मोबाइल फोन का इतिहास और विकास

आज के समय में हर इन्सान की सबसे बड़ी जरूरतों में से एक है Mobile Phone, बात कुछ ऐसी बन गयी है की हम बिना अपने Mobile Phone के एक पल भी रह नहीं सकते हैं. हमारे लगभग सभी कार्यों के लिए हम SmartPhones के ऊपर निर्भर हो रहे हैं. ये मोबाइल फ़ोन या स्मार्ट फ़ोन जिन्हें की हम आज इस्तमाल में लाते हैं वो करीब 20 वर्ष पहले ही दुनिया में आये हुए हैं. वहीँ Mobile Phone का इतिहास और विकाश की कहानी काफी रोचक और जानकारी पूर्ण है.

इससे पहले आपने हमारे ब्लॉग पर कंप्यूटर का इतिहास और विकास के विषय में एक article जरुर पढ़ा होगा, वहीँ कुछ लोगों ने हमें Mobile Phones के इतिहास और विकाश के विषय में लिखने के लिए कहा इसलिए आज हमने इसी के विषय में बताने के लिए यह article लिखा हुआ है.

Cell phones या Mobile Phones को असल में इसलिए बनाया गया था ताकि इसे कोई व्यक्ति अपने साथ car में भी ले सके. यही कारण है की इसे Car Phones भी कहा जाता है. यदि हम पहले ज़माने के Cell Phones की बात करें तब वो बहुत ही बड़े, भारी और ज्यादा कीमती हुआ करते थे आजकल के Latest Modern (आधुनिक) Mobile Phones की तुलना में. चलिए आज के इस article के माध्यम से हम Mobile phones के इतिहास और विकाश के विषय में पूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे. उम्मीद है की हमारी ये कोशिश आपको बेहद पसदं आये, तो फिर चलिए शुरू करते हैं.

मोबाइल का इतिहास – History of Mobile Phone in Hindi

mobile ka itihas hindi

Mobile का Simple से Smart बनने तक का सफ़र सच में काफ़ी रोचक रहा है. Mobile Phones में ऐसे काफी बदलाव आये जो की इसे एक information और communication hubs के तोर पर बनाकर तैयार किया, जो की काफी fundamental है आज के आधुनिक रहन सहन को देखा जाये तब. लेकिन कैसे ये Mobile फ़ोन इतने ज्यादा अत्याधुनिक बने? इसके लिए आपको यह Post “Mobile का इतिहास और विकाश” बड़े ही ध्यान से अध्ययन करना होगा जिससे आप ये जान सकते हैं की समय के साथ इसमें क्या क्या बदलाव लाये गए.

दुनिया का सबसे पहला Mobile Phone कौन सा था और इसे कब Launch किया गया था?

दुनिया का सबसे पहला Mobile Phone था “Motorola DynaTAC 800x” और इसे सन 1983 में launch किया गया था. इसकी कीमत उस समय करीब $4,000 की रखी गयी थी. वहीँ इसमें केवल आप 30 minutes तक की बात कर सकते थे. इसकी आकार की बात करें तब ये करीब 1 Foot तक की थी.

इसकी इतनी बड़ी size होने के वाबजूद भी उस समय इसे सबसे ज्यादा portable telephone माना गया. उस समय ये सच में एक बहुत ही बड़ी बात थी हम इन्सान बिना किसी तार के यानि की wirelessly बात कर सकते है वो भी एक portable phone के सहायता से.

मोबाइल फोन का इतिहास और विकाश

अब चलिए Mobile Phone के इतिहास और विकाश की और ध्यान देते हैं. और जानते हैं की की कैसे Mobile Technology को इतने वर्षों में काफी बदलाव का सामना करना पड़ा.

1983 – 1990 (दुनिया का पहला Portable Mobile Phone)

सन 1983 में दुनिया को अपना पहला portable mobile phone प्राप्त हुआ जिसका नाम था Motorola DynaTAC 8000X. इसकी कीमत थी करीब $4000 USD और उस समय इसे एक status symbol के तोर पर माना जाता था.

दो वर्षों के बाद पहला mobile phone call किया गया वो भी UK के की धरती है, ये phone call किया गया था Vodafone Chairman Sir Ernest Harrison जी को. सन 1989 में, Motorola ने DynaTAC के बाद दुसरे model भी तैयार किये जो की थे 9800X या MicroTAC, इसमें एक fold-down keyboard cover मेह्जुद था और वहीँ इसने flip phone की एक standard भी set की हुई थी पुरे 90’s में.

