QLED Display क्या है और OLED से कैसे अलग है?

क्या आप जानते हैं की ये QLED क्या है? अगर आपने अभी फिलहाल यदि TV खरीदने के लिए दुकान या showroom में गया होगा तब आपके नज़रों के सामने जरुर से QLED TV आई होगी.

लेकिन बस इसे देखकर ही ये बता पाना कठिन है की QLED technologies में क्या अंतर लाये गए हैं OLED की तुलना में. क्यूंकि ये technologies प्राय दिखने में ज्यादा अलग नहीं हैं.

जहाँ QLED TV एक proprietary panel technology होती है जिसे की Samsung के द्वारा developed किया गया अपने top-tier televisions के लिए. इसमें एक metallic quantum dot filter के इस्तमाल होने से, QLED panels color और contrast को enhance कर देता है, जिससे की इसकी HDR और 4K images की capability भी बढ़ जाती है दुसरे non-quantum dot LCD-LEDs की तुलना में.

ये OLED और QLED दिखने में प्राय समान ही हैं लेकिन इनकी technologies में बहुत अंतर है. इसलिए आज मैएँ सोचा की क्यूँ न आप लोगों को QLED TV क्या है के बारे में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे आप लोगों को भी इसे बेहतर रूप से समझने में सुविधा हो .वहीँ आप भी अपने लिए सही TV का चुनाव कर सकें.

तो फिर बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं की ये QLED क्या होता है हिंदी में और ये किस तरह से OLED से अलग होता है.

QLED क्या है (What is QLED in Hindi)

QLED Kya Hai Hindi
QLED क्या होता है

QLED का Full Form होता है Quantum Dot LED. इसका नाम ये इसलिए है क्यूंकि इस TV में quantum dot technology का इस्तमाल हुआ है एक LED Panel में.
Quantum dot + LED = QLED.

वैसे ये कोई नयी technology नहीं है बल्कि ये fourth-generation की quantum dot है जो की Samsung’s TVs में सबसे पहले 2015 में introduced किया गया था.

इसे मेह्जुदा OLED Tv से compete करने के लिए launch किया है. इसमें Samsung का कहना है की QLED में superior technology का इस्तमाल किया गया है और इसमें ज्यादा advanatges हैं OLED की तुलना में.

QLED के Features क्या हैं?

अब चलिए QLED के Features के विषय में और अधिक जानते हैं.

1.  QLED का full form होता है Quantum dots Light Emitting Diode.

2.  QLED बने होते हैं Quantum dots से जो की tiny semiconductor crystals होते हैं जिनकी size 2 nm से लेकर 10 nm तक की होती है.

3.  Quantum dots color light emit करते हैं उनमें इस्तमाल हुए materials के energy gap और उनके size के आधार पर. जितनी बड़ी उनकी dimension होगी, उतनी ही ज्यादा emitted light की wavelength भी होगी.

4.  अलग अलग semiconductor combinations का इस्तमाल किया जाता है quantum dots के manufacturing में जिसमें CdSe, CdS, PbSe, PbS, InAs, InP इत्यादि प्रमुख हैं.

5.  QLEDs अपने आप ही light पैदा नहीं करती हैं. बल्कि QLEDs, backlight unit का इस्तमाल करती हैं illumination के लिए. ये light जिसे की emit किया जाता है backlight से उन्हें series of plates से pass किया जाता है जिससे अंत में एक image बनकर तैयार होता है.

6.  वो six layers जिनका इस्तमाल color image बनाने के लिए होता है वो हैं backlight panel, reflector, polarising filter, TFT array, colour filter glass, quantum dots colour filter और polarising filter.

QLED TV क्या होता है?

QLED TV in Hindi
QLED TV क्या है

QLED TV ऐसी technology का इस्तमाल करता है जिसमें की quantum dots pure colour पैदा करती हैं वो भी LED light को quantum dot colour filters से उसे transfer कर.

QLED Technology क्या है?

QLED Technology में quantum dots प्रदान करती है एक layer backlight के ऊपर जो की pure primary colours emit करते हैं. इससे ये deliver करती है improved brightness और साथ में produce करती है deeper colours, साथ में loss of light को limit भी करती है.

ये sharper viewing angles प्रदान करती है वो भी extra surroundings light को absorb कर.

QLED produce करती है एक higher peak brightness वो भी 800-2000 nits (एक unit है visible light intensity के लिए).

इसकी ये benefit है की ये superior colour accuracy प्रदान करती है, साथ में brightness levels को भी काफी बढ़ा देती है जिससे ज्यादा sharper और vivid colours ये पैदा करती है.

Samsung QLED TV के अलग अलग Models क्या हैं?

अब चलिए Samsung के 2018 QLED TV की अलग अलग models के विषय में जानते हैं – Q9F (65-inch, 75-inch, 88-inch), Q8F (55-inch, 65-inch, 75-inch), Q7C (55-inch, 65-inch), Q7F (55-inch, 65-inch, 75-inch) and Q6F (49-inch, 55-inch, 65-inch, 75-inch, 82-inch).

