RAM क्या है, इसके प्रकार और प्रयोग क्या क्या है?

Ram का फुल फॉर्म रेंडम एक्सेस मेमोरी (Random Access Memory) होता है. रैम कंप्यूटर की एक मेमोरी होती है। ये एक temporary storage होती है यानी device के Off होते ही इसमे store data अपने आप remove हो जाता है. इसके बाद उस डेटा को वापस नही लाया जा सकता. इसीलिये RAM को volatile memory भी कहते है. ये एक semiconductor और flip-flop से मिलकर बनी memory है.

क्या आप जानते हैं RAM क्या है (What is RAM in Hindi), तो आप बहुत बार ये शब्द सुने ही होंगे. आप जब भी कोई Mobile और Computer खरीदने जाते हो तब ये आप जरुर पूछते हो की RAM कितना GB का है, कुछ लोग ये भी सोचते हैं की अगर ज्यादा RAM होगा तो mobile Hang नहीं होगा, Slow नहीं होगा क्या ये सच है इसके बारे में भी आज जानोगे इस लेख में.

कुछ तोह यह भी मानते है के RAM हमेसा खाली रहेगा तो Mobile Speed चलेगा और एक सवाल आता है की RAM का काम क्या है इसका भी जवाब आपको मिलेगा, इसके साथ और कुछ बातें Primary Memory के बारें में भी बात करेंगे तो चलिए जानते हैं रैम किसे कहते है.

मेमोरी क्या है और कितने प्रकार के होते है?

तुम्हारी Memory कमजोर हो गई है, क्या आपको कोई ऐसे बोला है, अगर नहीं जवाब है तो लेकिन आपको जरुर कोइना कोई ऐसे तो बोला ही होगा की तुम्हारी यादास्त कमजोर हो गई है, तो इस यादास्त को Memory बोलते हैं.

what is ram in hindi

तो जैसे हम जो भी कुछ काम करना रहता है उस काम को हम एक जगह में Store करके रखते जिससे जैसे वो हमें याद आता रहे और जगह का नाम दिमाग है , ऐसे ही Computer के अंदर बोहत Memory रहती जिसको Storage भी बोला ज्याता है, Computer की Memory एक जगह है जहाँ पे हम Data और Instruction को Store करके रखते है जिनको हम जब चाहें तब निकाल सके उस Memory से Data को.

तो Computer को कैसे पता चलता है की कौनसा Data और Instruction कहाँ पे रखा गया है तो इसके लिए वो Computer Memory को छोटे छोटे हिसों में बाटा गया है और इस हिसे का size समान होता है इन हिसों को Cell बोला ज्याता है.

हर एक cell का पता रहता है जिसको Memory Address बोला ज्याता है. और Memory address मतलब cell का पता, Computer इस पते के जरिये Data कहाँ छुपा हुआ है उसको ढूंडता है ( Data जैसेकी आपका Mobile Number, Mp3, Video, File) ये सब एक एक cell में रहते है, cell address 0 से सुरु होता है जितने हिसों में cell को भाग किया गया है उतने से एक कम इसका आखरी address होता है जैसे उदाहरण लेलो 5KB का Memory है और उसका एक cell Size 1बाइट है तो Memory के 5×1024=5120 cell होते हैं, मतलब खाचे बनेंगे और इतने 5120 address होंगे.

वैसे Computer में Memory मुख्यरूप से 3 तरह के होते है, वहीँ उन सब के अलग अलग काम और खासियत भी है.

1. Primary Memory
2. Secondary Memory
3. Cache Memory

लेकिन मै इस लेख में Primary Memory के बारे में बात करूंगा.

प्राइमरी मेमोरी क्या है

इस Memory को Main Memory भी बोला जाता है, ये Memory वही Data और instruction रखती है जिस Data को Computer अभी इस्तेमाल करता है. इस Memory का space सिमित रहता है, इसमें Data तब तक रहता है जब तक power मतलब electricity रहता है जब power बंद Data गायब.

ये semiconductor से बनी है. इनकी रफ़्तार कम होती है, registers की तुलना में. Computer के अंदर जो भी Data और instruction रहता है वो इस Main Memory में Processed होता है. इसके दो categories है पहला

1. RAM
2. ROM

रैम क्या है – What is RAM in Hindi

RAM का Full Form है Random Access Memory, इसको Direct Access Memory भी बोला जाता है. यह Memory ज्यादा दौर पर Computer में कम Size में रहती है. Secondary Memory की तुलना में यह कम होती है जैसे Mobile में 1GB, 2GB, 3GB, 4GB, 6GB तक होती है।

तो अगला सवाल आता है RAM का काम क्या है? जब भी आप अपने Mobile को चलाते हो तो उसमें Game खेलते हो, बहुत सारे Application चलाते हो, Edit वगैरा करते हो इन सबके लिए Mobile को Space चाहिए और ये Space RAM ही से आता है.

