Adapter क्या है और इसके प्रकार

क्या आप जानते हैं की Adapter क्या है? इसके कितने प्रकार हैं? अगर आप एक Mobile User हैं या फिर एक Computer User हैं तब तो शायद आपको इसे विषय में पता भी होगा. ऐसे बहुत बार होता है की हमारे पास एक प्रकार का physical device होता है जिसे हम किसी दुसरे के साथ इस्तमाल करना चाहते हैं लेकिन दोनों में समानता न होने के कारण हम उसका इस्तमाल नहीं कर सकते हैं. ख़ास ऐसे की प्रकार के परेशानियों को दूर करने के लिए Scientists ने Adapter का निर्माण किया. इसकी मदद से हम किसी दो अलग प्रकार के physical devices को एक दुसरे के साथ compatible बना सकते हैं.

बाद में ये device का idea इतना पसंद आया और उपयोगी हुआ की इसे अलग अलग स्थानों में विभिन्न प्रकार के कार्यों को करने के लिए किया जाता है. आपकी जानकारी के लिए बता दूँ की adapter एक ऐसा physical device होता है जो की एक hardware या electronic interface को किसी दुसरे hardware या electronic interface के साथ जुड़ने में सहायक होता है (जिसमें ये सभी कार्य बिना किसी loss of function के हो सके). यह एक ऐसा medium प्रदान करता है जिससे बिना किसी के function के loss किये आराम से हो सके.

उदहारण के लिए एक computer में, adapter को एक card के ऊपर built किया जाता है जिसे की एक slot में insert किया जा सके किसी computer के motherboard में. ये card information को adapt करती है जिसे की computer processor और उस device के बिच exchange किया गया हो और जिसे वो card support करती हो. इससे बहुत सारे devices computer के साथ compatible बन जाते हैं. तो इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को भी Adapter क्या है और इसके कितने प्रकार है के विषय में पूरी जानकारी प्रदान करूँ जिससे आपको इसे समझने में आसानी होगी. तो बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं और एडाप्टर क्या होता है को जानते हैं.

एडाप्टर क्या है (What is Adapter in Hindi)

Adapter Kya Hai Hindi

अगर में Adapter definition की बात करूँ तब आमतोर से adapter को एक additional circuitry बोला जाता है जिसे की computer board में built किया जाता है एक add-on के तोर पे जो की computer को additional functionality और compatibility प्रदान करती है. उदहारण के लिए एक video adapter की मदद से computer video को computer monitor में display कर सकता है. माना की ज्यादातर video adapters come एक expansion card के form में आते हैं लेकिन उन्हें on-board भी किया जा सकता है. साथ ही ऐसे और भी प्रकार के adapters हैं जिनके विषय में हम आगे article में जानेंगे.

Tip: अक्सर Adapter के spelling को गलत लिखा जाता है इसलिए आपके जानकारी के लिए दोनों “adapter” और “adapter” correct spellings हैं. आप किसी का भी इस्तमाल कर सकते हैं.

Adapters ऐसे devices होते हैं जो की दो electrical या electronic devices जो की different sizes और types के होते हैं उन्हें ये आपस में connect होने में मदद प्रदान करते हैं. वो electronic components के safety, reliability और longevity के लिए responsible होते हैं. एक nutshell में अगर में बोलूं तब ये physical devices का इस्तमाल दो different hardware या electronic interfaces के बिच compatibility establish करने के लिए की जाती है.

जैसे जैसे mobile phones और television sets की demand बढ़ रही है और ये एक common household devices बनता जा रहा है, ऐसे में global market ने adapter के usage में एक healthy expansion पाया है अभी के समय में. Research और Markets report के अनुसार, AC और DC adapters का worldwide market 2.09% के CAGR में grow करने वाला है 2018-2022 में. इससे आप पता लगा सकते है की Adapters का भविस्य आने वाले समय में कैसे होने वाला है.

एडाप्टर के प्रकार

अभी तक आप लोग जान ही चुके होंगे की Adapters क्या है, चलिए अब जानते हैं Adapter के प्रकार के बारे में. अगर बात types of adapter की है तब तो इसके बहुत से प्रकार है जैसे की electrical adapters, video adapters, audio adapters, AC and DC adapter ,network adapters, Memory Card adapter, Wireless adapter, Travel adapter इत्यादि. चलिए इन adapters के विषय में और अधिक जानते हैं.