Features:
Mobile Calling

1991 – 1994 (Consumer Handsets की शुरुवात)

GSM को सबसे पहले launch किया गया था Europe में सन 1991 में. इसे launch किया गया था Orbitel TPU 900 के साथ Market में पहली बार, लेकिन सन 1992 तक mobiles को केवल business लोगों द्वारा ही इस्तमाल किया जाता था, वहीँ इसके बाद से अब इसे Consumers भी इस्तमाल करने लगे.

वहीँ इसकी कीमत में भारी गिरावट तब देखी गयी जब इसकी mass production होने लग गयी, और लोगों को cost-effective consumer handsets मिलने लग गए digital displays के साथ. Nokia ने इस बदलाव का सबसे पहला फायेदा उठाया, वहीँ Nokia 1011 को भी उसी वर्ष launch किया गया था.

Features:
SMS, Games

1995 – 1998 (मोबाइल फ़ोन ज्यादा Colourful बनने लगे)

वैसे तो ये केवल offer करते थे चार colours, Siemens की S10 mobile phone ने Phone के display में मानो जान ही दाल दी सन 1997 में. ये वहीँ समान वर्ष है जब Hagenuk ने launch किया था GlobalHandy, वो पहला device बिना एक external aerial के.

इस बार Customisation में भी काफ़ी बदलाव किये गए, जिसमें Ericcson ने offer करना शुरू कर दिया swappable coloured front keyboard panels. वहीँ इसके बाद वाले वर्ष में Nokia ने launch किया एक range की ‘Xpress-on’ interchangeable covers उसकी 5100 series में, जो की उसे पहला fashion orientated phone बनाती थी.

Features:
Mail, Vibrate Alerts, Colour Screen

1999 – 2002 (Feature Phone में जबरदस्त Growth)

सन 1999 में Nokia ने launch किया 7110, जो की पहली device थी जिसने की WAP का इस्तमाल किया गया (ये एक ऐसी means थी जिससे की information को access किया जाता है एक mobile wireless network में). वहीँ इसके ठीक एक वर्ष बाद, Sharp ने launch किया दुनिया का सबसे पहला camera phone, J-SH04.

ये भले ही उस समय केवल available था Japan में लेकिन इसके आने से ये signal मिला की लोगों को Phone Photography की तरफ झुकाव है. केवल पश्चिमी दुनिया में camera phone की शुरुवात हुई, सन 2002 से जब Sony Ericsson T68i को release जिया गया जिसमें clip-on camera का इस्तमाल किया गया था.

Features:
WAP, Tri-Band, Video Calling, GPS Navigation, Predictive Text, Camera, Polyphonic Ringtones, MP3 Player, Bluetooth, Memory Card, MMS

2003 – 2006 (Mobile Data Revolution)

3G के implementation से download speeds में काफी बढ़ोतरी हुई करीब 2MBS तक. March 2003 में “3” ने 3G Service को सबसे पहले offer की UK में. RIM ने mobile email को masses तक पहुँचाया उसकी range की popular BlackBerry devices जैसे की 8100 Pearl के द्वारा. सन 2003 में, front-facing cameras की शुरुवात हुई devices में जैसे की Sony Ericsson Z1010 जो की मुख्य रूप से video calling को मुमकिन कर पाई, लेकिन उस समय ये feature उतनी ज्यादा popular हो न सकी.

Features:
Realtone Ringtones, Augmented Reality, Wi-Fi, Quad-Band, Water Proof, Full Web Browsing

2007 – 2010 (Getting Smarter)

Swiping और scrolling ने replace कर दिया traditional button method को जो की input में इस्तमाल होता था. इस समय LG Prada बनी वो पहली touchscreen market में, वो भी Apple iPhone से पहले May 2007 में. वहीँ लेकिन, Apple ने ये prove कर दिया दोनों stronger brand और superior knowledge से की वो capacitive touchscreen’s potential प्रदान करने में सबसे बेहतर हैं.

Features:
NFC, Capacitive Screen, Mobile Apps, Wireless Charging

2011 – 2014 (Life Companion)

Smartphones काफी ज्यादा popular और central होने लग गयी modern life के लिए, जो की offer करती है केवल communication features से भी ज्यादा. UK की पहली 4G service launch की गयी था करीब 11 cities में EE के द्वारा सन 2012 में, जिसने की download speed को बढाकर करीब 12mbps तक ले गयी थी.

Voice recognition बन गयी एक commonplace, पहले Google Voice के लिए, फिर Apple द्वारा launch की गई Siri के लिए market में. Samsung ने फिर एक built-in heart rate monitor भी जोड़ दिया उनके flagship Galaxy S5 में जिससे की वो capitalise करना चाहते थे अपनी growth को mobile health & fitness में.

