Pen Drive क्या है और कैसे काम करता है?

क्या आप जानते हैं की Pen Drive क्या है और पेन ड्राइव कैसे काम करता है? आप में से ऐसे बहुत से लोग होंगे जो की इस छोटी सी drive का इस्तमाल करते होंगे अपने documents या flies को एक जगह से दुसरे जगह को आसानी से transfer करने के लिए. जी हाँ दोस्तों को मैं इसी छोटे से device के विषय में आज बात करने जा रहा हूँ जिसे की Pen Drive या Flash drive कहते हैं.

अब वो दिन और नहीं रहे हैं जब की लोग पुराने storage device जैसे की floppy disks का इस्तमाल करते थे जो की बहुत ही कम data store कर पाती थी और इसके read और write operation भी बहुत slow होती है. Technology के advancement से अब लोगों के बिच Pen Drive आ गया है दुसरे storage device की तुलना में बहुत fast हैं और इसकी storage space भी ज्यादा होती है. इसे इस्तमाल करना भी बहुत आसान है, user को बस इसे computer के USB port में insert करना होता है. ये सभी operating system के साथ compatible होता है. ये बहुत ही portable होता है जिसका मतलब है की इसे कहीं भी कभी भी आसानी से ले जाया जा सकता है.

Pen Drive के विषय में पूरी जानकारी कहीं पर भी ठीक से उपलब्ध नहीं है जिसके चलते लोगों के मन में बहुत doubt उत्पन्न होते हैं इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को USB Pen Drive क्या होता है के विषय में पूरी जानकारी प्रदान किया जाये और इसके साथ ये कैसे काम करता है. तो बिना देरी किये चलिए जानते हैं की यूऍसबी फ्लैश ड्राइव क्या है और ये कैसे काम करता है.

पेन ड्राइव क्या है (What is Pen Drive in Hindi)

Pen Drive Kya Hai Hindi

Pen Drive एक ऐसा storage drive जिसका इस्तमाल files को transfer करने के लिए किया जाता है. इसे Commonly USB flash drive भी कहा जाता है. ये एक portable device है जिसका मतलब है की इसे आसानी से transfer किया जा सकता है एक location से दुसरे location तक. इसका design बहुत ही compact होता है और ये pen shape का दिखाई पड़ता है इसलिए इसे pen drive भी कहा जाता है.

इन pen drives को पूरी दुनिया में बहुत से जगहों में इस्तमाल में लाया जाता है. इसके साथ इसने बहुत सारे storage device जैसे की CD’s, Floppy Disk को आसानी से replace कर दिया है क्यूंकि ये उनसे दोनों data storing capacity और transferring speed में उनसे ज्यादा है. Pen drives या USB flash drives को USB (Universal Serial Bus) Port के द्वारा computer में connect किया जाता है जो की computer motherboards पर available होते हैं. इन devices को external power supply की जरुरत ही नहीं है क्यूंकि ये power directly USB port से ही ले लेते हैं operate होने के लिए.

यह Micro, lightweight और handy, होने के कारण इसे आसानी से carry किया जा सकता है एक जगह से दुसरे जगह तक किसी भी students, professionals, academicians और independent tech consultants के द्वारा. पेन ड्राइव का इस्तमाल मुख्य रूप से data store करने के लिए और transfer करने के लिए किया जाता है. इसके द्वारा audio, video, और दुसरे data files को आसानी से transfer किया जा सकता है एक computer से दुसरे तक. जब तक desktop और laptop में USB port है और ये pen drive operating system के साथ compatible है तब तक Pen Drive का इस्तमाल होता रहेगा.

Storage Capacity and Format

Pen Drive के इस्तमाल होने से पहले Floppy disk, CD और DVDs का इस्तमाल होता था. ये Storage device बड़े हुआ करते थे और इसमें storage space भी बहुत कम थी. इन्ही समस्यों को दूर करने के लिए USB Pen Drive को develop किया गया. अभी के समय की बात करें तो फिलहाल इससे fast portable storage medium मेह्जुद नहीं है data recording और reading करने के लिए. इसकी बहुत सी खासियत होने के कारण ही ये बहुत ही जल्द ज्यादा popular हो गया.

