Computer Operator क्या है और इसका क्या काम होता है?

आप सभी थोडा बहुत ये जानते होंगे के कंप्यूटर ऑपरेटर का क्या काम होता है? “Computer Operator is needed “ या DEO (Data Entry Operator) के लिए यहाँ apply करे? ये सभी notices को आप जरुर ही Bus stands, college के दीवारों में, स्टेशन में, Public Notice Board में देखे होंगे और एक बार ये जरुर सोचा होगा की इनका क्या मतलब है. ये Computer Operator की job profile क्या है, ये क्या काम करते हैं. यदि आपके मन में भी यही सब सवाल हैं तब आप जरुर से यह article कंप्यूटर ऑपरेटर क्या है पढना चाहिए.

यह job एक ऐसा काम होता है जिसे की कोई भी technical या non technical person बड़े आराम से कर सकता है. बस केवल कुछ technical knowledge जैसे की MS Word या MS Excel का कुछ ज्ञान होना चाहिए. इसके अलावा जो सबसे बहुत जरुरी चीज़ है वो है typing speed. यदि आपको यह job future में करना है तब आपको अपनी typing speed को जरुर से ध्यान देना होगा. यह job प्राय सभी Government, Private companies में उपलब्ध होता है वो भी Part time और Full time. इसलिए यदि आप पहले ही ये निर्धारित कर लें की आपको भविष्य में यह करना होगा. इसके लिए आपको खुदको कुछ अलग ही तैयार करना होगा. लेकिन लोगों को ये कैसे करें पता नहीं है. इसलिए आज मैंने सोचा की आप लोगों को क्यूँ न कंप्यूटर ऑपरेटर क्या होता है के विषय में जानकारी प्रदान करूँ जिससे आपको ये job को चुनने में आसानी हो. तो फिर बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं.

कंप्यूटर ऑपरेटर क्या है

Computer Operator Kya Hai Hindi

DEO का Full Form होता है Data Entry Operator. यह भी Computer Operator के तरह ही होता है. या यूँ कहें की दोनों असल में एक ही होते हैं. इन दोनों में ही operator को data computer में input करना होता है. इसमें उस operator की typing speed और basic computer की knowledge ही उसके ज्यादा काम आती है. चूँकि data की मात्र बहुत होती है इसलिए यदि अच्छी typing speed न हो तब ये काम कर पाना ज्यादा difficult ही जाता है.

इसके साथ DEO की error rate भी कम होनी चाहिए, नहीं तो इसका impact उसके effciency में पड़ेगा. Official Work अक्सर data entry करना, excel sheet तैयार करना , MS Word में typing करना होता है इसलिए Computer Operator को computers के विषय में या इसके application के इस्तमाल के बारे में थोडा बहुत ज्ञान तो जरुर से होना चाहिए. जिससे उसे इन applications का इस्तमाल करने में कोई भी तकलीफ न हो. Computer Operator को output devices जैसे की keyboard, mouse, printer का इस्तमाल आना चाहिए क्यूंकि उसे अपने काम के लिए इन्ही का ही इस्तमाल करना होता है.

कंप्यूटर ऑपरेटर बनने के लिए क्या Knowledge होना जरुरी होता है?

वैसे तो एक कंप्यूटर ऑपरेटर को किसी विषय में ज्यादा knowledge रखने के जरुरी नहीं है. लेकिन फिर भी ऐसे कुछ चीज़ें हैं जिनके विषय में उन्हें कुछ knowledge अवस्य से होनी चाहिए. चलिए इसी के विषय में और कुछ जानते हैं.

शैक्षिक योग्यता – यदि में educational qualification की बात करूँ तब +2 pass होना या इंटरमीडीएट होना भी बहुत होता है, वहीँ कुछ जगहों पर graduation (स्ना तक) की demand की जाती है. कुछ जगहों में एक Computer Diploma (6 months की) भी बहुत होती है. असल में ये इस बात पर निर्भर करता है की आप कोन से position के लिए apply कर रहे हो या कोन से विभाग में आपको बाद में काम करना है. क्यूंकि posts और job profile के अनुसार ही educational qualification की demand होती है.

Typing Speed – चूँकि एक Operator का मुख्य काम ही होता है data को entry करना इसलिए typing speed का ज्यादा होना एक बहुत ही अहम् कड़ी होती है DEO के चुनाव में. वैसे अगर candidate दोनों English और Hindi में अच्छी type कर लेता है तब उसके selection ही जाने की संभावनाएं ज्यादा होती है. Typing Speed की बात करूँ तब minimum 35 शब्द प्रति मिनट से ज्यादा हो तब उसे एक अच्छी typing speed मानी जाती है. यदि आपको लगता है की आपकी उतनी speed है तब post के लिए आवेदन कर सकते हैं.

भाषा का ज्ञान (language का knowledge होना ) – इस job profile में एक operator को बहुत बार English और hindi दोनों में type करना होता है. ऐसे में अगर operator को यदि भाषा का ज्ञान न हो तब उसे दोनों की typing करने में तकलीफ होगी. कई बार देखकर type करना पड़ता है वहीँ कई बार सुनकर भी type करना पड़ता है तो ऐसे में अगर भाषा का ज्ञान ही न हो तब तो ये operator का काम कर पाना बहुत मुस्किल बात है. इसलिए भाषा पर मजबूती होना अनिवार्य होता है.