और एक आसान सा उदाहरण लेकर बताता हूं, आपको जब आप क्रिकेट खेलते हो तो वह Bathroom में जाकर तो नहीं खेलते उसके लिए तो ज्यादा जगह चाहिए जैसे की Playground या फिर गली में, तो ऐसे ही आप जब भी Mobile में दिनभर कुछ भी काम करते हो वह सब काम जिस Memory में होता है वह RAM ही होता है, इसलिए बोलते हैं के RAM ज्यादा हुआ तो उतना ज्यादा Application अपने Mobile में एक साथ चला सकते हो

RAM क्या करता है जब आप Movie देखते हो या फिर गाना सुनते हो यह गाने या Movie Memory कार्ड में रहते हैं, CPU क्या करता है Movie को Memory कार्ड से निकालता है और RAM में Movie को Play करता है. जितना ज्यादा Application आप एक साथ चलाओगे उतना ही ज्यादा RAM इस्तेमाल होगा.

और Mobile Slow होगा या फिर Hang होगा इसलिए जितना हो सके RAM को Free रखिए. यह खाली हो जाती है जब बिजली चलनी बंद हो जाती है Mobile के अंदर।

अच्छे से समझो आपका Mobile फोन बंद हो जाता है मतलब आप अगर 4 से 5 Application अपने Mobile में खोल रखे हो और आपका Mobile को बंद कर देते हो और फिर से On करते हो तो आप देखे होंगे आपके सारे Application बंद हो जाते हैं इसलिए इस Memory को Volatile Memory भी बोला जाता है ,आप जान ही गए RAM क्या होता है. अब जानेंगे RAM के Characteristics.

इसे Random Access Memory क्यूँ कहा जाता है ?

RAM में डाटा और निर्देश Cells में Store रहता हैं. प्रत्येक Cell कुछ Rows एवं Columns से मिलकर बना होता हैं, जिसका अपना Unique Address होता हैं. इसे Cell Path भी कहते है. CPU इन Cells से अलग-अलग डाटा प्राप्त कर सकता हैं. और वो भी बिना कोई Sequence के ही मतलब की RAM में उपलब्ध डाटा को Randomly Access किया जा सकता हैं. इसकी इसी विशेषता के कारण इस मेमोरी का नाम Random Access Memory रखा गया हैं.

रैम के क्या-क्या विसेश्ताएं होते हैं (Characteristics of RAM in Hindi)

RAM के बारे में तो जान ही गए लेकिन आप इसके Properties क्या क्या है आपको ये भी जानना चाहिए चलिए जानते हैं.

1. RAM Volatile Memory है.

2. यह ज्यादा महंगी होती है दूसरे Memory की तुलना में.

3. इसकी Capacity कम होती है Secondary Memory की तुलना में इसके.

4. स्पीड की बात की जाए तो यह Secondary Memory से काफी हद तक स्पीड होती है .

5. जब बिजली बंद हो जाता है यह Memory खाली हो जाती है.

6. सारे Program, Application, Instruction इस Memory में ही चलते हैं.

7. इस Memory को CPU इस्तेमाल करता है.

8. इसको Computer की Working Memory भी बोला ज्याता है.

रैम के प्रकार

अब मैं आपको बताऊंगा कि RAM कितने प्रकार के होते हैं और क्या क्या होते हैं वैसे तो दो प्रकार के होते हैं

1. Static RAM
2. Dynamic RAM

1. Static RAM क्या है

ये Static सब्द से ही पता चल रहा है, ये स्थिर है मतलब इसमें Data तब तक रहेगा जब तक इस में बिजली आती रहेगी. इसको SRAM भी बोला जाता है. ये Chip 6 Transistor इस्तेमाल करता है और कोई भी capacitor नहीं, transistors को Leakage को रोकने के लिए power नहीं चाहिए ये power मतलब Electricity.

इसको बार बार Refersh करने की कोई जरुरत नहीं Data स्थिर रहता है. SRAM को DRAM से भी ज्यादा Chips चाहिए. समान size का Data को Store करने के लिए.इसलिए SRAM को बनाने में पैसे अधिक लगते है DRAM की तुलना में, इसलिए SRAM कों Cache Memory के हिसाब से इस्तेमाल होता है, Cache Memory सबसे तेज है बाकि सब से.