ये माना जाता है की इसका नाम “Pen Drive” इसलिए पड़ा क्यूंकि ये दिखने में एक pencil के तरह था. इसकी storage capacity अभी के समय में 1 Gb से लेकर 128 Gb तक है, और ये बहुत से shape और sizes में उपलब्ध होता है.

Characteristics of Pen Drive

यहाँ पर में आप लोगों को Pen Drive के अलग अलग features के विषय में बताने वाला हूँ.

पेन ड्राइव कैसे काम करता है

1.  ये बहुत से materials जैसे की Plastic, metal इत्यादि से बना हुआ होता है जो इसे हल्का बनती है.
2.  इसकी लम्बाई बहुत से प्रकार के होते हैं 1 cm से 6 cm तक.
3.  इसकी capacity 512 Mb से 128 Gb तक होती है.
4.  इसे power USB port से मिलता है.
5.  ये बहुत ही portable होता है जिससे इसे कहीं भी कभी भी इस्तमाल किया जा सकता है.
6.  इसकी thickness 1 cm से 3 cm तक होती है.
7.  इसकी width 1 cm से 3 cm तक होती है.

कैसे पेन ड्राइव का इस्तमाल करे

Pen drive को इस्तमाल करना बहुत ही simple है. यहाँ पर user को drive का एक end computer के USB port में insert करना होता है. इसे insert करते ही वो activate हो जाता है. Pen Drive activate होने पर computer के screen पर कुछ notification show करती है. इसका मतलब ही की आपका drive अब system के साथ connected हैं. एक बार drive active हो जाये, फिर files को आप drag और drop या copy और paste कर सकते है memory में. ये process बहुत ही आसान है जिसे कोई भी कर सकता है.

आजकल market में बहुत सारे अलग अलग computer operating systems मेह्जुद है, इसलिए Pen Drive manufacturers इन pen drives को कुछ इसप्रकार से manufacture करते हैं जैसे ये सभी operating system में काम कर सके. इसलिए समझदारी इसी में है की आप कोई भी portable storage device खरीदने से पहले उसके packaging को carefully पढ़ें जिससे की ये उनके computer system पर ठीक तरीके से काम करे.

पेन ड्राइव कैसे काम करता है

Technicians इन pen drives को classify करते हैं NOT AND, या NAND में, इन्हें gate-style data storage devices भी कहा जाता है. इस technology में data को store blocks के हिसाब से किया जाता है न की randomly. ये computer’s के main memory systems के तरह data को store नहीं करता है — जैसे की read-only memory (ROM) और random-access memory (RAM) में होता है. Data को randomly store करने की तुलना में blocks के हिसाब से store करने से ज्यादा information store हो सकता है और वो भी बहुत ही कम दामों में.

Pen Drive का Structure और Working

Pen drives में छोटे printed circuit board (PCB) होता है. ये circuit board Pen Drive के structure को एक solid base प्रदान करता है और एक medium के तरह काम करता है information collect करने के लिए. इसी circuit board में एक छोटा सा “microchip“ रहता है, जो की pen drive को data extract करने में मदद करता है. ये सारी process को operate होने में low electric power की जरुरत पड़ती है अगर हम CD-R और floppy disk की तुलना करें तब. Technically सोचें तब ये EEPROM पर based होता है जो की computer system में writing और erasure process को एकसाथ allow करता है.

असल में pen drive को भी एक software program की जरुरत होती है जिसकी मदद से ये Computer के साथ connect हो सकता है और बहुत सारे operation जैसे की data read, data transmission और data copy करना कर सकता है. एक उदहारण के लिए जब आप एक iPhone को computer के साथ connect करते हैं तब हमें कोई भी music या video files को copy करने के लिए iTunes software की जरुरत पड़ती है. यहाँ ये हमें ये पता चलता है program या software जैसे की iTunes हमें एक interface प्रदान करता है device को system के साथ जुड़ने के लिए जिससे की information का exchange हो सकता है.

Pen drive की internal circuitry system से power लेती है इसके operations को perform करने के लिए.

Pen Drive के Important Parts :

  • USB connector
  • Crystal oscillator
  • Memory chips
  • Controller

जब हम pen drive को computer के साथ connect करते हैं, ये automatically activate हो जाती है इस्तमाल करने के लिए. वहीँ अगर इसे में कुछ न करें तब ये dormant (inactive) phase में होती है.