Features:
Voice Control, Dual Lens Camera, Facial Recognition, Fingerprint Scanning, Full HD Screen, Heart Rate Monitor

2015 – 2018 (Size जरुर से Matter करता है)

पूरी दुनिया में जब global adoption होने लगा 4G का, तब इससे video streaming और video calling capabilities में भी काफी उन्नति होने लगी. Screen sizes धीरे धीरे grow होने लगी जिससे की सभी features के अनुभव को maximise किया जा सके.

iPhone 7 Plus की display में लगभग 57% बढ़ोतरी देखने को मिली इसके original iPhone 2007 की तुलना में. फिर Mobile payments भी सामने आया Apple Pay और Android Pay के साथ जो की users को offer करने लगे खरीदने की सुविधा वो भी अपने smartphone के इस्तमाल से.

Features:
Scanner, Apple & Android Pay, Bazel Less Screen, Notch, In-Display Fingerprint Scanner

Present Day (अत्याधुनिक Superfast दुनिया)

EE ने launch किया UK की पहली 5G service वो भी 6 cities में इस May 2019 में. Fifth-generation network ने वादा करती है की वो superior data speeds और reliability प्रदान करेगी, वहीँ इसके साथ वो boosting करेगी ultra-high-resolution video streaming और mobile gaming की भी. Handset design trends भी धीरे धीरे बढ़ने लगा सभी screen experience में, वहीँ OnePlus ने introduce किया नयी pop-up selfie camera उनके flagship 7 Pro device में.

Features:
Penta- Lens Camera

MOBILE FIELD की KEY MILESTONES

अब चलिए उन महत्वपूर्ण Milestones के ऊपर गौर करते हैं जो की Mobile Technology Field से सम्बंधित हैं.

1973

दुनिया सा सबसे पहला mobile phone call किया गया Dr Martin Cooper के द्वारा, जो की एक Motorola employee थे, New York में, इसके लिए उन्होंने इस्तमाल किया था एक prototype Dyna TAC phone का. Cooper ने ये phone अपने मित्र को किया था जो की उनके rival कंपनी AT&T में काम किया करते थे. उस समय यह phone 1 Kg से ज्यादा का वजन वाला था और वहीँ इसे करीब 10 घंटे लगते थे charge होने के लिए!

1979

Japan हमेशा से technology में सबसे आगे रहता है और सन 1979 में उन्होंने launch किया सबसे पहला commercially available automated cellular network, लेकिन उस समय ये केवल cars में ही उपलब्ध था. जिसे की हम आज “1G” के नाम से जानते हैं.

1981

1G फिर बाद में पश्चिमी देशों में पहुँच गयी, सबसे पहले Scandinavia और फिर UK और North America.

1983

दुनिया का सबसे पहला mobile phone sale होने लगा, जो की था Motorola DynaTAC 8000X. ये बहुत ही कीमती था करीब $4000 USD.

1985

Michael Harrison जे सबसे पहला mobile phone call किया था UK में. उन्होंने phone call अपने पिता को किया था, जो की उस समय Chairman थे Vodafone की, Sir Ernest Harrison.

1989

फिर पहली truly portable mobile phone सबसे सामने आई – जो की थी Motorola 9800X जिसमें features थी एक flip-down को जो की cover करती थी keypad को.

1991

GSM (Global System for Mobile Communications) phone को launch किया गया और 2G digital cellular networks ने replace कर दिया 1G analogue system को पूरी तरह से. 2G में हमें मिला Text messages, picture messages, और multimedia messages (MMS), जिससे की एक पुरे नए ढंग से लोग एक दुसरे के साथ communicate करने लगे.

1992

Neil Papworth ने सबसे पहला text message भेजा Vodafone director Richard Jarvis की Orbitel TPU 901 phone को. इसमें लिखा गया था “happy Christmas!”.

1994

IBM ने release किया Simon को जिसमें की एक touchscreen था और साथ में एक बहुत ही early form के Apps भी थे. इसकी कीमत राखी गयी थी $899 और ये केवल US के 15 states में ही काम करता था.
Nokia ने launch किया 2110 को Europe मीन, ये उस समय में मिलने वाला सबसे छोटा GSM phone था और वहीँ इसमें ringtones के choices भी मिलते थे जैसे की Nokia Tune.