इसके साथ इन models में colour और contrast में काफी improvements की गयी हैं. अब तो 2018 की models में Bixby voice assistant और HDR10+ compatibility को भी शामिल किया गया है.

QLED कैसे काम करती है?

अब चलिए जानते हैं की QLED की पीछे की technology क्या है. Quantum dot TV की अगर काम के बारे में पुछा जाये तब इसमें एक layer या film की quantum dots को place किया जाता है एक regular LED backlight panel के सामने में.

यह layer बनी हुई होती है tiny particles से जो की emit करती हैं अपनी ही individual colour जो की निर्भर करती है उनकी size (जो की करीब 2 से 10 nanometers के बीच होती है) के ऊपर. Basically, इन particles की ही size ये dictate करती हैं light की wavelength कितनी होगी जो की ये emit करती है, इसलिए इतने सारे अलग अलग colours होते हैं.

Samsung के अनुसार उनकी quantum dots करीब एक billion colours से भी ज्यादा colours emit करती हैं.
Quantum Dot Tvs की third-generation की अगर बात करें तब इन्हें QLED कहा जाता है, इनमें particles को बदल दिया गया है, क्यूंकि इसमें अब एक नयी metal alloy core और नयी metal alloy shell का इस्तमाल किया गया है.

इस enhancement से न केवल बेहतर colour accuracy को enable किया गया है बल्कि ये colour accuracy को उसके higher peak brightnesses में भी enable करती है.

यही कारण है की QLED का महत्व बढ़ जाता है. इनकी ability की ये colours पैदा करें जिनकी higher brightness होती है और ये बेहतर colour volume प्रदान करती है पहले की तुलना में.

इसी feature के कारण ही QLED अपनी इन ability से OLED से बेहतर खुदको शाबित करती है. ये colours को उनके peak brightness में भी preserve करने में सक्षम होती है जिसे की OLED के मामले में संभव नहीं है. वहीँ ये peak brightness OLED की तुलना में बहुत ज्यादा होती है.

इसके कारण QLED और ज्यादा visible colour प्रदान करती है, जो की बेहतर होता है HDR Content की vibrant delivery करने में और साथ में viewer को एक बढ़िया visual experience प्रदान करने में.

QLED और OLED में क्या अंतर है?

difference between OLED and QLED in Hindi: चलिए अब इन दोनों Display technologies के अलग अलग features के विषय में जानते हैं जैसे की contrast, viewing angle, brightness, और दुसरे performance, साथ में ये भी जानते हैं की कैसे ये एक दुसरे से भिन्न हैं.

BLACK LEVEL

OLED की black level जादा contrast और richer colours को allow करती हैं. इसलिए इस मामले में OLED बहुत ही बेहतरीन है QLED से.

वहीँ QLED TVs में LED display black level performance को improve करने की कोशिश करी गयी है, लेकिन फिर भी उन्हें backlights shining के ऊपर depend करना होता है जो की एक LCD panel के पीछे होता है. इसमें advanced dimming technology के होने के वाबजूद भी ये “light bleed” से पीड़ित है.

इससे इसमें एक slight haze या “halo” होती है bright objects के चारों और ये lines को blur करती है जो की sharp होती चाहिए.

BRIGHTNESS

जब बात brightness की आती है तब QLED इसमें आगे हैं. ऐसा इसलिए क्यूंकि इसमें ज्यादा quantum dots होते हैं जो की उसे ज्यादा bright जलने में मदद करती है. इनकी colour volume बड़ी होती है.

वहीँ OLED में brightness level उतनी ज्यादा नहीं होती है.

COLOR SPACE

एक समय था जब OLED इसमें सबसे आगे था लेकिन quantum dots, इसमें इनकी purity of backlight को improve करने से ये QLED TV को allow करती हैं बेहतर color accuracy, color brightness, और color volume प्राप्त करने के लिए.

वहीँ अब companies implement कर रही हैं expanded color volume अपने नए QLED models, जिससे की ये improve करे उनकी saturation को higher brightness levels में.
देखा जाये तो दोनों QLED और OLED की अच्छी color space रही हैं.

RESPONSE TIME

Response time का मतलब होता है वो time जो की प्रत्येक diode लेता है On से OFF होने में. वहीँ faster response time से कम ही motion blur होता है.

OLED, जिसमें की इनकी smaller diodes working के होने से single pixels में, ये simply बहुत ही fast होती हैं response time के नज़रिए में. वहीँ QLED की diodes न केवल slower होते हैं बल्कि ये LCD panel के पीछे भी होते हैं और ये pixels के cluster को illuminate करते हैं न की single pixel को. इसलिए इनकी response time slower होती है.

इसलिए response time में OLED बहुत ही ज्यादा बेहतर है QLED की तुलना में.

INPUT LAG

जब बात input lag की हो रही है तब OLED और QLED दोनों ही समान स्थर में हैं. जहाँ QLED की पहले से ही बेहतर input lag है, वहीँ OLED की input lag को अब बेहतर बना दिया गया है. इसलिए gamers के लिए OLED अब भी एक बेहतर विकल्प है.