Electrical Adapter

इस प्रकार के adapter incoming voltage 120V को 12V में तब्दील करने में सहायक होते हैं, जो की radio और दुसरे small electronic device के ज्यादा काम आते हैं. यदि voltage को regulate नहीं किया गया adapter के द्वारा, तब incoming electrical surge आसानी से device के internal components को ख़राब कर सकती हैं. ज्यादातर consumer electronics में adapters attached होते हैं plug में जो की electrical cord के आखिर में स्तिथ होता है. इसलिए जब भी आप को plug देखें जो की एक large box के द्वारा घिरा हुआ हो तब इससे हम ये पता लगा सकते हैं की यह एक electrical adapter है.

आप adapter के body में input और output voltage printed देख सकते हैं. साथ में बहुत बार आप ये भी देख सकते हैं की ये Voltage adapter अक्सर built-in होता है, इससे आपको extra adapter लेने की जरुरत ही नहीं है. उदहारण के लिए, desktop computers में adapter उसके internal power supply में built-in होता है.

AC-DC Adapters

ये सबसे common प्रकार के adapters होते हैं जिसे की specifically designed किया गया होता है जिससे ये certain AC input को accept करता है और उसे particular DC output में convert करता है. इस प्रकार का adapter को दोनों STBs और mobile devices में किया जा सकता है.

Travel adapters (या plug adapters)

ये एक ख़ास किस्म के adapter होते हैं जो की electricity या voltage को convert नहीं करते हैं लेकिन ये simply users को enable करते हैं अपने electronic devices और appliances को power up करने के लिए. Travellers (यात्रियों) के लिए ये बहुत ही आम मुसीबत होती है जिसमें एक देश का electrical socket system दुसरे देश से काफी भिन्न होता है. ऐसे जगहों में एक travel adapters इन यात्रिओं के लिए बहुत काम आता है खासकर international travellers के लिए. इसकी मदद से ये विदेशी यात्री अपने electronic devices को आसानी से socket-incompatible devices को कहीं पर भी charge कर सकते हैं.

उदहारण के लिए europe का plug system, Asia के plug system से काफी अलग होता है. यहाँ पर ये travel adapter काफी काम आता है.

Video Adapters और Audio Adapters

Video और Audio Adapter भी ऐसे ही interface का काम करते हैं System में. ये adapter एक प्रकार के interface से दुसरे type के connector को adapt करते हैं. जिससे different types के video और audio interfaces को compatible किया जा सकता है. उदहारण के लिए, DVI to VGA adapter से हम किसी laptop के DVI output से projector के VGA input को connect कर सकते हैं.

वैसे ही ज्यादातर professional audio devices में 1/4″ audio jacks का इस्तमाल होता है, वहीँ computers में 1/8″ “minijacks” का इस्तमाल होता है audio input और output के लिए. इसलिए यहाँ पर 1/4″ से 1/8″ audio adapters का इस्तमाल होता है audio import करने के लिए computers में. वहीँ 1/8″ से 1/4″ adapter का इस्तमाल होता है audio export करने के लिए. देखा जाये तो बहुत सारे अलग अलग audio और video interfaces exist करते हैं, और उस हिसाब से बहुत सारे audio और video adapters भी available हैं.

वैसे ही अलग अलग video adapters भी available हैं जो की different resolutions और reasons के लिए इस्तमाल में लाये जाते हैं. बहुत ही adapters है जैसे की component cables से HDMI cords तक, और इन्हें इस्तमाल करने के बहुत सारे अलग अलग तरीके हैं video signals को आपके television, monitor या projector तक पहुँचाया जाता है. इसमें भी कुछ adapters दुसरे के compare में ज्यादा बेहतर image और sound प्रदान करती हैं उनके needs के हिसाब से. चलिए ऐसे ही कुछ Video adapters के विषय में जानते हैं.

Composite

Composite video adapters में three plugs होते हैं, एक yellow, एक red और एक white. जिसमें yellow adapter picture signal को carry करती है, वहीँ white और red audio signal carry करती हैं. ये बहुत ही ज्यादा इस्तमाल होने वाली adapter है television में.

