Power Bank क्या है और कैसे काम करता है?

अगर आप SmartPhone का इस्तमाल कर रहे हों तब आप सभी ने Power Bank क्या है और किस काम में इस्तमाल होता है के विषय में जरुर सुना होगा. अक्सर होता है की हमें यदि कहीं जाना होता है और ऐसे ही मौके में हमारा cell phone या smartphone का battery कभी कबार dead हो जाता है, जिससे की हम इसका सही समय में इस्तमाल नहीं कर पाते हैं. सच में ये बहुत ही frustrating काम होता है.

अगर ये बात आपके साथ कभी हुआ हो तब आप समझ सकते हैं मेरे कहने के क्या मतलब है.

ऐसी ही जगहों में एक portable power bank charger सच में एक बहुत ही बड़ा अंतर पैदा कर सकता है और हमारी इस परेशनी हो चुटकियों में दूर कर सकता है.

अभी के समय में इतने ज्यादा technological advances होने के कारण, हमारे gadgets हमें convenience और साथ में lightening speed communication प्रदान करते हैं.

आप भी ये मेहसूस कर रहे होंगे की हमारे smart phones अब ज्यादा हलके, छोटे और सस्ते हो गए हैं जिससे की ज्यादातर लोग इन्हें अपने साथ अपने pocket, purse इत्यादि में सहजता के साथ ले जा सकते हैं.

अगर मैं पिछले 25 वर्षों की बात करूँ तब portable devices की वृद्धि कई गुना बढ़ गयी है और जिससे हमारे जीवन की quality भी बढ़ गयी है. वहीँ cell phones की size में भी काफी अंतर देखा गया है.

जहाँ पहले वो बड़े और भारी हुआ करते थे वहीँ अब वो छोटे और हलके बन गए हैं. ऐसे में इन cellphones और smart phones के भारी इस्तमाल के कारण इन्हें बार बार charge करने की जरुरत पड़ती है. यही कारण है की आजकल आप market में बहुत से brands के Power Banks देखने को मिल जाते हैं. वहीँ इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को इनके बारे में और पावर बैंक बनाने की विधि के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये.

यदि आप भी Power Bank in Hindi से सम्बंधित सभी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तब आज का यह article पूर्ण रूप से पढ़ें क्यूंकि आपको बहुत सी ऐसी जानकरी भी प्राप्त होंगी जिन्हें शायद आप पहले से न जानते हों. तो फिर चलिए शुरू करते हैं.

पावर बैंक क्या है (What is Power Bank in Hindi)

Power Bank Kya Hai Hindi
पावर बैंक

Power banks को हम portable batteries भी कह सकते हैं जो की कुछ circuitry के मदद से power in और power out को control करते हैं. इन Power Banks को एक USB chargers के मदद से charge किया जाता है जब power available हो. फिर उसी charged battery (power banks) की मदद से हम बहुत से devices जैसे की mobile phones, camera इत्यादि को उस समय charge कर सकते हैं जब electric power की कमी हो.

Power Banks से उन devices को charge किया जाता है जिनमें USB charger का इस्तमाल होता है. एक power bank ऐसा portable charger होता है जिसका इस्तमाल सबसे ज्यादा यात्री ही करते हैं, जिन्हें ज्यादातर एक जगह से दुसरे जगह तक जाना होता है.

इसे पावर बैंक क्यूँ कहा जाता है?

इसे Power Bank इसलिए कहा जाता है क्यूंकि जैसे की एक Bank में हम Funds को deposit करते हैं, store करते हैं और जरूरत पड़ने पर withdraw भी करते हैं, ठीक उसी तरह से Power Bank में भी charge को store किया जाता है और जरुरत पड़ने पर उसका इस्तमाल कर अपने devices को recharge किया जाता है.

इन्हें portable chargers भी कहा जाता है क्यूंकि इनका इस्तमाल हम mobile phones को charge करने के लिए कर सकते हैं बिना उन्हें mains connection के साथ connect किये ही. वैसे उन्हें charge होने के लिए main power supply की तो जरुरत होती है.

हमेशा अपने Cell Phones के लिए batteries को खरीदना और अपने साथ लेना मुमकिन नहीं है इसलिए Power Bank की जरुरत बहुत ही बढ़ जाती है.

