Android Wear OS क्या है और काम कैसे करता है?

क्या आपको Android Wear OS क्या है के विषय में जानकारी है? आपने जरुर ऐसे smart watches देखे होंगे जहाँ की लोग अपने कलायिओं में इन्हें पहनकर बहुत से काम कर लेते हैं. अगर हम आज के Technology World की बात करें तब SmartPhones के Success के बाद अब बारी है Smart Wearables का. अगर हम इन Smart Watches की बात करें तब ये Smart Watches को बहुत से Brand बनाया करते हैं जैस की Google, Apple इत्यादि. जहाँ Apple के software platform जो की Apple के Watches में इस्तमाल किया जाता है उन्हें WatchOS कहा जाता है. वहीँ Google के software platform को Wear OS कहा जाता है.

Google के द्वारा market में लाया गया ये एक ऐसा Operating System है जिन्हें की Wearable Devices जैसे की smart watches में इस्तमाल किया जाता है. चूँकि इन्हें हाथों में पहना जाता है इसलिए इन्हें Android Wear कहा जाता है इसके साथ ये ऐसा प्रतीत होता है की मानो एक android phone के miniature version को कलाई में पहना गया हो. Android Wear Google के Operating System का एक ऐसा version है जिसे की ख़ास तोर से smartwatches और दुसरे wearables के लिए बनाया गया है. इन्हें कुछ इसप्रकार के बनाया गया है की जिससे एक बार इन्हें आप अपने Smartphones के साथ pair कर देने पर ये Google Now functionality और mobile notification के साथ Integrate हो जाता है. जिसकी मदद से ये Android Wear आपके सारे information को organize कर देता है, आपको क्या चाहिए वो suggest करता है और इसके साथ आपके पूछने से पहले ही उन्हें display करता है.

इस Android Wear के साथ users अपने मन मुताबक बहुत से काम कर सकते हैं जैसे की मौसम की जानकारी, गाने सुनना, रास्ते का दिशा प्राप्त करना और इसके साथ आप अपने Smartphone को भी control कर सकते हैं. ऐसे में इसप्रकार के technology के प्रति लोगों के भीतर उत्सुकता का होना जाहिर सी बात है इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को Android Wear या Wear OS in Hindi क्या है के बारे में पूरी जानकारी दे दी जाये, इससे आपको भी कुछ नया सीखने को मिलेगा और यदि आप चाहें तब इन्हें आसानी से खरीद भी सकते हैं. तो फिर देरी किस बात चलिए शुरु करते हैं और Wear OS के विषय में जानते हैं Hindi में.

Wear OS क्या है

Android Wear OS Kya Hai Hindi

हाल ही में ही Google ने इसका नाम Android Wear से बदलकर Wear OS रख दिया है. ये एक ख़ास प्रकार के Operating System हैं जिन्हें की केवल Smartwatches और दुसरे Wearables के लिए ही बनाया गया है. अगर इन्हें किसी Android SmartPhone जो की Android Version 4.3 या उससे ऊपर पर चल रहा हो तब ये Wear OS Google Assistant technology और mobile notifications को integrate कर smartwatch form factor में बदल सकता है.

इसके साथ इसमें Google Play Store से Apps download का सकने की भी ability है. यह Wear OS Bluetooth, Wifi, 3G, 4G, LTE सभी technology को support करता है. इनके Software हिस्से को Google बनता है वहीँ hardware हिस्से को दुसरे companies जैसे की Asus, Broadcom, Fossil, HTC, Intel, LG, MediaTek, Imagination Technologies, Motorola, New Balance, Qualcomm, Samsung, Huawei, Polar and TAG Heuer बनाते हैं. इनका नया Tag Line है “Make every minute Matter”.

Android Wear का इतिहास

अगर में इस platform के बारे में आपको बताऊँ तो इसे March 18, 2014, में announce किया गया था developer preview के साथ. उसी समय ही दुसरे companies जैसे की Motorola, Samsung, LG, HTC और Asus को भी इसके partners के तोर पर announce किया गया था. फिर June 25, 2014, में Google I/O में Samsung Gear Live और LG G Watch को launch किया गया, और इसके साथ Android Wear के बारे में ज्यादा details में भी बताया गया.

आप लोगों की जानकारी के लिए बता दूँ की LG G Watch ही वो पहला Android Wear smartwatch है जिसे की सबसे पहली बार release और ship किया गया था. वहीँ इसके बाद Motorola’s Moto 360 को September 5, 2014, में release किया गया.

Wearable Technology के समस्याएं

देखा जाये तो wearable technology बहुत ही पहले market को आ चुकी थी लेकिन इसे लोगों ने इतना ज्यादा पसंद नहीं किया. इसलिए ये technology ज्यादा develop नहीं कर सकी. तो यहाँ हम जानेंगे की आखिर ऐसे क्या कारण हैं जो की wearable technology को ज्यादा develop नहीं होने दिए.