Component (Y/Pb/Pr)

Component video adapters (जिसे Y/Pb/Pr के नाम से भी जाना जाता है) इसमें भी तीन cords/wires होते हैं video transmission और दो audio transmission के लिए. इसमें Y channel luminance data carry करता है, B blue color data carry करता है और R red color data carry करता है. वहीँ Y channel अक्सर green color का होता है, B blue और R red का होता है. ये adapter higher definition transmission को allow करता है और ये बहुत ही popular है modern HDTV televisions में.

S-Video

S-Video (Super Video) cords typically round होते हैं, इसमें four-pin connectors होते है जिसमें की audio के लिए स्थान नहीं होता है. आपको अलग से audio cord लगाना पड़ सकता है. ये format color और luminance को split करता है separate wires (जहाँ ओनो को एक single cable में integrate किया जाता है) में. S-Video को आप दोनों computer monitors और television sets में देख सकते हैं.

HDMI

HDMI (Full Form होता है High Definition Multimedia Interface) एक long, flat connector होता है जिसमें 19 pins होते हैं. ये cable के across uncompressed video को भेजता है और एक single connector में audio और video signals को integrate करता है. इसे एक advanced cable माना जाता है और ये प्राय सभी नए HDTVs और computer monitors में present रहता है.

VGA

VGA (Full Form होता है Video Graphics Array). ये connectors typically 15-pin cables होते हैं जो की केवल video signal ही transmit करते हैं. इसमें color के हिसाब से separate information रहते हैं जैसे की red, greens, blues, as well as horizontal और vertical positioning. VGA प्राय तोर से computer monitors में पाया जाता है और ये सन 1980s से मेह्जुद है.

DVI

DVI (Full Form होता है Digital Video Interface), ये एक प्रकार का connector है जो की लम्बा और rectangular shape का होता है और इसे कुछ इसप्रकार से design किया गया है ताकि ये बड़ी मात्रा में data LCD और HDTV screens को भेज सके. इसमें ज्यादा से ज्यादा 24 pins होते हैं जिसमें sound के लिए कोई भी channel नहीं होता है जैसे की HDMI में होता है. DVI को आप ज्यादातर computer monitors में देख सकते हैं लेकिन occasionally आप इसे televisions में भी देख सकते हैं.

Network Adapter

Network cards या NIC को भी network adapters कहा जाता है. इसमें include Ethernet cards, internal Wi-Fi chips, और external wireless transmitters मुख्या हैं. ये तो सच है की ये devices audio और video adapters के तरह connection नहीं करते हैं, लेकिन ये computers को enable करते हैं network से connect होने के लिए. चूँकि network card की मदद से incompatible network के साथ connect किया जा सकता है इसलिए ये card एक adapter के तरह काम करती है. उसी तरह ही, video cards को भी कभी कभी video adapters कहा जाता है क्यूंकि वो एक video signal को image में बदल देती है जिसे की monitor में display किया जा सके.

Memory Card Adapter

एक memory card adapter के बहुत सारे uses है जिससे ये data को किसी computer या किसी दुसरे device में transfer कर सके. Typically, एक adapter एक specific type of memory card को converts करती है किसी दुसरे format या size में जो की जरुरत होता है data को पढने के लिए.

SD Card Adapter

एक SD card adapter के मदद से microSD और miniSD card आसानी से किसी traditional-size SD slot में fit हो जाता है जिसे की हम अपने computer, PDA, camcorder, cell phone या similar electronic device में इस्तमाल कर सकते हैं.

Wireless Adapter

Wireless adapters बहुत से अलग अलग shapes और sizes में आते हैं. कुछ computer के internal में होते हैं, कुछ के antennas होते हैं जो की उनके back में लगे हुए होते हैं, और कुछ के केवल antennas होते हैं जिसे की computer के USB port में plug किया जाता है . Wireless adapters को अक्सर computers में add किया जाता है जिसे की local networks से connection की जरुरत होती है.

Wireless Network Adapter

एक wireless network adapter की अगर बात करें तब यह एक ऐसा computer hardware component device होता है जिसे की कुछ ऐसा design किया गया होता है जिससे ये computers को enable करता है wirelessly communicate करने के लिए network में.