आजकल के specialised tech companies इन pen drives को improve करने के पीछे बहुत काम कर रहे हैं और हमेशा ये चेष्टा कर रहे हैं की कैसे issues को कम से कम किया जा सके और बेहतर features add किया जा सके. विगत कुछ वर्षों में Pen Drive में काफी improvements देखने को मिली हैं. अभी तो हमने USB 2.0 से USB 3.0 pen drives में shift कर चुके हैं जिससे की data transfer rate में काफी बहोतरी हुई है.

पेन ड्राइव के Features

वैसे Pen Drive के बहुत सारे features हैं और जिनके विषय में आज हम यहाँ जानेंगे.

Transfer Files
एक pen drive को एक interfacing device के हिसाब में इस्तमाल files transfer जैसे की documents. photos, Mp3 इत्यादि को एक system से दुसरे system तक transfer करने के लिए किया जाता है. इसमें बस files को select कर transfer किया जाता है.

Portability
ये इतना lightweight और “micro” है की इसे कहीं भी आराम से ले जाया जा सकता है.

Backup Storage
प्राय सभी pen drives में password encryption features हैं, जिससे महत्वपूर्ण family information, medical records और photos को backup किया जा सकता है.

Transport Data
Academicians, scholars, students इनका इस्तमाल बड़े बड़े files और lectures को कहीं भी transport कर सकते हैं.

Promotional Tool
बहुत से companies और businesses अब इन pen drives ला इस्तमाल अपने sales को promote करने के लिए करते हैं जिससे ये उनके marketing agendas को लोगों तक पहुंचा सके. इन handy pen drives के ऊपर corporate logos और visual imagery जिन्हें की आसानी से exhibitions, trade shows और conferences में लोगों के सामने प्रस्तुत किया जा सके.

Advantages of Pen Drives and USB Flash Drives

जैसे की हम सभी को पता है की कैसे pen drives और USB flash drives ने पूरी IT World में अपना राज जमाया है क्यूंकि इनके कुछ बेहतरीन features मेह्जुद हैं, इसने पूरी तरह से conventional storage devices को replace कर दिया है जिन्हें की पहले data storage medium के हिसाब से इस्तमाल किया जाता था. यहाँ पर मैंने Pen Drive के कुछ advantages के विषय में आपको बताने की कोशिश करी है.

  • Pen Drives में ज्यादा data storing capacity होती है 64 mb से 128 Gb तक.
  • इनकी compact design ही इन्हें ज्यादा portable बनाती है.
  • इन्हें bootable medium के हिसाब से भी इस्तमाल किया जा सकता है.
  • ये दुसरे computer components की तुलना में faster data transfer करती हैं.
  • ये permanent memory के जैसे ही data को hold या store कर सकती हैं इसलिए इन्हें secondary storage devices भी कहा जाता है.
  • इसमें कोई भी external power source की जरुरत नहीं पड़ती है operate होने के लिए.
  • इसमें कोई भी extra cable या cord की भी जरुरत नहीं होती है connect करने के लिए.
  • Pen drives या USB Flash drives बहुत से variety of sizes में उपलब्ध हैं इसलिए इन्हें आसानी से एक जगह से दुसरे जगह तक ले जाया जा सकता है.
  • इन्हें Scratch का कोई प्रभाव ही नहीं पड़ता है जैसे की CD’s और DVD’s में होता है.

Disadvantages of Pen Drives and USB Flash Drives

  • Pen Drives | USB Flash drives इतने छोटे होते हैं की उन्हें कोई भी आसानी से misplace कर सकता है.
  • ये computer virus को फ़ैलाने का सबसे आसान जरिया है क्यूंकि इसके द्वारा virus आसानी से आ जा सकते हैं. इसलिए जरुरी है की Pen Drives को अच्छे से scan किया जाया antivirus के द्वारा.
  • इनमें Hard Disk के जैसे high storage capacity नहीं होती हैं.

Pen Drive के कुछ Famous Manufacturer

  • Transcend
  • Kingston
  • SanDisk
  • I-Ball
  • HP

कैसे के सही यूऍसबी पेन ड्राइव का चुनाव करे

वैसे तो बहुत से चीज़ें हैं जिन्हें consider करना पड़ता है कोई भी USB pen drive का चुनाव करने से पहले. आप चाहे कोई भी Pen Drive खरीदें लेकिन इसकी features को देखकर आप हैरान रह जायेंगे.