1996

सबसे पहला phone वो भी ‘slider’ form factor के साथ मार्किट में आया Nokia 8110 के रूप में. इसका नाम प्रचलित था banana phone के हिसाब से उसके shape के हिसाब से. वहीँ इसने big screen में भी अपनी appearance की थी Matrix मूवी में. वहीँ ये पहला device था जो की feature करता था एक monochrome LCD screen.

इसके साथ Motorola StarTAC भी ऐसा phone था जो की पहला flip phone या clamshell device था. इसकी popularity काफी ज्यादा थी जिससे की करीब 60 million units worldwide इसकी बिक्री हुई.

1997

Iconic game Snake को launch किया गया Nokia 6110 में जिससे की mobile gaming की शुरुवात हुई. Hagenuk ने launch किया GlobalHandy वो भी बिना किसी external aerial के; Ericcson ने दुनिया के सामने लाया coloured keyboard panels और Siemens ने सामने लाया पहला coloured screen phone – S10.

वहीँ UK Mercury One2One ने शुरू किया पहला pay as you go services जिसे की कहा गया ‘Up 2 You’. ये customers को allow करता था उनके call credit को top-up करने के लिए और ये बाद में फिर बन गया T-Mobile और फिर EE.

1998

Nokia ने launch की 5110 जो की काफ़ी ज्यादा popular हो गयी consumer market में और इसमें replaceable faceplates (जिसे की Nokia ने brand किया ‘Xpress-on covers’) शामिल किये गए जो की इसे पहला truly customisable phone बनाता है.

1999

WAP को launch किया गया Nokia 7110 में, जो की इसे पहला phone बना दिया जो की capable बना browsing करने के लिए web albeit में, एक trimmed down version जो की प्रदान नहीं करता था full HTML experience जिसे की हम आज जानते हैं.

2000

Sharp J-SH04 बना वो पहला camera phone market में, लेकिन ये केवल available था Japan में. BlackBerry ने launch किया उनकी 857 जो की support करता था email और web browsing. जो की signify करता था BlackBerry की reign एक business phone kings के तोर पर. Nokia ने launch किया most iconic phone – Nokia 3310. इसकी करीब 126 million units बिक्री हुई.

2001

Full-colour displays फ़ोन market में आना चालू हो गया, वो भी पहले Mitsubishi Trium Eclipse के तोर पर लेकिन बाद में Ericcson T68i के साथ.

Qwerty keyboards भी अपनी appearance जाहिर की Nokia 5510 के रूप में. वहीँ लें 8310 ही ज्यादा popular phone बना उसके slick design और cutting edge features के लिए जिसमें शामिल था Infrared, एक fully functional calendar और एक FM radio.

2002

Europe की पहली camera phone, Nokia 7650, को release किया गया. T-Mobile ने announce किया UK की पहली picture messaging service जो की available था केवल Sony Ericsson T68i में.

ये 7560 में लोगों को मिलता था 0.3-megapixel sensor जिससे की 640×480 pixels की colour imaging किया जा सकता था.

2003

Finnish giant’s best-selling phone बना Nokia 1100, जो की इतना ज्यादा प्रसिद्ध हुआ की इसकी करीब 200 million units से ज्यादा की बिक्री हो गयी बहुत ही कम समय में.

3G networks की शुरुवात हो गयी दुनिभर में, जो की प्रदान करता था data transmission speeds करीब तिन से दस गुना ज्यादा 2G की तुलना में. इससे users अब video clips आसानी से watch कर सकते थे, वहीँ साथ में video conferencing में हिस्सा ले सकते थे और वहीँ utilise कर पाने लगे location-based services को पहली बार.

2004

Motorola ने launch किया Razr V3 –एक बहुत ही popular ‘fashion’ orientated phone, 2004 से 2006 के बीच में. इसकी करीब 130 million units की बिक्री हुई और इसने आने वाले समय में future sleek designs के लिए designers को तैयार किया था.

2005

Android, इस mobile operating system को acquire कर लिया गया Google के द्वारा, जिससे ये मालूम पड़ा की यह Mountain View giant काफी ज्यादा serious है mobile technology के मामले में.

Casio G’zOne बन दुनिया का सबसे पहला waterproof handset जिससे की एक नयी movement की शुरुवात भी हुई ऐसे phones के तरफ जो की IP certifications लेने लगे.

2006

Nokia N95 को launch किया गया जो की पहली बार लोगों को पहला real smartphone experience प्रदान किया. ये काम करता था Symbian OS के ऊपर, और इसमें 160mb की RAM थी, दुनिया का पहला 5-megapixel phone camera, Bluetooth और Wi-FI.