एक Adapter और एक charger में क्या अंतर होता है?

एक adapter एक प्रकार का voltage ग्रहण करता है और उसे किसी दुसरे voltage (अक्सर कम) में तब्दील करता है (जहाँ इस प्रक्रिया में ये इसे AC से DC में convert करते हैं). वहीँ एक charger एक निर्दिष्ट मात्रा की voltage ग्रहण करती हैं और उसे एक battery को charge करने में इस्तमाल करती है.

एक adapter हमेशा दो ऐसे चीज़ों को join करती है को की naturally एक दुसरे से compatible नहीं होते हैं. ये उन्हें connect होने के लिए compatible बनाती हैं. वहीं एक charger का एक specific function होता है – की ये कुछ चीज़ charge करेगी
– अक्सर ये battery ही होती है.

उदहारण के लिए हम Mobile phones को ही ले सकते हैं. जब हम अपने phone को plug करते हैं wall device (adapter) के साथ तब वो device mains से 120V AC receive करता है लेकिन उसे adapt करता है और उस mobile phone को केवल 5V DC का ही output प्रदान करता है. यही आपके mobile phone को fed किया जाता है जिसमें charger circuit होता है. फिर ये charging circuitry 5V DC को ग्रहण करती हैं. फिर ये उस voltage को battery में भेजती है charging होने के लिए. जब charging circuitry ये sense करती है की अब battery full हो गयी है तब ये charging को बंद कर देती है.

AC Adapter Vs. DC Adapter

जब हम कोई power adapter खरीदने जाते हैं हमारे electrical device के लिए, तब हमारे सामने दो विकल्प आते हैं : AC adapters और DC adapters. वो दिखने में बहुत ही similar हैं और उनके similar looking inputs और outputs भी होते हैं, लेकिन उनके functions बहुत ही अलग होते हैं.

Alternating Current Adapters

Theory के अनुसार alternating current (AC) उसे कहते हैं ” एक ऐसा electric current जो की अपना direction reverse करता है regular intervals में किसी circuit में.” इसका मतलब है की amount of current (इसे amperes, या amps में measure किया जाता है) जो की positive से negative terminal में regular interval में बहता है. इसमें interval को cycles per second में measure किया जाता है, या hertz (abbreviated Hz). एक AC adapter का इस्तमाल एक AC voltage से दुसरे AC voltage में convert करने के लिया किया जाता है. उदहारण के लिए जब हम एक AC adapter का इस्तमाल करते हैं अपने mobile को charge करने के लिए तब ये adapter उस 120 V AC को 5 V AC में बदल देता है इस्तमाल के लिए.

Direct Current Adapters

Theory के अनुसार direct current (DC) उसे कहते हैं ” एक ऐसा electric current जो केवल एक ही direction में flow करता है.” इसलिए direct current केवल एक ही direction में flow करता है, जिसमें कोई भी बदलाव नहीं आता है उसके frequency या polarity में (केवल change होता है तो positive से negative).
एक DC adapter थोडा सा अलग होता है AC adapter से क्यूंकि DC adapter AC electricity को DC electricity में convert करता है.

माना की AC और DC adapters को rated किया जाता है similar terminology और units के माध्यम से, लेकिन इन adapters की outputs बहुत ही अलग होते हैं. AC electricity की constantly-reversing nature होने के कारण, वहीँ AC electricity भी कुछ electrical circuits को damage कर सकते हैं जिन्हें की DC electricity के लिए बनाया गया है. ठीक उसी प्रकार DC electricity भी बहुत excess heat पैदा करती है कुछ electrical components, जैसे की transformers में, जिससे वो आसानी से damaged और destroy हो सकते हैं.

सही Adapter का Identification कैसे करें

सही adapter का identification होना बहुत जरुरी है क्यूंकि अगर गलत type का इस्तमाल devices में किया जाता है तब इससे वो devices को damage कर सकता है. इसलिए इन दोनों में अंतर पता होना बहुत जरुरी है. एक AC adapter में उसकी voltage और electrical current settings की जानकारी दी जाती है. AC voltage को represent किया जाता है एक line से जिसे एक tilde (~) के रूप में देखा जा सकता है. उदहारण के लिए “120 V ~ 1.5 A, 60 Hz”.