Characteristic Of SRAM in Hindi

  • ये बोहत दिनों तक चलती है.
  • इसको बार बार refresh करने की जरुरत नहीं.
  • काफी तेज है.
  • इसको cache Memory के लिए इस्तेमाल किया ज्याता है.
  • इसकी size ज्यादा है.
  • महगी है दुसरो से.
  • ज्यादा power चाहिए ये.

2. Dynamic RAM क्या है

इसको DRAM भी बोला जाता है, ये SRAM का पूरा विपरीत है. इसको बार बार refresh करने की जरुरत है, अगर Data को बरक़रार रखना है तो. ये केवल तभी संभव हो सकता है जब इस Memory को एक refresh CIRCUIT के साथ जोड़ा जाये.

अधिकांस समय इस DRAM को System Memory बनाने में इस्तेमाल होता है. ये DRAM एक Capacitor और एक Transistor से बना है.

Characteristics Of  DRAM in Hindi

  • ये बोहत कम दिनों तक चलती है.
  • इसको बार बार Refresh करने की जरुरत है .
  • काफी धीमी है.
  • इसको cache Memory के लिए इस्तेमाल किया ज्याता है.
  • इसकी Size कम है .
  • सस्ती है दुसरो से.
  • कम Power चाहिए ये .

ज्यादा RAM होने से क्या फायेदा होते हैं?

सोचिये की आपका computer एक फर्नीचर की दुकान है.

जहाँ पर CPU core एक carpenter है, इस हिसाब से एक dual core CPU में दो carpenter एक साथ काम कर रहे होते हैं, वहीँ एक quad core CPU में चार carpenters और ऐसे ही आगे भी. तो जितनी ज्यादा core उतनी बढ़िया आपके लिए.

यहाँ पर RAM को आप कार्यस्थान समझ सकते हैं (जिसमें workbenches, tables, और दुसरे कार्य करने के जगह उपलभ्द हैं), इसलिए जितनी ज्यादा RAM होगी उतनी ही ज्यादा कार्यस्थान भी उपलभ्द होगा काम करने के लिए “carpenters” (CPU cores) को. इससे वो उतनी ही तेजी से अपना का भी कर सकते हैं.

वहीँ hard drive को आप storage area समझ सकते हैं, जहाँ की सभी औज़ारों को रखा गया होता है जब तक की उनकी जरुरत न हो carpenter के द्वारा.

वहीँ एक बड़े work area (ज्यादा RAM) के होने से, वहां पर काम कर रहे carpenter को कम ही भाग दौड़ करनी पड़ती है अपने औजारों को लाने ले जाने में, जिससे उनकी overall speed ज्यादा होती है काम करने की.

यहाँ से आपको ये मालूम पड़ ही गया होगा की कैसे ज्यादा RAM के होने से कार्य करने की क्ष्य्मता और speed दोनों में तेजी आती है. इसलिए ज्यादा RAM होने के अपने ही advantages होते हैं, जो की computer के performance में नज़र आता है.

क्या Phone के RAM और PC के RAM में कोई अंतर होता है ?

ज्यादातर mobile processors में LPDDR इस्तमाल होता है वहीँ computers में PCDDR का इस्तमाल होता है.

LPDDR का full form होता है Low power Double data synchronous RAM. वहीँ PCDDR का full form होता है standard Double data synchronous RAM.

ये दोनों ही RAM एक दुसरे से power में ही अलग होते हैं. Mobile RAM को ज्यादा power save करने के लिए design किया गया होता है, वहीँ PC RAM को performance बढ़ाने के लिए design किया गया होता है.

ज्यादातर mobile processors को ARM architecture का इस्तमाल कर design किया गया होता है. वहीँ PC RAM को Intels x86 architecture के हिसाब से बनाया गया होता है.

Mobile processors को मुख्य रूप से performance और power के बीच में एक balance बनाने के लिए बनाया गया होता है, PC RAM की तुलना में.

RAM का वास्तव में उपयोग किसके लिए किया जाता है?

रैंडम एक्सेस मेमोरी (RAM) एक कंप्यूटर की शॉर्ट-टर्म मेमोरी है, जिसका उपयोग यह सभी सक्रिय कार्यों और ऐप्स को संभालने के लिए करता है। रैम के बिना आपका कोई भी प्रोग्राम, फाइल, गेम या स्ट्रीम काम नहीं करेगा।

कितनी रैम पर्याप्त है?

