गूगल का आविष्कार किसने किया?

गूगल का आविष्कार किसने किया और कब हुआ? आज के समय मे बिना इंटरनेट के दुनिया की कल्पना करना भी मुश्किल सा लगता हैं. कुछ दशकों पहले जाया जाए तो इंटरनेट नाम की किसी चीज का वजूद भी नही था और यह दुनिया की सबसे बड़ी जरूरतों में से एक बन चुका हैं. आज के समय इंटरनेट इतना महत्वपूर्ण हैं कि अगर सबसे जरूरी चीजों की लिस्ट में रोटी, कपड़ा और मकान के बाद कोई चौथी चीज जोड़ी जाए तो वह हैं इंटरनेट!

आज हर क्षेत्र में इंटरनेट का बहुत बड़ा योगदान हैं. प्रौद्योगिकी का 90 प्रतिशत से भी अधिक भाग इंटरनेट पर ही टिका हैं. बड़े बड़े बिजनेस, यहां तक कि पूरे के पूरे देश भी इंटरनेट से जुड़े हुए हैं.

आज के समय मे इंटरनेट हम सभी के लिए काफी जरूरी बन गया हैं. अगर इंटरनेट ना होता तो शायद आप यह लेख भी ना पढ़ रहे होते. लेकिन आज हमारे सामने इंटरनेट का जो स्वरूप हैं वो पहले ऐसा नही था. इंटरनेट के आविष्कार के बाद भी इससे जुड़े हुए कई अविष्कार हुए जिसने इसे और भी बेहतर बनाया.

इन्ही में से एक अविष्कार था Google!

google ka avishkar kisne kiya tha

गूगल के बारे में आज सब जानते हैं. कुछ लोग इसे एक प्रौद्योगिक क्षेत्र की बड़ी कम्पनी के रूप में स्वीकार करते हैं तो कुछ लोग एक सॉफ्टवेयर कम्पनी के रूप में. गूगल कई डिजिटल क्षेत्रो में सक्रिय हैं लेकिन इसे असली पहचान इसके Search Engine से मिलती हैं.

आज के समय मे दुनिया की सबसे बड़ी कम्पनियो में से एक ‘Google‘ की शुरुआत एक सर्च इंजन के रूप में हुई थी जो Web Pages को एनालाइज करके लोगो को उन्हें ढूंढने में मदद करता था. लेकिन क्या आप जानते हैं कि ‘गूगल का आविष्कार किसने किया‘ और ‘गूगल का आविष्कार कब हुआ‘? अगर नहीं, तो इस लेख को पूरा पढ़े.

गूगल क्या है?

गूगल एक सर्च इंजन है जिसके द्वारा आप इन्टरनेट पर कोई भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. इंटरनेट की दुनिया मे सबसे बड़े अविष्कारों में से एक हैं. गूगल की शुरुआत भले ही एक सर्च इंजन के तौर पर हुई हो लेकिन आज के समय मे यह एक इंटरनेशनल कम्पनी हैं जिसमे हर एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर काम करना चाहता हैं.

गूगल न केवल सॉफ्टवेयर की फील्ड में बल्कि हार्डवेयर की फील्ड में भी धमाल मचा रहा हैं. गूगल के पिक्सल फ़ोन, गूगल होम जैसे प्रोडक्ट्स को लोगो ने जमकर पसन्द किया हैं.

दुनिया में सबसे ज्यादा उपयोग किए जाने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉयड भी गूगल का ही है और सबसे बेहतरीन पिसी ऑपरेटिंग सिस्टम में से एक ChromeOs भी गूगल का ही एक प्रोडक्ट हैं. इसके अलावा YouTube, Blogspot,

Google Assistent, Google Keep, Google Docs, Gmail और Google Suit जैसे कई लोकप्रिय प्रोडक्ट्स गूगल ने ही लॉन्च किया हैं.