तो आप एक बेहतर USB Pen Drive choose करना चाहते हैं….

USB Pen Drive को चुनने से पहले जो चीज़ पहले देखना चाहिए वो है इसकी storage capacity, क्यूंकि आपकी जरुरत के हिसाब से आपको ये choose करना चाहिए. इसके अलावा आप इसके design, compatibility और User review को ठीक तरह से परखें. जिससे बाद में आपको कोई पछतावा न हो की आपने ये Pen Drive क्यूँ ख़रीदा.

Pen Drive की Care कैसे करे

केवल Pen Drive खरीद लेने से ही आपका काम नहीं हो जाता है क्यूंकि ये Pen Drive बहुत ही नाज़ुक चीज़ होती है और अगर इसे सही तरीके से care न किया गया तब ये आसानी से ख़राब हो सकती है. तो चलिए ऐसे ही कुछ तरीकों के विषय में जानते हैं जिससे ही हम अपने Pen Drive का अच्छा care ले सकें.

1. Pen Drive को खरीदने के साथ साथ उसे ठीक जगह में रखने के लिए उसकी व्यवस्था भी कर लें क्यूंकि इसके लिए आपको बाद में पछताना भी पड़ सकता है.

2. Pen Drive बहुत ही नाज़ुक होती है इसलिए इसे USB port में connect करते समय और eject करते समय ठीक तरीके से करें और जल्दबाजी टी कभी भी नहीं करें.

3. Pen Drive को इसके operation के दोरान बिलकुल भी छेड़खाव न करें क्यूंकि इससे आपके data को हानी पहुँच सकती है.

4. इसे पानी के संपर्क में आने से रोकें क्यूंकि इससे इसकी circuit ख़राब हो सकती है.

5. जब आप कोई Pen drive को disconnect करना चाहें तब ठीक procedure से ही करें. इसका मतलब है की उस समय कोई operation नहीं होना चाहिए. उसे eject करने के लिए taskbar में Pen Drive icon को click करके eject का button press करें.

6. Pen Drive को रखने के लिए pouch का इस्तमाल करें इससे misplace होने का खतरा और नहीं होता है.

7. हमेशा अपने pen drive के data का एक backup अवस्य रखें जिससे आपको data loss की समस्या और नहीं रहेगी.

अगर आप बताए गए tips का सही तरीके से पालन करें तब आप future में होने वाले बहुत से समस्याएं से पहले ही बच सकते हैं.

मुझे पूर्ण आशा है की मैंने आप लोगों को Pen Drive क्या है? और ये कैसे काम करता है? के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को पेन ड्राइव क्या है (What is Pen Drive in Hindi) के बारे में समझ आ गया होगा. मेरा आप सभी पाठकों से गुजारिस है की आप लोग भी इस जानकारी को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में Share करें, जिससे की हमारे बिच जागरूकता होगी और इससे सबको बहुत लाभ होगा. मुझे आप लोगों की सहयोग की आवश्यकता है जिससे मैं और भी नयी जानकारी आप लोगों तक पहुंचा सकूँ.

मेरा हमेशा से यही कोशिश रहा है की मैं हमेशा अपने readers या पाठकों का हर तरफ से हेल्प करूँ, यदि आप लोगों को किसी भी तरह की कोई भी doubt है तो आप मुझे बेझिजक पूछ सकते हैं. मैं जरुर उन Doubts का हल निकलने की कोशिश करूँगा. आपको यह लेख Pen Drive क्या होता है और पेन ड्राइव कैसे काम करता है? कैसा लगा हमें comment लिखकर जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले. मेरे पोस्ट के प्रति अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

“ मेरा देश बदल रहा है आगे बढ़ रहा है ”

आइये आप भी इस मुहीम में हमारा साथ दें और देश को बदलने में अपना योगदान दें.

HindiMe Community

8 COMMENTS

  1. Hey Prabhanjan Sir… Very Useful Article.., Kya aap bata sakte hain ki pendrive ya memory card ka storage jitna ka hota hai usse kam kyun diya rahta hai? is par ek article to banta hai…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.