आपको कितनी रैम चाहिए? आम तौर पर, हम कंप्यूटर के आकस्मिक उपयोग और इंटरनेट ब्राउज़िंग के लिए 8GB RAM, स्प्रेडशीट और अन्य कार्यालय कार्यक्रमों के लिए 16GB और गेमर्स और मल्टीमीडिया क्रिएटर्स के लिए कम से कम 32GB की अनुशंसा करते हैं।

आज आपने क्या सीखा?

तो दोस्तों आज की यह लेख रैम क्या है (What is RAM in Hindi) आपको कैसी लगी हमें comment में जरुर बताएं . उमीद करता हूँ आपको ये जानकारी आपके काम आये.

आप सभी ने भी जरुर से ये लक्ष्य किया होगा की RAM की Capacity दिन प्रतिदिन बढ़ रही है, फलस्वरूप Mobile की Speed भी बढ़ेगी, वहीँ आप एक ही समय में बहुत से कार्य कर सकेंगे वो भी बिना कोई lag के. SRAM और DRAM में क्या अंतर है (What is SRAM & DRAM in Hindi) ये भी आप जान ही गए होंगे.

कुछ मेरे दोस्तों को ROM और Cache Memory में Confusion होगा उसका लेख भी आपको निचे link में मिल जायेगा. ऐसे ही कंप्यूटर, इन्टरनेट, मोबाइल से सम्बंधित बेहतरीन article अपने मोबाइल में प्राप्त करने के लिए हमें subscribe जरुर करें. जिससे नयी post की notification आप तक सबसे जल्द पहुँच सकेगी.

अगर अभी भी कोई सवाल आप पूछना चाहते हो तो निचे Comment Box में जरुर लिखे और हमरे Blog को जरुर Subscribe करें जय हिंद धन्यवाद.

पिछला लेखC Language क्या है और कैसे सीखे?
अगला लेखTop 10 Small Businesses Ideas in Hindi 2022
चन्दन इस हिंदी ब्लॉग के Founder हैं. वोह एक Professional Blogger हैं जो SEO, Technology, Internet से जुड़ी विषय में रुचि रखते है. अगर आपको ब्लॉगिंग या Internet जुड़ी कुछ जानकारी चाहिए, तो आप यहां बेझिझक पुछ सकते है. हमारा यह मकसद है के इस ब्लॉग पे आपको अछे से अछे जानकारी मिले.

97 COMMENTS

    • Aap Blogger Pe ek Free Blog Bana Sakte ho, Ek Professional Website Banane Ke Liye Aapko Domain Aur Hosting Lena Padta hain aur uske liye Paisa Invest Karna Padega

  1. Sir jab hum Apne phone off करके फिर से ओपन करते हैं तो यदि आपका फोन 4जीबी का है तो फिर अवेलबल 2 जीबी ही क्यों शो करता है यदि हम रीसेट भी करें फिर भी 2जीबी ही दिखाता है बाकी का 2 जीबी कहां जाता है जबकि हम फोन को हार्ड रीसेट कर चुके होटें हैं

    • Mattu ji, RAM ka full form hai Random Acess Memory. Yadi aap kuch alag puchna chahte hai tab apna sawal jarur lekhen. आज से आप लोगों को प्रतिदिन एक नया article पढने को मिलेगा. ये वाकई आपके Knowledge को बढ़ाने में मददगार साबित होगा. Article पढने के लिए धन्यवाद् और अच्छा लगे तो share जरुर करें.

  2. Kya alag alag comapny k mobile me jo ram aati unme performance me difference hota kya mtlb jese koi samsung ka mobile wo 6 gb ram ka he or same wahi specifications oppo vivo mi k mobile me 6gb ram k to kya inki ram me difference hoga kya

    • Hello Ram ji, iske liye aap Computer Disk clean up Software ka istamal kar sakte hain. Badhiya hoga ki aap CCleaner ka istamal kar sakte hain jo ki Free hota hai.

  3. thanks आपने बहुत ही सुन्दर भाषा मे समझाया है
    thanks you so much

    mujhko bhi aapki tarh computer m interested h so thanks

  4. क्या आप हमें ये बता सकते हैं कि वो कौन सी मोबाइल है जो हैंग नही करती या कम हैंग करती है

    • Deepak Tiwari जी
      सुक्रिया अगर आपको हमारी जानकारी अछि लगी तो Social Sites में Share जरुर करें.

    • SRAM को मतलब Static RAM को CPU में जो cache memory होती है वहां इस्तेमाल किया जाता है. वैसे ही DRAM Computer के Main Memory बनाने के लिए किया जाता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here