पावर बैंक के प्रकार (Types of Power Bank in Hindi)

वैसे तो Power Banks के बहुत से प्रकार market में उपलब्ध हैं लेकिन चलिए उनमें से सबसे महत्वपूर्ण प्रकार के विषय में जानते हैं.

1. Universal or Standard Power Bank

ये वही normal power bank portable chargers होते हैं जो की प्राय सभी Online और Offline Stores में available होते हैं. इन्हें charge करने के लिए normal USB sources जैसे की USB chargers की जरुरत होती है.

2. Solar Power Bank

जैसे की नाम से पता चलता है, इन solar power banks को charge करने के लिए sunlight का इस्तमाल किया जाता है. इसे करने के लिए उनमें photovoltaic panels होते हैं. इनका इस्तमाल internal battery को trickle-charge करने के लिए होता है जब उन्हें sunlight में रखा जाता है क्यूंकि ये बहुत ही छोटे होते हैं लेकिन फिर भी ये बहुत काम के चीज़ होते हैं.

चूँकि solar charging बहुत ही slow होता है, इसलिए उन्हें charge करने के लिए एक USB charger का भी इस्तमाल किया जा सकता है. वहीँ उसके साथ में solar charging भी एक useful back-up हो सकता है, खासकर उन स्थनों में जहाँ की mains power की बिलकुल भी सुविधा न हो.

पावर बैंक की lifetime क्या है?

देखा जाये तो दो मुख्य प्रकार के forms होते हैं lifetime के जो की associated होते हैं power banks के साथ.

1. Charge Discharge Cycles

कोई भी rechargeable battery धीरे धीरे ख़राब होगी ही. Normally किसी भी battery की lifetime को परखने के लिए उसके number of charge discharge cycles को देखा जाता है की वो कितने cycles तक सही तरीके से अपनी performance प्रदान करता है. कुछ सस्ते power banks के life cycle केवल 500 तक ही होते है वहीँ कुछ बेहतरीन वाले के उससे भी ज्यादा charge discharge cycles होते हैं.

2. Self Discharge Time

सभी battery cells, चाहे वो rechargeable हो या फिर primary उनकी एक certain level की self discharge होती है. अभी के rechargeable batteries के अपनी ही control circuitry होती है, एक बहुत ही छोटी मात्र की power की जरुरत होती है इन circuits को alive रखने के लिए. जिसके कारण एक finite time ही होता है एक battery का जब तक की वो charged रहता है.

जहाँ एक बेहतर power bank करीब 6 months तक charge को conserve कर सकता है बिना कोई loss के वहीँ ख़राब quality वाले ज्यादा दिन तक charge को discharge होने से रोक नहीं सकते हैं.

Power Bank की Battery Technology क्या है?

सभी power banks की rechargeable batteries में lithium technology का ही इस्तमाल होता है. Lithium-Ion और Lithium-Polymer batteries ही सबसे ज्यादा इस्तमाल में आते हैं power banks में.
इन दोनों ही technologies में बहुत ही थोडा सा ही अलग अलग properties होता है.

1. Lithium-ion

Lithium-Ion batteries की higher energy density होती है, i.e. वो ज्यादा मात्रा की electrical charge को store कर सकते हैं एक given size या volume में, साथ ही इन्हें manufacture करने का cost भी cheaper होता है, लेकिन उनकी issue होती है ageing के साथ. ये high power density भी offer करते हैं. ये memory effect भी exhibit नहीं करती है (मतलब की जब batteries hard बन जाती है जैसे जैसे उसे charge किया जाता है). इनकी कीमत कम होती है.

2. Lithium-Polymer

Lithium-polymer power banks ज्यादा suffer नहीं करते हैं ageing से वही समान extent में इसलिए ये एक बेहतर choice होता है. लेकिन वहीँ उन्हें manufacture करना costly होता है और जिसके कारण वो सबके budget में सही नहीं बैठता है.

ये batteries ज्यादा robust और flexible होते है जब बात इनकी size और shape की आती है. वहीँ ये ज्यादा समय तक भी टिकते हैं. इनकी lightweight और low profile होने के साथ साथ ये elecrolyte leakage से भी बहुत ही कम प्रभावित होते हैं.

दोनों ही forms की power bank बढ़िया काम करती है, लेकिन वहीँ यह एक balance होता है cost और performance के बीच में.

Power Bank में Lithium Batteries का इस्तमाल क्यूँ किया जाता है?

