स्टार टोपोलॉजी किसे कहते हैं?

Star Topology में प्रत्येक डिवाइस या Central Node से इन सभी डिवाइस का जुड़ाव एक Star के रूप में दिखाई देता है। इसलिए यह स्टार टोपोलॉजी के नाम से जानी जाती है।

यदि Nodes या Computer आपस में एक दूसरे से Communicate करना चाहते है तो वे Central Server यानि की Hub पर Message भेजते है और Hub इस सन्देश को सभी Nodes या Computer पर वापस भेज देता है।

स्टार टोपोलॉजी की परिभाषा  

Star Topology Lan के लिए बड़े रूप में उपयोग होने वाला नेटवर्क है। सर्वप्रथम ARCNET द्वारा लोकप्रिय होने के बाद इसे Ethernet द्वारा अपनाया गया। 

star topology kya hai hindi
स्टार टोपोलॉजी का चित्र

Unshielded Twisted Pair (UTP) एक तरह की Ethernet Cabling होती है, जो Devices को Hub से जोड़ने के लिए उपयोग की जाती है। Coaxial Cable और साथ ही Optical Fiber को भी Target किया जा सकता है।

Star topology को Cable Structure (केबल संरचनाओं), Wireless Router, Ethernet या अन्य घटकों के साथ Implement (लागू) किया जा सकता है।

इस टोपोलॉजी में सभी कंप्यूटर या डिवाइस आपस में एक दूसरे से नहीं जुड़े होते है बल्कि एक केंद्रीय Hub से जुड़े होते है। केंद्रीय नेटवर्क एक Server होता है, और अन्य Device Client होते है।

जब भी कोई कंप्यूटर नेटवर्क द्वारा अन्य Computers को Data Send करता है। जिसके बाद उसे केबल के साथ Central Hub या Switch में भेज दिया जाता है जिसके बाद वह यह निर्धारित करता है की उसे एक योग्य Destination पर जाने के लिए कौन से Port के द्वारा डाटा भेजा जाना चाहिए।

स्टार टोपोलॉजी के उदाहरण

Star Topologies अधिकतर बड़े संगठनों में उपयोग की जाती है जैसे – शैक्षणिक संस्थान, और व्यवसाय में जहाँ पर High Performance की आवश्यकता होती है। 

होम नेटवर्क में भी इसका उपयोग किया जाता है। विशेषकर जो Wireless होते है जिसमें Wireless Access Point (WAP) सभी Nodes के लिए एक Central Connection की सुविधा प्रदान करता है। 

स्टार टोपोलॉजी कैसे काम करती है?

जैसे की कोई कंप्यूटर दूसरे कंप्यूटर को सुचना भेजना चाहता है तो वह कंप्यूटर उस सुचना को Hub को भेजेगा जिसके बाद Hub उस कंप्यूटर के पते की जांच करता है जिस पर सन्देश भेजा जाना है फिर वह उस सन्देश को आगे भेजता है। 

Hub की अपनी किसी प्रकार की कोई Memory नहीं होती है, इसलिए पहले कंप्यूटर द्वारा सुचना भेजे जाने पर Hub को अन्य कम्प्यूटर्स और पोर्ट से यह पता करना होता है की क्या वह उस Computer का Address है। 

इस Process का नाम Address Resolution Protocol (ARP) है। 

जिसे हम इस तरह से समझ सकते है की Hub Recipient Computer के सही पते को ढूंढ कर उस तक सुचना भेज सकता है और डाटा को जिस जगह पर ट्रांसफर करना है वहां उसे ट्रांसफर कर सकता है। 

स्टार टोपोलॉजी Active या Passive Networks 

निचे बताये गई जानकारी के आधार पर स्टार टोपोलॉजी या तो Active Network है या Passive Network.

  • यदि Network Central Node डाटा विस्तारण या सुधार की Process करता है। 
  • अगर Electrical Power के स्रोतों की जरूरत होती है। 
  • नेटवर्क सक्रिय रूप से Data Transit को Control करता है। 

स्टार टोपोलॉजी के लाभ (Advantages)