  • सबसे पहला कारण यह है की इसमें developer market दुसरे Smartphones और tablets के तुलना में ज्यादा open नहीं थे.
  • उस समय programming language open source नहीं थे और इसके साथ platform dependent भी थे. आसान भाषा में उस समय developers को दुसरे programming languages जैसे की assembly या native c सीखना पड़ता था libraries और apps develop करने के लिए. जहाँ आज Swift और Java जैसे languages हैं आसानी से platform develop करने के लिए.
  • दुसरे मेह्जुदा wearables ज्यादा popular नही थे. Pebble तब crowdfunding में चल रहा था और उसमें touch screen, sound, colours के न होने से वो ज्यादा users अपने और attract नहीं कर पाया.

ऐसे में Android Wear OS ने smart wearable devices के segment में एक नयी क्रांति ले आई है. अब Developers बहुत ही वाकिब हैं Android app development को लेकर और उनका अब Android Wear के ऊपर बहुत control हैं जो की पहले नहीं हुआ करता था. चूँकि ये अब बहुत ही अलग अलग प्रकार के shapes और sizes में आते हैं smartphones के तरह इसलिए इनका market बहुत तेजी से बढ़ने की काफी उम्मीद हैं लोगों को. Wearable technology अब बहुत ही आसान बन गया है customize और develop करने के लिए Android API की मदद से.

Wear OS के Features

देखा जाये तो Android Wear OS में ऐसे बहुत से features हैं जो की आप एक normal digital watch में नहीं देख सकते हैं. तो अब चलिए जानते हैं की इसके मुख्य features क्या हैं.

  • Screen always का feature जहाँ पर अगर हम अपने Android Wear के screen को थोडा टेढ़ा कर लें तब screen automatically light हो जाएगी. (tilt to wake screen)
  • Users अपने directions के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं जिसके लिए उन्हें अपने transport mode को चुनना होगा और अपनी journey start करनी होगी. सफ़र के दोरान ये watch आपको उचित रास्ता दिखाएगी और turn आने पर vibrate भी करेगी.
  • Google Fit और दुसरे similar applications के मदद से आप अपने physical activities को track कर सकते हैं. क्यूंकि इसमें ऐसे बहुत से sensors लगे हुए हैं जो की आपको आपके heartbeat, step count, calorie expenditure के बारे में जानकारी प्रदान करते हैं.
  • इससे आप अपने phone को control कर सकते हैं और कुछ काम जैसे की music को सुनना, उसे control करना (volume, brightness), media images देखना इत्यादि आप बड़ी आराम से कर सकते हैं.

Wear OS Ecosystem क्या है

Android Wear ecosystem में मुख्य रूप से दो component स्तिथ होते हैं. एक है (open) Android OS और एक (closed) Wear framework जो की उसके ऊपर run कर रहा होता है, इसके साथ ये user interface को भी run करता है, apps manage और आपके दुसरे companion device (जैसे की आपका phone) के साथ communicate करते हैं.

यह framework को own और manage Google करता है एक closed-source के हिसाब से. वहीँ
Google इस platform को fragmentation होने से रोकती है और सभी devices के लिए पूरी ownership खुद maintain करती है. इसलिए अगर एक manufacturer अपने product को launch करना चाहता है तब उसे Google से permission लेनी होगी Android Wear को उस product में run करने के लिए.

WatchOS (iOS) और Wear OS (Android) में क्या बेहतर है ?

वैसे तो हम इन दोनों को ऐसे compare नहीं कर सकते क्यूंकि दोनों की अपनी ही विसेस्ताएं हैं, लेकिन फिर भी चलिए जानते हैं की आखिर इन दोनों में से किसकी ज्यादा विसेस्ताएं हैं.

Wear OS (ANDROID) की विसेस्ताएं:

1. Ecosystem ज्यादा open हैं :  Wear OS की Ecosystem ज्यादा open है दुसरे operating system की तुलना में.

2. Maps ज्यादा बेहतर हैं : Google Maps ज्यादा बेहतर होते हैं Android में iPhone की तुलना में क्यूंकि इसमें ज्यादा बेहतर graphics, बेहतर integration Google Buzz, turn-by-turn navigation इत्यदि होते हैं.

3. Google की voice integration Android में बेहतर होती है.

4. यहाँ ज्यादा handsets को चुनने की बेहतर option हैं.

5. इसके साथ यहाँ carriers का चुनाव आप बहुत से options से कर सकते हैं.

6. इनकी कीमत ज्यादातर समय कम होती है इसके प्रतिद्वंदी के तुलना में.

7. Voice response भी बेहतर होता है.

8. Google’s services के साथ आसानी से integration होना.

9. ज्यादा customizable होना. दूसरों के तुलना में Android में हमारे पास ज्यादा option होते हैं Customize करने के लिए.