Lithium Batteries इतने ज्यादा popular और widespread इसलिए हैं क्यूंकि इनकी high weight to power ratio होती है, जिसका मतलब की Lithium batteries बड़ी ही आसानी से 300W per kg power store कर सकता है वहीँ दुसरे popular lead acid केवल 180W per kg ही store कर सकते हैं. इसलिए ज्यादा power, less weight यही तो चाहिए एक portable device में.

एक बेहतर Power Bank खरीदने के लिए किन पहलूवों में ध्यान देना चाहिए?

अब चलिए जानते हैं की एक बेहतर Power Bank खरीदने से पहले किन पहलुओं पर ध्यान देने की आवश्यकता है.

1. Output Efficiency कैसी है

यदि आप सोच रहे हैं की एक 20,000 mAh powerbank की output करीब 20,000mAh ही होगी तब ये सोचना बिलकुल ही गलत है.

किसी भी powerbank की output efficiency कभी भी उसकी original capacity के तरह नहीं होती है. हमेशा कुछ न कुछ power loss जरुर से होता है circuit heat से, voltage conversions से battery में, charging cable में या जो device जिसे ये charge कर रहा हो.

इससे ये पता चलता है की करीब 30-40% power की loss तो इन्ही चीज़ों में हो जाती है. इसलिए यदि किसी powerbank में 30 से 40 % की power loss होती है तब ये ठीक है लेकिन यदि इससे भी ज्यादा हो तब उन power banks को नहीं खरीदना चाहिए. If it loses more power, then you should avoid purchasing that powerbank.
वहीँ अगर किसी powerbank की पॉवर लोस 30% से भी कम हो तब इसकी output efficiency सबसे बेहतर होती है.

2. Power Bank में कितने Ports मेह्जुद हैं

जब आप एक powerbank खरीद रहे हैं तब यदि आपको एक port के बदले में दो पोर्ट्स मिले तब इसमें आपको और भी सुविधा हो जाती है. खासकर तब जब आपके पास एक से ज्यादा devices मेह्जुद हों. एक extra port हमेशा आपके काम आ सकता है. इसलिए कोशिश करें की दो ports वाले Power Bank लेने के लिए.

3. Fast charging है या नहीं

चाहे आपके PowerBank में कितने में ports हो, यदि उसमें fast charging वाला port नहीं है तब व किस काम का. जैसे अभी के mobiles को charge करना वो भी slow charging ports से तब ये बहुत ही ज्यादा समय लगाने वाला कार्य हो सकता है.

वहीँ यदि एक fast charging port हैं तब इससे काम बहुत ही जल्द हो जाता है. यदि आप थोडा budget बढ़ा सकते हैं तब आपको Fast charging वाले portable charger को चुनना चाहिए.

4. Portability कैसी है

कोई भी अपने bag में एक पत्थर जैसे power bank को carry करना नहीं चाहेगा. इसलिए खरीदते समय powerbank की portability को जरुर से ध्यान दें.
ऐसी powerbank का चुनाव करें जो की आपके power need को पूर्ण कर रहा हो. साथ में उसे कहीं पर भी उठा कर ले जाया जा रहा हो. इससे आपको उसे इधर उधर ले जाने में सुविधा होगी.

5. Warranty Period कितनी है

सभी manufacturers उनके powerbanks में समान warranty offer नहीं करते हैं. जहाँ कुछ केवल 6 months ही प्रदान करते हैं वहीँ कुछ 24 months तक प्रदान करते हैं. इसलिए खरीदते समय इन चीज़ों का ख़ास ख़याल रखें.

पावर बैंक कैसे काम करता है?

Power banks एक simple battery जैसे नहीं होती है. बल्कि इसमें sophisticated electronics circuitry का इस्तमाल किया जाता है उन्हें manage करने के लिए जब वो खुद charge ही रहे हों और जब वो किसी दुसरे device को charge कर रहे हों.

साथ में battery में कितनी charge store हो सकती है उसे पहले पता किया जाता है जिससे की powerbank overcharge न हो. वहीँ इसके charge rate को ठीक रखा जाता है, इसके लिए specifically designed integrated circuits का इस्तमाल किया जाता है जिससे की ये modules को सभी जरुरत की intelligence प्रदान कर सकें.

