Web Hosting क्या है – पूरी जानकारी हिन्दी में

आज में आपको बताउंगी के, Web Hosting kya hai (क्या है)? अपना खुदका एक website होना बहुत बड़ी बात है. Website को maintain कर पाना सबके बस की बात नही, इसके लिए proper knowledge का होना बहुत ज़रूरी है. Website बनाने केलिए बहुत सी चीज़ों को ध्यान मे रखना होता है जैसे आपके website के लिए domain name और hosting का होना बेहद ज़रूरी है जिसके वजह से हमारे website को पहचान मिलती है. लेकिन जो blogging के दुनिया मे नये हैं उन्हे web hosting kya hai (क्या है) के बारे मे ज़्यादा जानकारी नही होती, और इसी कारण वो उनके ज़रूरतों के हिसाब से ग़लत hosting चुन लेते हैं जिसके वजह से उन्हे आगे जा कर बहुत सी परेशानियाँ झेलनी पड़ती है.

इसलिए आज में इस लेख मे आपको web hosting क्या है के बारे मे ही जानकारी दूँगी की web hosting kya hai (क्या है) और ये कितने प्रकार के होते हैं. ताकि आप अपने वेबसाइट के लिए सही hosting चुन सके.
Web Hosting Kya Hai

Internet Kya hai (इन्टरनेट क्या है)?

आप सोच रहे होंगे के में Internet के बारे में क्यों बता रही हूँ. Web hosting kya hai (क्या है) समझने से पहले आपको Internet क्या है जानना बहुत जरुरी है. Internet है दुनिया का सबसे बड़ा interconnected network. Interconnected का मतलब है एक दुसरे से जुड़ा हुआ. आज की पूरी दुनिया, mobile से ले कर computer तक इस बड़ी network से जुड़े हुए हैं. अपने अगर कभी किसी computer lab में एक दुशरे से जुड़े हुए computers को देखा है तो आप उसको भी Internet का नाम दे सकते हैं. जब आपका computer कोई public network से जुड़ जाता है, तो वो भी Internet का एक हिस्सा बन जाता है. जिससे आप web server या web host भी कह सकते हैं.

तो आप ये सोच रहे होंगें, के अगर आपका computer भी एक server है तो दुसरे लोग इससे क्यों नहीं देख पाते? इसका जवाब ये है के, हर computer और mobile में privacy और security रहता है, इसीलिए दुसरों इसे access नहिं कर पाते. अगर आप इसी security को हटा के public access दे देते है तो हर कोई आपकी computer में रखे गए contents को देख पायेगा. चलिए अब web hosting के बारे में जान लेते है.

Web Hosting Kya Hai (वेब होस्टिंग क्या है) – What is Web Hosting?

Web hosting (web server) सारे websites को Internet मे जगह देने की सेवा प्रदान करता है जिसके वजह से किसी एक व्यक्ति या organization के website को पूरी दुनिया मे Internet के ज़रिए access किया जा सकता है. जगह देता है से मेरा मतलब है की आपके website के files, images, videos, etc को एक special computer पे store करके रखता है जिसको हमweb server कहते हैं. वो computer हर वक़्त 24×7 Internet से connected हो कर रहता है. Web hosting की सेवा हमे बहुत सारे companies प्रदान करते हैं जैसे Godaddy, Hostgator, Bluehost, etc. और इनको हम web host भी कहते हैं. एक हिसाब से हम ये भी कह सकते हैं की अपने वेबसाइट को दूसरे high powered computers (web servers) मे store करके रखने के लिए हम उन्हे किराया देते हैं जैसे हम किसी अंजान के घर मे रहने के लिए किराया देते हैं ठीक उसी तरह.

Web Hosting Kaam Kaise Karta Hai (काम कैसे करता है)?

जब हम अपना website बनाते हैं तो हम यही चाहते हैं की हम अपना knowledge और information लोगों के साथ बाटें, तो उसके लिए हमे पहले अपने files को web hosting पर upload करना पड़ता है. ऐसा कर लेने के बाद, जब भी कोई Internet यूज़र अपने web browser(Mozilla Firefox, Google Chrome, Opera) पे आपका domain name टाइप करता है जैसे मान लीजिए http://hindime.net, फिर उसके बाद Internet आपके domain name को उस web server से जोड़ देता है जहाँ आपके website का फाइल्स पहले से ही store हो कर रखा गया है. जोड़ने के बाद website का सारा information उस यूज़र के कंप्यूटर मे पहुँच जाता है फिर वहाँ से यूज़र अपने ज़रूरतो के हिसाब से पेज को view करता है और ज्ञान ग्रहण करता है.