सरल भाषा मे Google को समझा जाए तो यह एक मल्टीनेशनल टेक्नोलॉजी कंपनी है जो मुख्य रूप से इंटरनेट से जुड़े सर्विस पर प्रोडक्ट्स जैसे कि ऑनलाइन एडवरटाइजिंग प्रौद्योगिकी, क्लाउड कम्प्यूटिंग, सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर के फील्ड में काम करती है. विकिपीडिया की मानें तो हाल ही में गूगल को विश्व के पांच सबसे बड़ी प्रौद्योगिकी कंपनियों की लिस्ट में शामिल किया गया है. कुछ देशों को छोड़कर गूगल पूरी दुनिया में अपनी सेवाएं और प्रोडक्ट्स उपलब्ध करवाता है.

गूगल पर भारत के कनेक्शन के बारे में बात करें तो एक रोचक तथ्य यह भी है कि गूगल के वर्तमान सीईओ सुंदर पिचाई है जो गूगल की पेरेंट कम्पनी ‘एल्फाबेट’ का नेतृत्व भी करते हैं. इसके साथ ही सुंदर पिचाई गूगल के मुख्य शेयरहोल्डर्स में से एक भी हैं.

अगर गूगल के शुरुआती प्रोडक्ट्स सर्च इंजन की बात की जाए तो यह एक ऐसा ऑनलाइन सॉफ्टवेयर या फिर कहा जाए तो टूल होता हैं जो ग्राहकों को उनकी रुचि से जुड़े हुए वेबपेज (वेबसाइट्स और ब्लॉग) एक साथ उपलब्ध कराता हैं. गूगल सर्च इंजन इस समय विश्व मे सबसे अधिक उपयोग किया जाने वाला सर्च इंजन है.

गूगल का आविष्कार किसने किया था?

गूगल का आविष्कार Sergey Brin और Larry Page ने मिलकर की थी. आज हमारे सामने गूगल जिस विस्तृत रूप में उसे यहाँ तक लाने के लिए इसके फाउंडर्स के न जाने कितने इंजीनियर्स और बुद्धिजीवियों का योगदान हैं.

google ke avishkarak

लेकिन आज की इस मल्टीनेशनल कंपनी की शुरुआत केलिफोर्निया की स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी के 2 छात्रों ने एक प्रोजेक्ट के रूप में की थी. गूगल के आविष्कारकों का नाम Sergey Brin और Larry Page हैं जो आज के समय मे गूगल के सबसे बड़े शेयरहोल्डर भी हैं.

जब सर्गी ब्रिन ने और लेरी पेज ने गूगल का आविष्कार किया तब इसका नाम Googol था लेकिन स्पेलिंग मिस्टेक की वजह से यह Google बन गया जो आज के समय एक ब्रांड से कम नहीं हैं.

सर्गी ब्रीन और लैरी पेज ने विश्वप्रसिद्ध स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में कंप्यूटर इंजीनियरिंग में पीएचडी के दौरान एक रिसर्च प्रोजेक्ट के तौर पर गूगल की शुरुआत की थी.

उस समय इस प्रोजेक्ट में Scott Hassan तीसरे स्थापक भी थे जिन्होंने गूगल का अधिकतर कोड टाइप किया था लेकिन गूगल को एक कम्पनी के रूप में स्थापित करने से पहले ही उन्होंने प्रोजेक्ट को छोड़ दिया.

स्कोट ने रोबोटिक्स में करियर बनाने के लिए इस प्रोजेक्ट को छोड़ा और साल 2006 में ‘Willow Garage’ नाम की एक कम्पनी की स्थापना की. इसलिए गूगल के आविष्कार में महत्वपूर्ण योगदान होते हुए भी उन्हें आधिकारिक रूप से इसका फाउंडर नही माना जाता.

गूगल का आविष्कार कब हुआ था?

लैरी पेज और सर्गी ब्रीन लम्बे समय से गूगल के ऊपर काम कर रहे थे. उन्होंने 4 सितंबर 1998 को कैलिफोर्निया में Google को एक निजी तौर पर आयोजित कंपनी के रूप में स्थापित किया. यानी कि सरल भाषा मे कहा जा सकता हैं कि गूगल का आविष्कार 4 सितम्बर 1998 को हुआ था.

