SSL क्या है, कैसे काम करता है और कहाँ से ख़रीदे?

आज हम जानेंगे के, SSL क्या है (What is SSL in Hindi)? कैसे काम करता है और हम इसे कहाँ से ख़रीदे? लाखों करोड़ो लोग हर दिन Internet का इस्तेमाल करते हैं. हर दिन कुछ न कुछ जानकारियां हासिल करते हैं, e-commerce site से सामान खरीदते हैं, online payment करते हैं, बहुत सारे site में अपना personal details देकर अपना account बनाते हैं और अलग अलग websites में sign in करते हैं. कभी हमने ये सोचा है, की हम जो अपना सारा details देते हैं चाहे वो अपना नाम हो, मोबाइल number हो, email address हो या फिर payment करते वक़्त हमारे card का details हो ये सभी जो हम details देते हैं internet पर, क्या ये सब दुसरे लोगों से जो hackers होते हैं या फिर जो इन सब चीजों का गलत इस्तेमाल भी कर सकते हैं, क्या उन सभी से सुरक्षित है? बहुत कम लोग ही ऐसा सोचते हैं.

हमारा सभी data या personal detail जो हम share करते हैं किसी भी site के साथ तो हमें एक सुरक्षित जोड़ ( secure connection) की बेहद जरुरत होती है जो हमारे details को third party से सुरक्षित रखेगा. अगर हमारा information सुरक्षित नहीं रहेगा तो वो चोरी हो सकता है. इसी परेशानी से बचने के लिए आज कल सारे website एक protocol का इस्तमाल कर रहे हैं जिसका नाम है SSL protocol. पर ये SSL क्या है? यही आज मै आपको इस लेख के जरिये बताउंगी की SSL क्या होता है और ये काम कैसे करता है?

SSL क्या है – What is SSL in Hindi

SSL Kya Hai Hindi

SSL का fullform है Secure Sockets Layer, SSL एक encryption protocol है जो Internet में इस्तेमाल किया जाता है. ये protocol internet browser और websites के बिच एक सुरक्षित संपर्क प्रदान करता है जो Internet users को अनुमति देता है की वो अपने private data को दुसरे website के साथ अदला बदली सुरक्षित रूप से कर सके. आज के वक़्त में लगभग सारे ही website SSL का इस्तेमाल कर रहे हैं. SSL protocol करोड़ो online business करने वाले लोग इसलिए इस्तेमाल कर रहे हैं ताकि वो अपने customers और उनके द्वारा किया जा रहा online transactions को प्रोटेक्ट कर सके और इसके इस्तेमाल से hacker के लिए नामुमकिन होगा की वो उस संपर्क के बिच से customer का data चुरा सके.

SSL Kya hai Hindi Me

जो website SSL का इस्तेमाल करते हैं उनका domain नाम जो होता है (जैसे www.hindime.net) उसके साथ एक बंद ताले का चित्र जुड़ा हुआ होता है जो की हमारे Internet browser के url में दीखता है और http के जगह https लिखा रहता है domain नाम के साथ, इससे पता चलता है की वो website पूरी तरह से सुरक्षित है. अगर कोई user उस ताले वाले चित्र के ऊपर click करे जो की address bar में दिखाई देता है तो वहाँ से जिस website को user देख रहा है उस website का SSL certification, identification और बाकि सारी information user को दिखा देता है. हर website का unique SSL certificate होता है.

With SSL: https://yoursite.com
Without SSL: http://yoursite.com

SSL को TLS (Transport Layer Security) protocol भी कहा जाता है. इसका इस्तेमाल सिर्फ website में ही नहीं बल्कि e-mail में और बाकि सभी जगह में इस्तेमाल किया जा सकता है. अगर कोई व्यक्ति e-commerce site चला रहा है तो उसे SSL का इस्तेमाल करना बहुत जरुरी है क्यूंकि इस site में customer से payment करने के लिए उनका सारा इनफार्मेशन लिया जाता है.

SSL काम कैसे करता है

आपने जान लिया होगा के SSL kya hai (क्या है)? तो चलिए जानते है के ये काम कैसे करता है? SSL certificate दो तरह का key का इस्तेमाल करता है; एक है Public key और दूसरा है Private key. ये दोनों key एक साथ मिल कर सुरक्षित संपर्क बनाते हैं जिसके जरिये data सुरक्षित तरीके से share होता है.

जब हमें किसी विषय के बारे में कुछ जानना होता है या कुछ खरीदना होता है तो हम अपने web browser में किसी website का नाम लिखते हैं. उसके बाद web browser उस website के server के साथ जुड़ता है जो की SSL protocol का इस्तेमाल कर रहा होता है. User अपने browser से उस website के server को request करता है की वो अपनी पहचान दे. request देने के बाद web server अपने SSL certificate का कॉपी के साथ एक public key browser में भेज देता है. उसके बाद user उस certificate को check करता है जिससे की user ये तय कर सके की वो उस website के साथ अपने प्राइवेट data को share करने के लिए उस पर भरोसा कर सकता है या नहीं. check कर लेने के बाद जब user उस पर भरोसा करने का फैसला कर लेता है तो फिर से वो उसके server को एक encrypt message भेजता है.