WatchOS (Apple) की विसेस्ताएं:

1. यहाँ पर Apps की overall qualityबेहतर होती है. क्यूंकि वो ज्यादा crash नहीं होते हैं, ज्यादा काम कर सकते हैं और ज्यादा mature होते हैं.

2. इसमें ज्यादा apps support करते हैं.

3. इसकी usability दूसरों के तुलना में बेहतर होती है. एक screen से दुसरे में navigate करने में आसानी होती है.

4. ये Apple devices के साथ आसानी से integrate हो जाता है.

5. इसमें ज्यादा third-party accessories को support करता है.

6. इनकी Tech Support बहुत ही अच्छी होती है दूसरों के तुलना में.

7. इसमें ज्यादा bleeding edge apps होते हैं जो की एक tech जानकार के लिए बहुत अच्छा है.

8. इनकी Hardware की designs बहुत बेहतर होती है और premium feel कराती है.

9. इसमें developers को Apps develop करने में बड़ी आसानी होती है.

Android Wear OS के Versions

अब तक Android Wear के लगभग 12+ version market में आ चुके हैं और ये लगातार update भी हो रहे हैं. प्रत्येक update में नए नए features को add किया जाता है जिससे Users को इसे इस्तमाल करने में बड़ी आसानी होती है.

सबसे पहला vesion था 4.4 W1 जिसे की June 2014 में release किया गया था, वहीँ last update था 2.9 जिसे की Feb 2018 में release किया गया है. उम्मीद है की जल्द ही हमें नया update देखने को मिलेगा.

किन Devices में नया Update देखने को मिलेगा

Company का कहना है की उन्होंने इस नए update को “Wear OS” का नाम दिया है, और ये सभी wearables operating system के लिए समान रहेगा. इसका मतलब है की इसमें iOS और iPhone users भी शामिल रहेंगे. इससे पता चलता है की इस नए Operating System को platform independent बनाया गया है जिसे किसी भी Platform में चलाया जा सकता है.

सुनने में आया है की Wear OS platform update के आने के बाद Market में कुछ नए और latest Android Wear smartwatches आने वाले हैं. वहीँ मैंने ऐसी ही एक list निचे mention करी है जिन wearable devices में नयी Wear OS की update आने वाली है Google के अनुसार :

    • Casio PRO TREK Smart WSD-F20, Casio WSD-F10 Smart Outdoor Watch
    • Diesel Full Guard
    • Emporio Armani Connected
    • Fossil Q Control, Fossil Q Explorist, Q Founder 2.0, Q Marshal, Q Venture, and Fossil Q Wander
    • Guess Connect
    • Gc Connect
    • Huawei Watch 2 (both cellular & non-cellular versions)
    • Hugo BOSS BOSS Touch
    • Kate Spade Scallop
    • LG Watch Sport, LG Watch Style
    • Louis Vuitton Tambour
    • Misfit Vapor
    • Michael Kors Access Bradshaw, Access Dylan, Access Grayson, and Michael Kors Sofie
    • Montblanc Summit
    • Movado Connect
    • Mobvoi Ticwatch S & E
    • Nixon Mission
    • Polar M600
    • Skagen Falster Smartwatch
    • TAG Heuer Connected Modular 41, TAG Heuer Connected Modular 45
    • Tommy Hilfiger 24/7 You
    • ZTE Quartz

वैसे officially ये अभी तक भी नहीं बताया गया है की कब ये नयी update आने वाली है लेकिन बहुत ही जल्द ये आ जाएगी. इसलिए तब तक के लिए आपको update के आने के इंतजार करना पड़ेगा.

मुझे पूर्ण आशा है की मैंने आप लोगों को Android Wear OS क्या है? के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को Android Wear क्या है के बारे में समझ आ गया होगा. मेरा आप सभी पाठकों से गुजारिस है की आप लोग भी इस जानकारी को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में Share करें, जिससे की हमारे बिच जागरूकता होगी और इससे सबको बहुत लाभ होगा. मुझे आप लोगों की सहयोग की आवश्यकता है जिससे मैं और भी नयी जानकारी आप लोगों तक पहुंचा सकूँ.

मेरा हमेशा से यही कोशिश रहा है की मैं हमेशा अपने readers या पाठकों का हर तरफ से हेल्प करूँ, यदि आप लोगों को किसी भी तरह की कोई भी doubt है तो आप मुझे बेझिजक पूछ सकते हैं. मैं जरुर उन Doubts का हल निकलने की कोशिश करूँगा. आपको यह लेख Android Wear OS in Hindi कैसा लगा हमें comment लिखकर जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले.

“ मेरा देश बदल रहा है आगे बढ़ रहा है ”

आइये आप भी इस मुहीम में हमारा साथ दें और देश को बदलने में अपना योगदान दें.

HindiMe Community

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here