VIEWING ANGLES

इसमें OLED बहुत ही आगे हैं QLED की तुलना में. जहाँ QLED में उसकी best viewing angle है dead center, और इसकी picture quality धीरे धीरे diminish करती है दोनों color और contrast में जैसे जैसे आप side to side, या up और down move करते है तब.

किन्तु OLED में ऐसा कुछ नहीं होता है और इसकी सबसे बढ़िया viewing angle सभी दिशाओं में होती है. इसमें upto 84 degrees तक आप बिना कोई lumiance degradation के देख सकते हैं.

इसलिए OLED ज्यादा बेहतर है QLED की तुलना में Viewing angles के मामले में.

SIZE

बात जब TV की size की हो रही हो तब OLED से कई गुना में QLED इस मामले में आगे हैं. जहाँ OLED की maximum size 55 inches तक की है वहीँ QLED में ये 100 inches से भी ज्यादा है.

LIFESPAN

Lifespan के मामले में भी QLED बहुत ज्यादा आगे है OLED की तुलना में. जहाँ OLED की brightness समय के साथ साथ धीरे धीरे कम होने लगती है वहीँ QLED के मामले में ऐसा कुछ नहीं होता है.

POWER CONSUMPTION

OLED panels बहुत ही thin होती है इसलिए उन्हें कोई backlight की जरुरत ही नहीं होती है. साथ में OLED TV’s lighter भी होते हैं weight में QLED TVs के तुलना में. इसलिए उन्हें बहुत ही कम power की जरुरत होती है, जो की इसे ज्यादा efficient बनाता है. इस मामले में OLED आगे हैं QLED की तुलना में.

PRICE

एक समय था जब की QLED TV इस section को आसानी से जित सकती थी क्यूंकि उनके कम prices के होने से वहीँ लेकिन अब OLED के prices में काफी बदलाव देखने को मिला है, इसलिए ये कहना ठीक नहीं होगा की QLED ज्यादा सस्ते हैं OLED की तुलना में.

OVERALL

अब बात होती है की आखिर में कौन विजेता है !

QLED बहुत से sections में आगे है जैसे की brightness capability, accessibility, size, और lifespan, वहीँ कुछ upgrade से इसकी black levels और off-angle viewing को भी improve कर दिया गया है.

वहीँ देखने में एक QLED TV की brightness भी काफी बेहतर होती है OLED के तुलना में अगर हम daylight hours की बात करें तब.

अब बात जब picture quality, की हो तब OLED से बेहतर और कोई नहीं है. ये OLED offer करता है best viewing angle, best black levels, better contrast, और इसके साथ ये lighter, thinner, होने के कारण कम energy का भी इस्तमाल करता है जो की इसे efficient बनाता है.

अब आपको ही ये decide करना है की आपके लिए कौन सा TV सही है. वैसे दोनों ही technologies की बात ही अलग है. बाकि सभी चीज़ों को ध्यान में रखते हुए आपको ही अपने लिए कोई एक चुनना होगा.

QLED के Advantages क्या हैं?

अब चलिए QLED के advantages के विषय में जानते हैं.

Quantum dots जिनका इस्तमाल होता है QLED के construction में वो moisture को ज्यादा बेहतर रूप से resist कर सकते हैं और इसलिए QLED based products की लम्बी life होती है.

➨ इसकी moisture के लिए higher resistance होने के कारण, इसमें expensive vacuum evaporation process की जरुरत ही नहीं होती है. इसलिए इसकी कीमत कम होती है.

➨ ये higher display sizes में available होते हैं और इसलिए ये consumers को ज्यादा options प्रदान करते हैं.

➨ ये पतली होती है और बहुत ही कम weight की भी होती है.

➨ इसकी switching speed (between ON/OFF) बहुत ही fast होती है.

➨ इसकी Brightness करीब 50 से 100 गुना तक brighter होती है अगर हम इसे CRT और LCD display types से तुलना करें तब.

➨ इसमें lower power consumption होती है.

➨ QLED based TVs ज्यादातर susceptible नहीं होते हैं burn-in के लिए जैसे की OLED TV होते हैं.

➨ इसकी कीमत कम होती है बाकियों की तुलना में.

QLED के Disadvantages क्या हैं?

अब चलिए QLED के disadvantages के विषय में जानते हैं.

➨ QLEDs अपने आप light produce नहीं करते हैं. बल्कि QLEDs backlight unit का इस्तमाल करते हैं illumination के लिए.

➨ QLED based TVs “light bleed” effect से suffer करते हैं. ये effect कुछ screens में visible होते हैं. इसमें bright objects के चारों तरह एक slight haze दिखाई पड़ता है जहाँ केवल blurs lines दिखना चाहिए वो भी usually sharp.

➨ QLED based display screens, में best viewing angle होता है dead center में. वहीँ picture की quality धीरे धीरे कम होने लगती है (दोनों color और contrast) जब हम move करते हैं side to side या up और down में.

➨ इसमें कम saturated blue होती है.

Conclusion

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख QLED क्या है (What is QLED in Hindi) जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को QLED के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं.

यदि आपको यह post QLED क्या होता है हिंदी में पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.