Domain Name को hosting में जोड़ने केलिए DNS(Domain Name Syatem) का इस्तिमाल किया जाता है. इससे domain को ये पता चलता है के आपका website कौनसे web server में रखा गया है. क्यूँ की हर server का DNS अलग अलग होते है.

Web Hosting Kahan se Kharide (कहाँ से खरीदें)?

दुनियां में बहुत सारे companies है जो बेहतर से बेहतर hosting provide करते है. अगर आप चाहते है के आपके सारे visitors India से ही हो, तो आपको India से hosting खरीदना बेहरत रहेगा. आपकी hosting का server आपके country से जितना दूर रहेगा, website को access करने में आपको उतना time लगेगा. अगर आप India के जितने web hosting providers है, उनसे hosting खरीदते है तो आपको उसके लिए credit card की जरुरत नहिं पड़ेगा. आप अपने ATM card या फिर Internet banking के जरिये खरीद सकते है. एक बार आप hosting खरीद लेते है तो आप आसानी से उसको अपने domain name के साथ जोड़ कर access कर सकते हैं. निचे आपको कुछ website के नाम मिलेंगे, जो के भरोशे के लायक है और अच्छा service देते हैं.

हमारा blog Hostgator India के hosting में चल रहा है. WordPress blog केलिए WordPress company BlueHost को recommend करता है. आप चाहे तो दुशरे hosting भी ले सकते है.

Kounsi Company Se Web Hosting Kharide?

Web Hosting खरीदने केलिए आपके पास बहुत सारे options आयेंगे, पर आपको ये decide करना पड़ेगा के आपके जरूरतों के हिसाब से कौनसा company ठीक रहेगा. Hosting खरीदने से पहले कुछ जानकारिय होना बेहद जरुरी है.

Disk Space

Disk Space होता है आपके hosting का storage capacity. जैसे आपके computer में रहता है 500GB और 1TB space, उसी तरह hosting में भी storage रहता है. हो सके तो unlimited disk space वाला hosting खरीदें. इससे आपको कभी disk full होने का खतरा नहिं रहेगा.

Bandwidth

एक second में आपकी website के कितने data access कर सकते है उसे हम bandwidth कहते है. जब कोई आपकी website को access कर रहा होता है तो आपकी server कुछ data use करके उसे information share करता है. अगर आपका bandwidth कम है और आपके website को ज्यादा visitor access कर रहे है तो आपकी website down हो जायेगा.

Uptime

आपकी website जितने time online या available रहता है उसे uptime कहते है. कभी कभी कुछ problems के कारण आपका website down हो जाता है, मतलब खुल नहिं पता. उसे हम downtime कहते है. आज कल हर company 99.99% uptime के guarantee देते है.

Customer service

हर hosting company कहता है के वो 24×7 customer service provide करते है. पर आखिर में ऐसे नहिं होता. में जितना भी hosting service use कि हूँ, सबसे अच्छा customer service Hostgator देता है. Godaddy के customer service केलिए आपको फ़ोन पे ही बात करना पड़ेगा, जो के free नहिं है.

Web hosting kitne prakar ke hote hain – Types of Web Hosting

आपने तो जान लिया web hosting kya hai और कैसे काम करता है. अब जानते है के ये कितने तरह के होते हैं. Web hosting बहुत से प्रकार का होता है, लेकिन आज के वक़्त मे जो सबसे ज़्यादा इस्तेमाल किया जा रहा है हम सिर्फ़ उन्ही के बारे मे जानेगे. तो मूल रूप से web hosting 3 प्रकार के होते हैं.

