान” कहा जाता है.

ITI का मुख्य उद्देश्य क्या है?

ITI को बनाने का मुख्य उद्देश्य है की कैसे छात्रों को technically sound बनाया जा सके, जिससे की उन्हें बढ़ते industry sectors में नौकरी प्रदान किया जा सके.

ITI’s में प्रदान किये जाने वाले courses को कुछ ऐसा design किया गया होता है जिससे की students को उचित skills सीखाया जा सके. वहीँ एक बार course के पूर्ण हो जाने के बाद, students को एक practical training से गुजरना होता है उनके trade के हिसाब से, वो भी किसी एक industry में.

इस training की अवधी (duration) करीब एक से दो वर्ष तक का होता है. यह practical training वो भी किसी एक industry में बहुत ही जरुरी होता है क्यूंकि इन्हें पूर्ण करने के बाद ही आप National Council of Vocational Training (NVCT) certificate के लिए appear हो सकते हैं.

वैसे तो ITIs को दोनों government और private संस्थाएं चलाते हैं. लेकिन इनमें Government run ITI’s की ज्यादा demand हैं और ये प्राय सभी राज्यों में स्तिथ है जैसे की Uttar Pradesh, Punjab, Haryana, Gujarat, Assam, Kerala, Madhya Pradesh इत्यादि.

आईटीआई कितने प्रकार की होती है?

आईटीआई ट्रेड (ITI Trade) के मुख्य रूप से दो प्रकार होते हैं.

1. Engineering Trades

2. Non-engineering Trades

Engineering Trades

इंजीनियरिंग ट्रेड्स पूरी तरह से Technological होती है, यानि की ये तकनिकी से जुडी हुई होती है. इस प्रकार के trade में छात्रों को ज्यादातर गणित, विज्ञान और दुसरे टेक्नोलॉजी जैसे विषय पर शिक्षा प्रदान की जाती है.

Non-engineering Trades

वहीँ नॉन-इंजीनियरिंग ट्रेड्स (Non Engineering Trades) में टेक्निकल विषय नहीं होते हैं. इसके अलावा ये विज्ञान या तकनिकी से कम ही संबंध रखते है. इन्हें अक्सर उन्ही छात्रों के द्वारा लिया जाता है जिन्हें विज्ञान के विषयों में कम दिलचस्पी हो.

ITI के trades की बात करें तब इसकी संख्या करीब 100 ट्रेड्स से भी ज्यादा है. वहीँ आप इनमें से अपने पसदं के अनुसार कोई भी Trade का चुनाव कर सकते हैं.

ITI में Admission लेने की Eligibility Criteria क्या है?

चलिए अब जानते हैं की कैसे आप ITI में Admission ले सकते हैं. यूँ कहे की ITI Admission की eligibility criteria क्या होती है.

  1. इसमें Candidate को 10th Pass करा होना आवश्यक है वो भी किसी एक recognized board से. या कोई दूसरा exam जो की recognized हो 10th standard के समान.
  2. यहाँ पर candidate को कम से कम 35% aggregate secure करना आवश्यक होता है.
  3. वहीँ candidate की आयु 14 से 40 वर्ष के भीतर होनी चाहिए admission लेने के समय में.

आईटीआई कैसे करे?

ये सवाल अक्सर बहुत से छात्रों के मन में रहता है की वो ITI की तैयारी कैसे करें? वहीँ इसका जवाब ज्यादा कठिन भी नहीं अगर आपको सही तरीका की जानकारी हो तब.

मेरा कहने का मतलब है की आपको सबसे पहले ये तय करना होगा की आपको किस trade में ITI करना है. मतलब की कौन से field में आपकी रूचि है जिसमें की आप आगे की पढाई करना चाहते हैं.

उदाहरण के लिए बता दूँ की, यदि आप Electric Appliances में रूचि रहते हैं तब आपको Electrical Trade में ITI करना चाहिए. वहीँ एक बार आपने अपने पसदं का Trade चुन लिया जो की बहुत ही जरूरी है तब आपको अब उस विषय की preparation प्रारंभ कर लेनी चाहिए. ऐसे बहुत से books हैं ऑनलाइन और offline जिनका इस्तमाल कर आप आसानी से पढाई कर सकते हैं.

फिर आपको एक चीज़ का ध्यान देना होगा की हर वर्ष July/August के महीने में Online Apply करने के लिए Forms मिलते हैं. Apply कर लेने के बाद आपको ITI के लिए एक Entrance Exam (प्रतियोगिता परीक्षा) देना पड़ता है. इसमें उत्तीर्ण होने के बाद ही आप किसी ITI College में admission कर सकते हैं.

चूँकि ये परीक्षा के लिए बहुत से छात्र आवेदन देते हैं, इसलिए आपको बाकि सभी विद्यार्थिओं से बेहतर result करना होगा. इसके बाद Merit List/Cutt-Off के हिसाब से आपको Colleges प्रदान किया जायेगा. फिर इसमें Counselling भी किया जाता है, जिसमें आपको Colleges का चुनाव करने के लिए विकल्प प्रदान किया जाता है.

मुख्य बात : ITI Entrance Exams में उत्तीर्ण होने के बाद आपको 2 प्रकार के Colleges मिलेगे, एक हैं Privates College वहीँ दूसरा है Government College. आपके ranking के हिसाब से आपको कालेज में Admission मिलती है.

ITI की Course Duration कितनी होती है?

अगर आप जानना चाहते है आईटीआई पूरा करने में कितना समय लगता है तो मैं आपको बताना चाहूँगा यह आपके कोर्स पर निर्भर करता है यह 6 महीने से लेकर 2 साल तक हो सकता है.

ITI करने के बाद कौन सा Career चुनें?

अब एक बार आप लोगों ने ITI की पढाई पूरी कर ली. इसके बाद आपको कौन सा Career चुनना है, किसी career में ज्यादा विकल्प होते हैं, आपको कौन सा जॉब करना चाहिए इत्यादि.

ITI कर लेने के बाद आप किसी भी technical और non-technical sector में काम कर सकते हैं आपके expertise के हिसाब से. वैसे तो ITI Students के सामने बहुत से विकल्प होते हैं जैसे की Private Jobs, Government Jobs (सरकारी नौकरी), Apprenticeship या higher studies इत्यादि.

वहीँ इसमें आपको किस प्रकार क काम करना है, कितनी salary मिलेगी, कहाँ पर posting होगी ये सभी चीज़ें आपके Jobs पर ही निर्भर करते हैं. इसकी पूरी जानकारी के लिए आपको ये article पढना होगा.

ITI करने के बाद कितनी Salary मिलती है?

ये सवाल की ITI करने के बाद कितनी salary मिलती है, इसका कोई सीधा सा जवाब नहीं है. मेरे कहने का मतलब है की ये आपके काम और अनुभव पर निर्भर करता है. वहीँ ये Salary Government Jobs और Private Jobs में अलग अलग हो सकते हैं.

लेकिन फिर भी एक अनुमान से बताया जाये तो इसमें शुरू में आपको Rs 10,000 से Rs 15,000 के बीच हो सकता है. वहीँ आपने यदि कोई दुसरा certification किया है तब ऐसे में आपको थोडा ज्यादा भी मिल सकता है.

आज आपने क्या सीखा

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख आईटीआई क्या है (What is ITI in Hindi) जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को आईटीआई का फुल फॉर्म के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं.

यदि आपको यह post आईटीआई के बारे में जानकारी पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये.

7 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here