यदि आप एक power bank के काम करने के ढंग को जानना चाहते हैं, तब ये essentially एक battery ही होती है जो की power होती है एक mains powered USB charger से. वहीँ इसमें charge को store किया जाता है और फिर उसे pass किया जाता है किसी जरुरत के device में जिसकी charge कम होती है.

इन सभी operation को करने के लिए, power bank में केवल battery ही नहीं होती है बल्कि उसके साथ कुछ sophisticated electronics भी होती हैं पूरी तरह से से programmed जो की पुरे operations को manage करते हैं.

पावर बैंक को चार्ज कैसे करे?

Power bank को charge करने के लिए उन्हें उसके company के द्वारा प्रदान किया गया cable से ही charge करें. इसमें आपको उस cable को mains supply के साथ connect करना होता है.

आप जरुर से उस powerbank के reader’s manual को एक बार जरुर पढ़ लें क्यूंकि उसें power bank को कितने समय तक charge करना है और साथ में अलग अलग जानकारी भी प्रदान की गयी होती है.

Power Bank को कैसे इस्तमाल करें?

Power Bank को इस्तमाल करना बहुत ही आसान होता है. इसमें बस आपको USB Cable को अपने mobile device में insert कर उसके दुसरे end को powerbank में लगाना होता है.

आपको ये भी देखना होता है की Power Bank में charge मेह्जुद है भी या नहीं. यदि न हो तब आपको अपने Power bank को जल्द से जल्द charge करना चाहिए. कभी भी Power Bank को full charge होने के बाद भी charge नहीं कराना चाहिए इससे उसका battery damage हो सकता है.

नकली Power Bank कैसे पहचानें?

यहाँ पर मैं आपको कुछ ऐसे tips के बारे में बताऊंगा जिससे की आप नकली powerbank को पहचान सकते हैं.

1. अगर आपके पावर बैंक पर ब्रैंड का नाम नहीं लिखा है तो नकली है. अगर आप जो पावर बैंक खरीद रहे हैं उस पर किसी कंपनी का नाम की जगह पावर बैंक लिखा है तो समझ लीजिए आप नकली पावर बैंक खरीद रहे हैं.

2. ध्यान रहे कि अक्सर नकली पावर बैंक का वज़न हल्का होता है. इसलिए वजन से ही असली और नकली में अंतर आप जान सकते हैं. इसलिए पावर बैंक खरीदते समय उसके वज़न का ध्यान रखें.

3. Fake powerbank में ज्यादा features नहीं होते हैं, इसलिए features से भी आप नकली को पहचान सकते हैं.

4. आपका पावर बैंक कितना बढ़िया है और कितने अच्छे से आपके फ़ोन को चार्ज करता है, इसका पता लगाने के लिए आप एक माइक्रो यूएसबी चार्जिंग किट ख़रीद सकते हैं जो आपके मोबाइल या पावर बैंक के बीच कनेक्ट हो जाता है. इससे आप इस बात पर नज़र रख सकते हैं कि आपका फ़ोन जल्दी चार्ज होगा या नहीं.

पावर बैंक के फायेदे क्या हैं?

चलिए Power Bank के फायेदे के विषय में जानते हैं.

1. ये बहुत ही useful होते हैं जब आपके area में power cut हो या आपके घर में electricity न हो.

2. Faster charging प्रदान करती है क्यूंकि ये highly powered devices होती हैं.

3. इन्हें आसानी से recharged किया जा सकता है बस कोई भी USB port में इन्हें attach कर.

4. Power banks आपको हमेशा freedom प्रदान करती है जब आप smartphone इस्तमाल कर रहे हों वो भी बिना battery के ख़त्म होने के tension के.

5. कोई भी कार्य करने से समय में आपको battery की चिंता करने की जरुरत ही नहीं होती है.
आप कहीं भी Travel कर सकते हैं बिना कोई tension के, जहाँ पहले आपको इसके लिए tension होना पड़ता था.

पावर बैंक का ध्यान कैसे रखे?

यदि आप अपने power bank का सबसे ज्यादा फायेदा उठाना चाहते हैं तब आपको कुछ tips और guidelines माननी होगी जिससे की powerbank की efficiency और performance को ज्यादा देर तक बजाय रखा जा सके.