वहीं DC adapter में भी voltage और electrical current settings की जानकारी दी जाती है. उदहारण के लिए “120 V AC, 1.5 A, 60 Hz”. इसमें symbol के तोर पे dashed lines का इस्तमाल होता है.

कोन सा adapter आपके device के लिए सही है?

अगर हम सही adapter की बात करें तब आपकी electronic device से पता चल सकता है की उसमें कोन सी type की electrical current की जरुरत होती है. इसके लिए आपको उस device पर लिखे हुए parameters को पहले पढना होगा जैसे की “12 V DC, 10 A” or “12 V AC, 10 A, 60 Hz” इत्यादि. इससे आपको एक अंदाजा तो हो ही चूका होगा की कोन सा adapter आपके device के लिए सही है.

Adapter का भारत में भविस्य

भारत में power adapter को लेकर काफी demand बढ़ गयी है जब UPA government ने cable TV की digitalization की शुरुवात की सन 2011 में, जो की इसे mandatory बना दिए सभी consumers के लिए जो भी set-top boxes (STB) install करे cable television देखने के लिए. ये announcement के बाद, STBs और उनके adapters Indian consumer electronics segment के भीतर सबे तेज growing product बन गए हैं.

वहीँ जब NDA government ने Mobile manufacturing की शुरुवात की ‘Make in India’ initiative के साथ तब हमारा देश एक बहुत ही अच्छा market बन गया mobile spare parts और accessories के लिए जैसे की LCD displays, touchpads, adapters, इत्यादि के लिए. Government ने ‘Make in India’ initiative के अंतर्गत basic customs duty (BCD) को बढ़ा दिया है various mobile accessories, जिसमें adapters के लिए 0% से 5% बना दिया है. Local manufacturing को support करने के लिए, government ने abolish कर दिया है excise duty/countervailing duty (CVD) को mobile manufacturers के ऊपर से जो की adapters को manufacture करते हैं.

Experts का मानना है की आने वाले समय में adapters का demand और भी बढ़ने वाला है. इसके पीछे मुख्य तीन कारण हैं जो की हैं :- दोनों DTH platforms और mobile technologies की popularity, STBs की गिरती हुए prices और smart devices, नए technology का ज्यादा consumption आम जनता के द्वारा. ऐसे में Adapters का भविस्य सच में काफी bright नज़र आ रहा है.

FAQ (अक्सर पूछे जाने वाले सवाल)

1MI Charger का कितना दिन का guarantee रहता है?

MI अपने सारे Accessories के ऊपर 6 महीने का warranty देता है. आप चाहे तो उनके official website पे देख सकते है.

2MI 10000Mah Power Bank में पानी घुसने पर कैसे सही करे?

अगर आपके power bank में पानी घुस जाता है तो उसको धुप में रख दें. और ररत के टाइम आप उसे चावल के अन्दर रख सकते है. अगर फिर भी ठीक नहीं होता तो आप service center में दिखा सकते है.

3जला हुआ चार्जर कैसे सुधरे?

जला हुआ चार्जर का circuit ख़राब हो सकता है. अगर आपको उसे ठीक करना है तो उसे service center लेके जाना होगा.

4चार्जिंग पिन का कितना प्राइस है?

वोह अलग अलग मोबाइल के लिए अलग अलग होता है. आपको एक चार्जिंग पिन 10 रुपये से ले कर 50 रुपये तक पद जायेगा.

Conlusion

मुझे आशा है की मैंने आप लोगों को एडाप्टर क्या है (What is Adapter in Hindi) के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को Adapter के बारे में समझ आ गया होगा. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं. आपके इन्ही विचारों से हमें कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिलेगा. यदि आपको मेरी यह post Adapter क्या होता है हिंदी में अच्छा लगा हो या इससे आपको कुछ सिखने को मिला हो तब अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

4 COMMENTS

  1. kya baat hai sir apane adapter ke bare me bahut hi acchi post likhi. apne isme acche se step by step explain kiya. abhi tak adapter ke bare me itni acchi jankari kisi ne bhi pradan nahi ki hai. aise hi naye Technology par post banana sir. and Thanks for sharing this information

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.