Star Topology के उपयोग से जो फ़ायदे होते है उसके बारे में हम आगे बताएंगे। 

  • नए Nodes को सिर्फ Switch से कनेक्ट करके नेटवर्क के साथ Add किया जा सकता है।
  • इसमें पुरे नेटवर्क पर प्रभाव डाले बिना नए कंप्यूटर या मशीन को जोड़ भी सकते है और निकाल भी सकते है।
  • अगर एक केबल या डिवाइस Fail हो जाता है तो बाकि के डिवाइस फिर भी काम करते है।
  • यह कम खर्चीला होता है।
  • गलती ढूँढना आसान है क्योंकि इसमें लिंक को आसानी से पहचाना जा सकता है।
  • यह High-performance टोपोलॉजी है क्योंकि इसमें Data Clash नहीं होता है।
  • Star Network में विभिन्न तरह की मशीनों को भी शामिल किया जा सकता है यानि की इसमें बड़ा नेटवर्क बनाया जा सकता है।
  • इसमें सन्देश इच्छित डिवाइस को भेजा जाता है जिससे की यह उच्च प्रदर्शन वाला नेटवर्क होता है।
  • यह Cyber Attack से पूर्ण रूप से सुरक्षित है।

स्टार टोपोलॉजी के हानि (Disadvantages)

अब जहाँ इसके फायदे है तो इसके कुछ नुकसान भी होते है चलिए जानते है स्टार टोपोलॉजी के नुकसान क्या है। 

  • Wired Star Topology के लिए ज्यादा केबल की जरुरत पड़ती है। जिससे की बड़े नेटवर्क के लिए यह महंगा होता है।
  • स्विच के Fail होने पर पूरा नेटवर्क Fail हो जाता है क्योंकि इसमें कोई भी Node Communicate नहीं कर सकता है।
  • Hub को ज्यादा Resources और पूर्ण रखरखाव की जरुरत होती है क्योंकि यह Star Topology का Central System (केंद्रीय प्रणाली ) होती है।
  • इसमें Extra Hardware (Hub और Switch) की आवश्यकता होती है

क्या स्टार टोपोलॉजी सुरक्षित है?

Star Topology में Remote Branches (दूरस्थ शाखाएं), केंद्रीय साइट या कॉर्पोरेट मुख्यालय के साथ एक सुरक्षित तरीके से कम्यूनिकेट कर सकते है। लेकिन इन शाखाओं को Intercommunication की अनुमति नहीं होती है। 

यह सबसे महत्वपूर्ण है की अगर केंद्रीय साइट विफल हो जाता है, तो सारे कनेक्शन खत्म हो जाते है यानि की बंद हो जाते है क्योंकि स्टार टोपोलॉजी में केंद्रीय साइट की अहम भूमिका होती है। 

स्टार टोपोलॉजी को कैसे परिभाषित करेंगे?

Star Topology में डिवाइस आपस में ना जुड़कर एक सेंट्रल नेटवर्क से जुड़े होते है जिससे की यह एक Star की आकृति बनाते है।

कहाँ पर इस टोपोलॉजी का इस्तमाल किया जाता है?

ज्यादातर बड़े संगठनों में यह टोपोलॉजी उपयोग की जाती है।

किस प्रकार काम करती है स्टार टोपोलॉजी?

पहले कंप्यूटर किसी सुचना को Hub को भेजेगा। Hub उस कंप्यूटर के पते की जांच करके उसे उस कंप्यूटर तक सन्देश भेजता है। Central Network (Hub) इन सभी डिवाइस तक सूचनाओं को भेजने का काम करता है।

आज आप ने क्या सिखा

मुझे पूर्ण आशा है की मैंने आप लोगों को स्टार टोपोलॉजी क्या है के बारे में पूरी जानकारी दी। और में आशा करता हूँ आप लोगों को स्टार टोपोलॉजी के बारे में समझ आ गया होगा.

मेरा आप सभी पाठकों से गुजारिस है की आप लोग भी इस जानकारी को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में Share करें, जिससे की हमारे बिच जागरूकता होगी और इससे सबको बहुत लाभ होगा. मुझे आप लोगों की सहयोग की आवश्यकता है जिससे मैं और भी नयी जानकारी आप लोगों तक पहुंचा सकूँ.

मेरा हमेशा से यही कोशिश रहा है की मैं हमेशा अपने readers या पाठकों का हर तरफ से हेल्प करूँ, यदि आप लोगों को किसी भी तरह की कोई भी doubt है तो आप मुझे बेझिजक पूछ सकते हैं. मैं जरुर उन Doubts का हल निकलने की कोशिश करूँगा.

आपको यह लेख स्टार टोपोलॉजी का उपयोग कैसा लगा हमें comment लिखकर जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले.मेरे पोस्ट के प्रति अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

Previous articleBhoot Police Leaked Online For Free Download on TamilRockers and Telegram Channels
Next articleशेयर मार्केट में शुरुआत कैसे करें?
नमस्कार दोस्तों, मैं Prabhanjan, HindiMe(हिन्दीमे) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Enginnering Graduate हूँ. मुझे नयी नयी Technology से सम्बंधित चीज़ों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे. :) #We HindiMe Team Support DIGITAL INDIA

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here