1. इन्हें room temperature में रखें

कोशिश करें की हमेशा power bank को room temperature में ही रखें. मतलब की न तो ज्यादा ठण्ड और न ही ज्यादा गरम temperature में. इसके लिए आप कोशिश करें की उन्हें अपने cars या jeep में खुला न छोड़ें. क्यूंकि cars दिन में गरम हो जाते हैं और रात में ठण्ड. इससे उनकी performance में ख़राब असर पड़ता है.

2. इन्हें Charge करें first use से पहले

Manufacturers हमेशा यही recommend करते हैं की एक नए power bank को हमेशा full charge करें इस्तमाल करने से पहले. इनकी internal circuits excess charge को cut out कर देती है, इसलिए आपको एक जरूरत की charge तक इन्हें charge करनी चाहिए.

3. इनकी battery को charged रखें

सुनने में ये बहुत ही obvious लगेगा की, आपको अपनी power bank को जरुर से charge करनी चाहिए क्यूंकि अगर ये charged न हो तब ये किस काम का. इसलिए इसके charge ख़त्म होने पर आपको इसे charge कर लेनी चाहिए.

4. Charge कर लें power bank को जब आप इन्हें लम्बे समय तक इस्तमाल नहीं करने वाले हैं

Lithium ion और lithium polymer rechargeable batteries को discharged condition में नहीं रखनी चहिये लम्बे समय के लिए. क्यूंकि batteries में थोडा charge का loss जरुर से होता है अगर उसे कुछ समय तक छोड़ दिया जाये तब.

इसलिए अगर आप लम्बे समय तक इस्तमाल नहीं करने वाले हैं तब अपने power bank को full charge कर लें.

5. Power bank का इस्तमाल सही तरीके से करें

Power Banks का इस्तमाल उन devices को charge करने के लिए करना चाहिए जिन्हें की ये charge कर सकें. यदि आप बड़े devices को इससे charge करेंगे तब आपका charge जल्द ही deplete हो जायेगा. सही devices का चयन करें charge करने के लिए.

6. इन्हें Moisture से दूर रखें

Power banks चूँकि electronic devices होते हैं, इसलिए उनका इस्तमाल ऐसे जगहों में न करें जहाँ की पानी और moisture हो. इसलिए कोशिश करें की इन्हें dry places में रखने के लिए, जिससे इन्हें कोई damage नहीं होगी.

7. इन्हें ऐसे bags में न रखें जहाँ की कोई metal objects मेह्जुद हो

इन्हें ऐसे जगहों में न रखें जहाँ की कोई metal objects हों क्यूंकि इससे इसमें short circuit होने के ज्यादा chances होते हैं. इसलिए इन्हें खुले जगहों में रखें या इसके pouch में.

8. इन्हें Drop न करें

Power banks में circuit boards होते है battery के साथ. इसलिए अगर आप इसे drop करते हैं तब हो सकता है की इसका कोई बुरा असर पड़े इसके circuitary पर. इसलिए इन्हें आराम से handle करें.

क्या एयरपोर्ट और फ्लाइट में पावर बैंक उस पर ले जा सकते है?

यह एक बहुत ही ज्यादा पूछे जाने वाला सवाल है के क्या पावर बैंक अपने साथ कैरी बैग में घरेलू उड़ान पर ले जा सकता हूं? जी हाँ, आप फ्लाइट में पॉवर बैंक को अपने बैग में ले जा सकते है. चेक इन करते समय इसका जांच होता है.

पावर बैंक का स्विच ऑफ कैसे करें?

ज्यादातर पॉवर बैंक्स में स्विच ऑफ का आप्शन नहीं रहता. आप जब भी अपने क़िस्त गैजेट्स को पॉवर बैंक के साथ कनेक्ट करते है वोह आटोमेटिक ऑन हो जाता है और जब डिसकनेक्ट करते है वोह आटोमेटिक ऑफ हो जाता है. कुछ कुछ पॉवर बैंक्स में ऑफ का स्विच रहता है, पर इसकी कोई जरुरत नहीं है. इसी लिए ज्यादातर आपको यह स्विच देखनेको नहीं मिलता.

Conclusion

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख पावर बैंक क्या है (What is Power Bank in Hindi) जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पावर बैंक कैसे बनाएं के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं.

यदि आपको यह post Power Bank क्या होता है हिंदी में पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

1 COMMENT

  1. क्या पावरबैंक में ला।इनाशन कर सकते है और इसको करने पे पावरबैंक पर क्या असर पड़ेगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here