Command Processor क्या है?

क्या आप जानते हैं की Command Processor क्या है? यदि नहीं तब इसका जवाब होता है की यह एक OS का ऐसा होता है जो की users के commands को process कर execute करता है. यदि आपको Command Processor के विषय में और जानकारी प्राप्त करनी है तब आपको यह article जरुर से पढना चाहिए. ऐसा इसलिए क्यूंकि कंप्यूटर के इस term के बारे में आपको कहीं ज्यादा information नहीं मिलेगा. इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को इसके विषय में पूरी जानकारी प्रदान दी जाये जिससे आपके मन में कोई भी संका बाकि न रह जाये. तो बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं और Command Processor क्या है हिंदी में के विषय में विस्तार से जानते हैं.

Command Processor क्या है

Command Processor Kya Hai Hindi

ये Operating System का वो हिस्सा होता है जो की operating system commands को receive करते हैं और execute करते हैं. प्रत्येक operating system में एक command processor होता है. जब एक command prompt को display किया जाता है, तब ये command processor किसी एक command का wait कर रही होती है. जब आप command को enter कर देते हैं, तब command processor उस command का syntax analyze करता है ये sure करने के लिए की वो command valid है या नहीं, और फिर ये या तो उस command को execute करती है या एक error warning issue करती है.

वहीँ operating systems जिसमें एक graphical user interface होता है, उसमें ये command processor mouse operations को interpret करता है और appropriate command को execute करता है.

Command processor का दूसरा नाम होता है command line interpreter.

Command Processor की Technical Definition क्या है

एक command processor ऐसा program होता है (जिसे की लिखा जाता है assembler language में, PL/1, या compiled कर उसे link किया जाता है एक load module में) जो की control receive करता है जब एक user, एक terminal में कोई command name enter करता है. इसे control प्रदान किया जाता है terminal monitor program (TMP) के द्वारा, जो की एक ऐसा program होता है जो की एक interface प्रदान करता है terminal users और command processors के बीच, और इसमें access होता है बहुत से system services की.

Command Processor और दुसरे programs के बीच जो मुख्य difference होता है वो ये की जब एक command processor को invoke किया जाता है, तब इसे एक command processor parameter list (CPPL) pass किया जाता है और जो की program को access प्रदान करता है caller और दुसरे system services की information की.

Command processors जरुर ही user के साथ communicate करना चाहिए terminal में, साथ में वो respond भी करना चाहिए abnormal terminations और attention interruptions को. Command processors बड़ी आसानी से recognize करता है subcommand names को जो की terminal user के द्वारा enter किया गया और ये फिर load होता है और control pass करता है appropriate subcommand processor को.

Command Line Interpreter क्या है

एक command line interpreter ऐसा program होता है जो की allow करता है Commands को enter करने के लिए और फिर उन commands को execute करना Operating System में. या आप कह सकते हैं की ये literally commands का interpreter होता है.

एक program जिसमें की एक Graphical user interface (GUI) होता है जैसे की buttons और menus जिन्हें की control किया जाता है एक mouse, वहीँ उसके विपरीत एक command line interpreter में lines of text को accept किया जाता है एक keyboard से commands के रूप में और फिर उन्हें convert किया जाता है functions में जिसे की केवल operating system ही समझ पाते हैं.

एक command line interpreter program को generally referred किया जाता है एक command line interface में. इसके दुसरे नाम है CLI, command language interpreter, console user interface, command processor, shell, command line shell, और एक command interpreter.

Command Line Interpreters को क्यूँ इस्तमाल किया जाता है

एक computer में यदि उसे controlled किया जा सकता है easy-to-use applications जिसमें की एक graphical interface हो, तब आप सोच रहे होंगे की क्यूँ किसी को commands enter करने के लिए command line की जरुरत होगी. वैसे इसके मुख्य रूप से तीन main reasons है जिसके विषय में हम जानेंगे.

सबसे पहले reason यह है की आप commands को automate कर सकते हैं. इसके बहुत से उदाहरण है जैसे की, एक script जो की हमेशा shutdown करती है certain services या programs को जब user first logs in करता है. दूसरा है की आप यदि चाहें तो similar file format को copy कर सकते हैं, जिससे आपको बार बार एक स्थान से दुसरे में shift नहीं होना होगा. ये सभी चीजों को fast और automatically किया जा सकता है commands के इस्तेमाल से.

दूसरा benefit यह है की एक command line interpreter के इस्तमाल से आपके पास Operating System की Functions के ऊपर direct access प्राप्त होता है. Advanced users चाहें तो command line interface prefer कर सकते हैं क्यूंकि ये concise और powerful access उन्हें उनके जरुरत की सुविधा प्रदान करती है. वहीँ नए users या inexperienced users को इसमें तकलीफ आ सकती है, क्यूंकि इसके लिए expereince की जरुरत होती है. इसमें available commands इतने ज्यादा सामान्य नहीं होते हैं जैसे की menu और buttons में हुआ करते थे.

तीसरा benefit यह है की Command line interpreters का इस्तमाल हम तब कर सकते हैं जब हमारे पास बहुत ही बड़े तादाद की commands और options की होती है Operating System को control करने के लिए, लेकिन हमें ये समझ नहीं आता है की इसे कैसे किया जाये. ये हो सकता है की GUI software जो की operating system में होता है उसे simply built नहीं किया जाता है उन commands को utilize करने के लिए. साथ में एक command line interpreter आपको मदद करती है उन commands में से कुछ को इस्तमाल करने के लिए, न की सभी commands को एक साथ इस्तमाल करने में. इससे ये ज्यादा beneficial होते हैं उन systems में जिसमें की आपके पास कम resources होती हैं graphical program चलाने के लिए.

Command Line Interpreters के विषय में अधिक जानकारी

ज्यादातर Windows operating systems में, जो primary command line interpreter होता है वो Command Prompt ही होता है. वैसे Windows PowerShell एक और भी ज्यादा advanced command line interpreter available होता है Command Prompt के साथ अभी के recent versions of Windows में.

पहले की बात करें तब Windows XP और Windows 2000 में, एक special diagnostic tool जिसे की Recovery Console भी कहा जाता था, वो एक command line interpreter के तरह काम करता था और बहुत से troubleshooting और system repair tasks को perform करता था.

macOS operating system के command line interface को Terminal कहा जाता है.

कई बार ऐसा देखा गया है की दोनों एक command line interface और एक graphical user interface को समान program में ही include किया जाता है. जब ऐसा case होता है तब ये typical होता है एक interface के लिए की वो कुछ functions को support करें जो की दुसरे में available नहीं होता है. ये अक्सर command line portion ही होता है जिसमें की ज्यादा features include करना होता है क्यूंकि ये प्रदान करता है raw access application files को और ये limited भी नहीं होती हैं जिसे की software developer choose करता है GUI में include करने के लिए.

Conclusion

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Command Processor क्या है जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को Command Processor in Hindi के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं. यदि आपको यह लेख Command Processor क्या होता है हिंदी में पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.