1) Shared web hosting
2) VPS (Virtual Private Server)
3) Dedicated hosting
4) Cloud Web Hosting

Shared Web Hosting

जब हम घर से बहार कहीं पढने जाते हैं या job के लिए जाते हैं तो हम एक किराये वाले घर में रहते हैं जहाँ हमारे साथ और भी बहुत से दुसरे लोग एक साथ एक ही रूम share करते हैं ठीक उसी तरह shared web hosting भी ऐसा ही काम करता है. Shared web hosting में एक ही server होता है जहाँ हजारों websites के files एक साथ एक ही server computer में store हो कर रहता हैं इसलिए इस hosting का नाम shared रखा गया है. Shared web hosting उन लोगों के लिए सही है जिन्होंने अपना website नया नया बनाया हो क्यूंकि ये hosting सबसे सस्ती होती है. इस hosting से आपको तब तक मुसीबत नहीं झेलनी पड़ेगी जब तक आपका website मसहुर न हो जाये और जब आपके websites में visitor बढ़ने लगेंगे तो आप अपना hosting change भी कर सकते हैं. जैसा की ये shared web server है अगर कोई website बहुत व्यस्त हो जाये तो बाकि सारे website उसके कारण धीमें हो जायेंगे और उनके page को खुलने में वक़्त लग जायेगा, ये इस web hosting का सबसे बड़ा demerit है. Shared hosting का इस्तेमाल ज्यादा तर नए bloggers ही करते हैं. इसमें बहुत सारे users एक ही system का CPU, RAM इस्तिमाल करते है.

Shared Hosting के फायेदे
•  ये hosting का इस्तमाल और setup करना बहुत ही आसान है.
•  Basic Websites के लिए ये बढ़िया option है.
•  इसकी कीमत बहुत कम होती है इसलिए इसे सभी खरीद सकते हैं.
•  इसकी control panel बहुत ही user friendly होती है.

Shared Hosting के नुखसान
•  इसमें आपको बहुत ही limited resources access करने को मिलेंगी.
•  चूँकि आप इसमें server को दूसरों के साथ share करते हैं इसलिए इसकी performance में थोडा ऊपर निचे होने की संभावनाएं होती है.
•  इसकी security उतनी बेहतर नहीं होती है.
•  प्राय सभी companies इसमें ज्यादा support प्रदान नहीं करती हैं.

VPS Hosting

VPS hosting एक hotel के रूम की तरह होता है. जहाँ उस room के सारे चीजों पर बस आपका हक रहता है. इसमें और किसीका भी शेयरिंग नहिं होता. VPS hosting में visualization technology का प्रोयाग किया जाता है. ज्सिमे एक strong और secure server को virtually अलग अलग हिस्सों में divide कर दिया जाता है. पर हर एक virtual server केलिए अलग अलग resource use किया जाता है. जिससे आपके website को जितना resource की जरुरत होता है वो उतना use कर सकता है. यहाँ आपको दुशरे किसी website के साथ share करना नहिं पड़ता और आपके website को best security और performance मिलता है. ये hosting थोडा costly है और ज्यादा visitor वाले website इस्तिमाल करते हैं. अगर आपको कम पैसो में dedicated server जैसे performance चाहिए तो आपके लिए VPS best है.

VPS Hosting के फायेदे
•  इस Hosting में सबसे बेहतर performance प्रदान करी जाती है.
•  इसमें एक dedicated hosting के तरह ही आपको full control मिलती है.
•  इसमें आपको ज्यादा flexibility मिलती है क्यूंकि आप इसे अपने तरीके से customize कर सकते हैं और memory upgrades, bandwidth जैसे बदल सकते हैं .
•  Dedicated Hosting के तुलना में ये ज्यादा कीमती नहीं है जिसके चलते इसे कोई भी खरीद सकता है जिनकी traffic ज्यादा हो.
•  इसकी privacy और security बहुत ही बेहतर होती है.
•  इसके अलावा इसमें आपको अच्छा support प्रदान किया जाता है.

VPS Hosting के नुखसान
•  इसमें आपको dedicated hosting के तुलना में कम resources प्रदान किया जाता है.
•  इसे इस्तमाल करने के लिए आपके पास technical knowledge का होना आवश्यक है.