2007

June 2007 में launch हुए 1st generation iPhone, जिसे की release किया गया Steve Jobs के द्वारा, इसमें featured हुए एक auto-rotate sensor, एक capacitative screen जो की allow करते थे multiple inputs वहीँ minor touches को ignore भी करते थे. कुछ अंतराल के भीतर ही ये phone काफी ज्यादा success बन गयी.

2008

दुनिय का पहला Android phone को release किया गया जिसे की G1 कहते थे. इसमें एक limited touchscreen होती थी और एक slide-out keyboard. वहीँ Microsoft ने भी अपनी एक Mobile Operating System बनायी “Windows Phone”, इससे वो अब Android और iOS के साथ compete करना चाहती थी. Apple ने launch किया अपनी App store जिसमें करीब 552 apps available थे download करने के लिए.

2009

WhatsApp को launch किया गया, इसके co-founder, Jan Koum Koum को ये idea वो भी messaging app का मिला एक movie night के दौरान अपने किसी दोस्त के घर में.

Sweden और Norway TeliaSonera बने पहले operator जो की customers को 4G services ऑफर करते थे. Practical terms में कहें तब, 4G के आने से data transfer speeds में करीब पांच गुना बढ़ोतरी दिखाई पड़ी 3G networks की तुलना में.

2010

Apple ने launch किया iPhone 4 लेकिन antenna problems से इसे काफी दिक्कत हुई. Google ने finally release किया एक branded smartphone – जिसे की नाम दिया गया Nexus One.

2011

Samsung ने अपनी अच्छी ख़ासी जगह बना डाली एक बड़ी global smartphone vendor के तोर पर, जिसके लिए इसे उनके model Galaxy S II न काफी मदद करी जिसमें की users को एक 8MP camera और एक AMOLED display मिलता था.

2012

पांच वर्षों के बाद पहले बार iPhone ने जब market में उपलब्ध होना चालू किया, इस fifth-generation model को September में release किया गया. इस iPhone 5 की करीब 5 million units को पहली ही weekend में बिक्री हो गयी.

2013

Fingerprint scanning mainstream में चली गयी जब इसे launch किया गया iPhone 5S में via touch button के.

2014

3G coverage अब available था 99% की UK population में. वहीँ Facebook ने acquire कर लिया था WhatsApp को $19 billion में.

2015

Chinese firms Huawei और Xiaomi भी अपनी जगह बनाने लगे Western Markets में, लेकिन दोनों Samsung और Apple फिर भी dominate करने लगे अपनी Galaxy S5 और iPhone 6S के माध्यम से जिसकी करीब holding 38% की थी पूरी दुनिया भर में.

4G data traffic ने surpass कर दिया 3G को पहली बार. धीरे धीरे 4G की चाहत बढ़ने लगी और वहीँ इसने 3G का एक बहुत ही बड़ा हिस्सा अपने में समा लिया था mobile data traffic के मामले में.

2016

Google ने अपनी Nexus branding को replace कर दिया Pixel के साथ, वहीँ उन्होंने दो नए high-end smartphones release भी किये; Pixel और Pixel XL. दोनों ही compete करने के लिए release किये गए थे Apple के iPhone 7 और 7 Plus के साथ.

2017

Microsoft ने बंद कर दिया support देना अपनी Windows Phone OS के लिए, केवल 7 years के बाद ही. Screen design dominance फिर से rise करने लगी, Samsung Galaxy S8 और iPhone X ने adopt कर लिया करीब 82% screen-to-body ratios.

अब screen real estate का focus होने लगा ‘notch’ trend के तरफ. ये Sharp Aquos S2 और Essential Phone वो पहले company थे जो की इस feature को पहले adopt किया, यहाँ तक की iPhone X से भी पहले.

SMS messaging celebrate करने लगी अपनी 25th anniversary. अब ये service transmit करती है करीब 22 billion messages daily.

2018

Chinese manufacturer Ulefone ने launch किया Power 5 जिसमें की एक 13,000 mAh battery का इस्तमाल होता था, ये दुनिया का सबसे बड़ा battery था जिसे की mobile phone में इस्तमाल किया जाता था, वहीँ ये करीब चार गुना बड़ा था Apple के flagship iPhone XS Max की तुलना में, जिसे की उसी साल release किया गया था.

2019

UK और US अब deploy करने लग गए हैं 5G network, इनकी initial indications point करती हैं real-world data transfer speeds करीब 10 times faster 4G की तुलना में.

आज आपने क्या सीखा

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख मोबाइल फोन का इतिहास और विकास जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को मोबाइल का इतिहास के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है.

इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं.

यदि आपको यह post भारत में मोबाइल का इतिहास पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here