कंप्यूटर ज्ञान – Data Entry Operator को हमेशा ही Computer में ही काम करना होता है. इसलिए अगर operator का computer के ऊपर कोई भी ज्ञान नहीं है तब उसे यह काम बहुत ही कठिन लगने वाला है. इस काम में typing के साथ साथ Microsoft Word, Microsoft Powerpoint और Microsoft Excel को operate करना आना चाहिए. इसके अलावा email भेजना जिसे basic technology का इस्तमाल भी आना चाहिए.

कंप्यूटर ऑपरेटर की चयन प्रक्रिया क्या है?

अगर आप सच में Computer Operator बनना चाहते हैं तब आप इसके लिए अच्छे से तैयारी करनी चाहिए, इसके साथ typing का भी ख़ास ध्यान देना चाहिए. एक कंप्यूटर ऑपरेटर की selection procedure में उसे कुछ exams और interview देने होते हैं. ये interview compulsory नहीं होता हैं कुछ जगहों में.

Exams की बात करूँ तब आपको एक Written Test (लिखित परीक्षा) देनी होती है जिसकी एक Cutoff marks होती है और आप आगे के exams देने के लिए उस cut off को पार करना होता है.

वहीँ Written Test के बाद आपकी Typing Speed test भी होती है. यहाँ पर एक candidate की typing के ऊपर ज्यादा ध्यान दिया जाता है. फिर किसी किसी जगहों में Interview भी लिया जाता है जिसमें आपको कुछ basics से technical सवाल और कुछ सामान्य ज्ञान (general knowledge) के बारे में पूछा जाता है. कम्प्यूटर ऑपरेटर की परीक्षा विभिन्न विभागों द्वारा अलग अलग प्रकार से की जाती है. इसलिए exam की तैयारी करने से पहले ये जानना जरुरी होता है की उसकी Exam Pattern कैसी है.

कंप्यूटर ऑपरेटर की आयु सीमा क्या होती है?

चलिए एक Computer Operator की आयु सीमा के बारे में जानते हैं.

डाटा इन्ट्री ऑपरेटर (Data Entry Operator) की आयु सीमा – 18 से 28 वर्ष
कम्प्यूटर ऑपरेटर (Computer Operator) की आयु सीमा – 18 से 30 वर्ष

कंप्यूटर ऑपरेटर को कितनी Salary (वेतन) मिलती है?

कम्प्यूटर ऑपरेटर एवं डाटा इन्ट्री ऑपरेटर की job profile अलग अलग sector में अलग अलग होती है. इन्हें भी different sectors में अलग अलग salary भी दी जाती है. भारत में मुख्य रूप से दो sectors हैं Government Sector और Private Sector. इन दोनों sectors में व्यक्ति की योग्यता, एक्सपीरियेंस और ओर्गेनाईजेशन को consider कर उनकी salary निर्धारित होती है.

गवर्नमेंट सेक्टर में सैलरी – 10,000 से 20,000 के लगभग हर महीने
प्राइवेट सेक्टर में सैलरी – 14,000 से 26,000 के लगभग हर महीने

कंप्यूटर ऑपरेटर का क्या काम होता है?

जैसे की ये नाम से पता चलता है इनका मुख्य काम data entry करना होता है. इसके लिए वो Keyboard, Mouse, scanner और Computer Screen का इस्तमाल करते हैं. इसके अलावा उन्हें Microsoft Excel में डाटा भरना होता है, MS Word में document बनाना होता है. साथ ही उन्हें कभी कभी email भी करना होता है. सभी चीज़ों के ऊपर गौर करें तब इनका मुख्य रूप से official काम ही होता है.

मंत्रालय में computer operator की Salary कितनी होती है?

यदि हम एक Computer Operator की salary किसी मंत्रालय में देखें तब हमें ये जानने को मिलेगा की ये करीब Rs.15,000 से Rs.24,000 तक होता है. ये figures post और experience के ऊपर भी निर्भर करता है.

Conclusion

मुझे आशा है की मैंने आप लोगों को कंप्यूटर ऑपरेटर क्या है? के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को कंप्यूटर ऑपरेटर का क्या काम होता है के बारे में समझ आ गया होगा. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं. आपके इन्ही विचारों से हमें कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिलेगा. यदि आपको मेरी यह लेख Computer Operator क्या होता है हिंदी में अच्छा लगा हो या इससे आपको कुछ सिखने को मिला हो तब अपनी प्रसन्नता और उत्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

10 COMMENTS

  1. सर आपने बहोत अच्छे से बताया । मे भी Finance A/c & Computer operator हु । मे अपक ब्लोग रेग्युलर पढता हु । ओर मे भी एक सोट ब्लोगर हु ।

  2. Sir apka artical padhne me bhut aacha laga aur kuch gyan bhi badha aap bhut aache ho aur yese hi aache chiz btate raho aap nice

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.