Dedicated Hosting

जीस तरह shared hosting में बहुत से website एक ही server का जगह share करते हैं dedicated hosting उसका पूरा ही उल्टा है. इसका उधारण ठीक वैसा ही है जैसे एक व्यक्ति का अपना एक बड़ा सा घर होता है और उसमे किसी और को रहने के लिए इज़ाज़त नहीं होती और उस घर की सारी ज़िम्मेदारी केवल उस व्यक्ति की होती है, dedicated hosting का काम भी कुछ ऐसा ही है. Dedicated hosting में जो server होता है वो सिर्फ और सिर्फ एक ही website का files store करके रखता है और ये सबसे तेज server होता है. इसमें sharing नहीं होता है. और ये hosting सबसे मेहेंगी होती है क्यूंकि इसका पूरा किराया केवल एक ही व्यक्ति को भरना पड़ता है. जिनकी website पर हर महीने ज्यादा visitor आते हैं ये hosting सिर्फ उनके लिए ही सही है. और उनके लिए भी जो अपने website से ज्यादा पैसा कमाना चाहते हैं. बहुत सारे e-commerce site जैसे Flipkart, Amazon, Snapdeal dedicated hosting ही इस्तेमाल करते हैं.

Dedicated Hosting के फायेदे
•  इसमें client को server के ऊपर ज्यादा control और flexibility दिया जाता है.
•  सभी Hosting की तुलना में इसमें security सबसे ज्यादा होती है.
•  ये सबसे ज्यादा stable होता है.
•  इसमें client को full root/administrative access प्रदान किया जाता है.

Dedicated Hosting के नुखसान
•  ये सभी hosting के तुलना में महंगा होता है.
•  इसे control करने के लिए आपके पास technical knowledge का होना आवश्यक होता है.
•  यहाँ पर आप अपने problems को खुद solve नहीं कर सकते जिसके चलते आपको technicians को hire करना होता है.

Cloud Web Hosting

Cloud webhosting एक ऐसा प्रकार का hosting है जो की दुसरे clustered servers के resources का इस्तमाल करते हैं. Basically, इसका मतलब ये हैं की आपकी website दुसरे servers के virtual resources का इस्तमाल करती है जिससे ये आपके hosting के सभी aspects को पूर्ण करती है. यहाँ पर load को balance किया जाता है, security का ख़ास ध्यान रखा जाता है और इसमें सारे hardware resources virtually available होते हैं जिससे की इसे कभी भी और कहीं प्र भी इस्तमाल किया जा सकता है. यहाँ पर cluster of servers को ही cloud कहते हैं.

Cloud Hosting के फायेदे
•  यहाँ पर Server down होने के chances बहुत ही कम होते हैं क्यूंकि सभी चीज़ें cloud में उपलब्ध होती है.
•  यहाँ पर बड़े high traffic को भी आसानी से handle किया जा सकता है.

Cloud Hosting के नुखसान
•  यहाँ पर root access की सुविधा प्रदान नहीं की जाती है.
•  बाकियों की तुलना में ये hosting थोडा ज्यादा महंगा होता है.

Linux vs Windows Web Hosting

Hosting खरीदते समय आपके पास दो options रहते है. एक है Linux का उर दुशर है Windows का. कभी अपने ये सोचा है के दोने में क्या फर्क है? आप दोनों में से कोई भी hosting use कर सकते है, पर Windows hosting थोडा महंगा पड़ता है. Linux एक open source operating system है, तो इसीलिए इसे use करने केलिए hosting company को पैसे देने नहिं पड़ते. इसीलिए ये सस्ता होता है.

पर Windows के license के लिए company को पैसे देने पड़ते है, इसीलिए ये महंगा है. दोनों हो server बहुत बढ़िया है पर Windows को Linux से ज्यादा secure माना जाता है. आप ज्यादातर blog और websites को Linux के server में ही पाएंगे, क्यूँ की ये सस्ता होते है और Windows से ज्यादा features देते है.

इसी लेख में अापने जाने के Web hosting kya hai (क्या है), kitne type ke hai, Hosting kaha se kharide, etc. आसा करती हूँ के आपको ये जानकारी पसंद आया होगा. अगर आप blogging को लेके serious है तो free hosting use करना छोड़ दीजिये और कोई अच्छा company से hosting खरीद लीजिये. अगर आपको फिर भी कोई doubts है तो आप निचे comment करके पूछ सकते है.

184 COMMENTS

  1. Sir Mujhe Please Bataye ki Cloudways se hosting server Lena sahi hai ya nahi or Cloudways me Jo 10$ per month ka plan hai usme kitne visitors handle kar sakte hai

  2. Hello madam ……!
    Aapne achhi jaankari di hai ….
    Web hosting k baare me……?

    Kiya blogger ke liye free domain name mil sakti hai……….ya sasti……
    .com lagne wala…….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.