गूगल का आविष्कार उस समय हुआ था जब वेबपेज को ढूंढने के लिए वेब डाइरेक्टरीज का उपयोग किया जाता था. गूगल कोई पहला सर्च इंजन नहीं था लेकिन गूगल को एक नई कार्यप्रणाली पर बनाया गया जिसने इसे अन्य से बेहतर बनाया.

गूगल से पहले के सर्च इंजन वेब पेज को सर्च किये गए शब्दो (Keywords) के अनुसार रैंक करते थे. जिस वेबपेज पर सर्च किये जाने वाले अधिक कीवर्ड्स हुआ करते थे उसे ऊपर रैंक किया जाता था. इससे यूज़र्स को सही परिणाम नही मिल पाते थे.

लेकिन गूगल को एक नई कार्यप्रणाली पर डेवलप किया गया था. गूगल विषय से सम्बंधित वेबसाइट्स और उससे जुड़ी लिंक्स को एनालाइज करके पेज को रैंक करता था. सरल भाषा मे जिस वेबसाइट के पास ज्यादा और रिलेवेंट बैकलिंक्स होती थी उसे रैंक किया जाता था. इससे उपयोगकर्ताओं को बेहतर परिणाम मिलते थे.

यह आईडिया लैरी पेज का था. इस नए आईडिया को PageRank का नाम दिया गया. लेरी पेज ने अपने इस आईडिया को स्कोट के साथ शेयर किया और उन्होंने इस पर आईडिया पर कोडिंग का काम शुरू किया.

इस नए आईडिया पर आधारित सर्च इंजन को पहले BackRub का नाम दिया गया था क्योंकि यह बैकलिंक्स के आधार पर वेबपेज को रैंक किया करता था. बाद ने इस कार्यप्रणाली का उपयोग अन्य कई सर्च इंजन जैसे कि Baidu को बनाने में भी उपयोग किया गया.

कुछ समय बाद ही इस नए सर्च इंजन BackRub का नाम बदलकर Google कर दिया. यह एक स्पेलिंग मिस्टेक थी. BackRub का नाम Googol रखा जाना था जिसका मतलब 100 शून्य को फॉलो करता हुआ 1 होता हैं.

इस नाम से खोजकर्ता सर्च इंजन में रैंक हुए वेबपेजेस की क्वांटिटी का संकेत देना चाहते थे. 15 सितम्बर 1997 को www.google.com डोमेन खरीदा गया था जो 4 सितम्बर 1998 को एक कॉरपोरेट कम्पनी के रूप में स्थापित किया गया.

गूगल का आविष्कार कहां हुआ था?

गूगल का अविष्कार कैलिफोर्निया (संयुक्त राज्य अमेरिका) में हुआ था.

आज आपने क्या सीखा

मुझे आशा है की मैंने आप लोगों को गूगल का आविष्कार किसने किया के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को गूगल के आविष्कारक के बारे में जानकारी मिल गया होगा.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं. आपके इन्ही विचारों से हमें कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिलेगा.

यदि आपको मेरी यह लेख गूगल का आविष्कार कहां हुआ था अच्छा लगा हो या इससे आपको कुछ सिखने को मिला हो तब अपनी प्रसन्नता और उत्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

पिछला लेखविज्ञापन क्या है, इसके उदाहरण, प्रकार और उद्देश्य
अगला लेखUSB क्या है और कितने प्रकार के है?
नमस्कार दोस्तों, मैं Prabhanjan, HindiMe(हिन्दीमे) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Enginnering Graduate हूँ. मुझे नयी नयी Technology से सम्बंधित चीज़ों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे. :) #We HindiMe Team Support DIGITAL INDIA

4 COMMENTS

  1. धन्यवाद महाशय। मैं सेवा निवृत्त जिला पशु पालन पदाधिकारी हूँ। मैं नईविद्या का अल्पज्ञ हूँ। मैं आपके लेख केलिए साधुवाद देता हूं।. डॉअवध किशोर सिंह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here