Web server उस encrypt message को decrypt करता है उसके बाद वो browser को acknowledgement भेजता है की user के साथ SSL encryption शुरू किया जाये, उसके बाद user का प्राइवेट data browser और web server के बिच अदला बदली सुरक्षित ढंग से होता है जो पूरी तरह से confidential रहता है.

SSL के प्रकार

SSL बहुत प्रकार के होते है और different वेबसाइट के लिए अलग अलग होते है. कुछ सस्ते होते है तो कुछ महंगे होते है. चलिए उनके बारे में जान लेते है.

1. Wildcard SSL Certificate

इस SSL Certificate के मदद से आप अपने डोमेन और सारे sub-domain को सुरक्षा प्रदान कर सकते है. यहाँ पर आपको डोमेन और organization validation मिलता है.

2. Multi-Domain (SAN) SSL Certificate

एक Multi-Domain SSL मदद से आप 250 domains को सुरक्ष्यित रख सकते है. यहं पर आपको Domain Validation, Organization Validation और Extended Validation मिलता है.

3. EV SSL Certificate

यह SSL आपकी business के लिए बनाया गया है जो वेब ब्राउज़र के address bar को ग्रीन करने के साथ साथ आपका businesss नाम भी दिखता है. ये एक highly recognized और encrypted SSL certificate है.

4. Domain validated SSL

ज्यादातर ब्लॉगर और छोटे मोटे वेबसाइट इसे इस्तिमाल करते है. ये medium लेवल की सुरक्ष्या प्रदान करता है.

5. Organization Validation SSL

यह ऑनलाइन business को verify और सुरक्ष्या प्रदान करने के लिए इस्तिमाल किया जाता है. इससे costumer को ये पता चलता है के वो एक secure और verified वेबसाइट को visit कर रहे है.

6. Code Signing Certificate

आप इसकी मदद से अपने सॉफ्टवेर के कोड को सुरक्ष्यित रख सकते है. इसके साथ साथ ये आपके files और application को भी सुरक्ष्या प्रदान करता है.

7. Multi Domain Wildcard SSL Certificate

अगर आप एक साथ बहुत सारे domains और उनके सारे sub-domains को secure करना चाहते है तो आप इसका इस्तिमाल कर सकते है. ये 250 domains और उनके सारे sub-domains को सुरक्ष्यित रखने का काबिलियत रखता है.

SSL कहाँ से खरीदें

SSL का service बहुत सारे बड़े companies प्रदान करते हैं उनमे से कुछ के नाम हैं- GoDaddy, BigRock, HostGator etc. जब हम अपने website के लिए hosting server खरीदते हैं तो हमे वो hosting कंपनी भी SSL service प्रदान करते हैं जहाँ हम hosting खरीदने के साथ साथ अपने website के लिए SSL certificate भी खरीद सकते हैं जो हमारे website को सुरक्षित रखेगा.

दिए गए companies से अगर हम SSL certificate खरीदते हैं तो हमें उसके दिए गए रकम को भरना होगा तभी जाकर हम उसका भरपूर लाभ उठा पाएंगे. लेकिन ऐसे भी बहुत से companies हैं जो SSL का services मुफ्त में प्रदान करते हैं. उनमे से एक का नाम हैं Let’s Encrypt, ये Internet Research Group का एक प्रोजेक्ट है जो मुफ्त में SSL certificate आम लोगों को प्रदान करता है. Let’s Encrypt का sponsor बहुत सारे companies कर हैं जैसे Google,Facebook, Mozilla, Cisco, etc.

अपने इसी लेख में जाना के SSL क्या है (What is SSL in Hindi), कैसे काम करता है और कहाँ से खरीदें? अगर आपको SSL से संबधित और कुछ जानकारी चाहिए, तो आप निचे comment कर सकते है.

71 COMMENTS

  1. Aap bhuat acchi post share karte ho , amazing post , aap ki post ki help se mera adsense approve ho gya hai , keep up the good work.

  2. Nice article shared by you. it gives much information about SSL that what is SSL, how to use SSL, how can we buy SSL and where we can buy. before reading this blog I really don’t know what is SSL but now I know very well. thanks for sharing this content.

  3. वाह सर बहुत अच्छी और इम्पोर्टेन्ट जानकारी शेयर किए हैं । क्योंकि, ssl सर्टिफिकेट सभी ब्लॉगर को इस्तेमाल करनी चाहिये।

  4. Nice article in hindi for beginners like me. Can you please write brief in with more explanation, what is SSL Pinning & how it works end to end.

  5. Jab m e district portal m login hota hu to ye problems aati h ( the request was aborted could not create ssl/tls secure channel iska solution batayiy mam please

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.