Backup क्या है और क्या है फायदे?

क्या आपको Backup क्या है के बारे में पता है? क्या आपने कभी किसी चीज़ की backup करी है. यदि आपने कभी भी backup किया होगा तो आपको Backup के विषय में जानकारी होगी. अगर आप कोई computer या कोई mobile device का इस्तमाल कर रहे हों और अगर आपका कोई महत्वपूर्ण data अगर lost हो जाये तब उसको लेकर हमें बहुत तकलीफ होती है क्यूंक ये data हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है. ऐसे में अगर उन data का अगर कोई backup होता है तब हम उससे data को और एक बार recover कर सकते हैं.

वैसे अगर में Backup के बारे में बताऊँ तो ये एक ऐसा process है जिसका इस्तमाल करके original data के कई copies बनाया जाता है, ताकि उनका इस्तमाल तब किया जा सके जब original data नष्ट हो जाये. ठीक ऐसे समय में ही backup हमारे बहुत काम में आता है. इसके साथ अगर data को कोई दुसरे जगह से access करना है तब भी हमारे लिए Backup बहुत काम आता है. इसलिए आज मैंने सोचा की आप लोगों को Backup क्या है और इसके types क्या हैं के विषय में जानकारी देने जा रहा हूँ. तो फिर बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं और बैकअप क्या होता है के बारे में जानते हैं.

बैकअप क्या है (What is Backup in Hindi)

Backup Kya Hai Hindi

एक Backup एक और एक से ज्यादा files का copy होता है, जिन्हें की एक alternative के हिसाब से बनाया गया होता है ताकि अगर कभी भी original data lost हो जाता है या unusable हो जाता है तब हम इनका इस्तमाल कर सकते है. अधिकतर बार हम हमारे data को Computer के Hard drive में save करके रखते हैं, तो ऐसे बहुत बार होता है की ऐन समय पर hard drive crash कर जाता है, क्यूंकि अलग electronic devices के तरह ही इसमें भी बहुत खराबियां होती हैं इसलिए इन्हें पूरी तरह से विस्वास नहीं किया जा सकता है.

ऐसे ही समयों में हमें data backup के सही महत्व का पता चलता है. ये सिर्फ hardware के malfunction के लिए नहीं होता है बल्कि इसके लिए कई बार Software malfunction भी जिम्मेदार होते हैं. जैसे की अगर कोई virus या trozan system के memory को corrupt कर जाये तब इससे data का loss होता है. इसलिए बहुत से कारणों के लिए हमारे data loss हो सकते हैं.

इन्ही सभी मुश्किलों को दूर करने के लिए आज बहुत सारे ऐसे उपाय है जिससे की हम अपने information को securely backup कर सकते हैं. जिनमें की CD-R, DVD-R, USB thumb drives, External Drives और Cloud Storage शामिल हैं. इनका अगर हम सही इस्तमाल करें तो बड़ी ही आसानी से हम अपने महत्वपूर्ण data को backup कर सकते हैं और जरुरत पड़ने पर इस्तमाल कर सकते हैं.

Backup के Types

वैसे देखा जाये तो ऐसे बहुत सारे Backup के प्रकार मेह्जुद हैं और ऐसे terms जिनका इस्तमाल हम हम अपने digital contents को backup करने के लिए करते हैं. इसलिए मैंने आज उन्ही Backup के types के बारे में आपको समझाने की कोशिश की है, जहाँ मैंने उनके बारे में कुछ लिखा है, कुछ explanation बताई हैं, कुछ common examples, उनके advantages और disadvantages के विषय में आपको समझाने की कोशिश करी है. तो फिर चलिए उनके विषय में जानते हैं.

1. Full Backup

Full backup एक ऐसा method है backup का जहाँ की सारे files और folders को select किया जाता है backup करने के लिए. इसे आमतोर से initial or first backup के हिसाब से इस्तमाल किया जाता है जिसके उपरांत incremental और differential backups किया जाता है. वैसे ही कई बार incremental और differential backups करने के बाद, ये बहुत ही common बात है की हम फिर से fresh full backup से शुरुवात करें.

कुछ लोग तो अपने smaller folders और projects के लिए full backup करना पसंद करते हैं जो की ज्यादा storage space occupy नहीं करते हैं.

Full Backup का उदहारण

यहाँ पर आप अपने daily के tasks को backup करते हैं हर रात को Monday से Friday तक. और ये cycle हर दिन चलता रहता है. सभी backup के समाप्ति में हमें हमारे सारे files और folders backup हुए प्राप्त होंगे. ऐसे में हमें data के loss होने का कोई भी खतरा नहीं रहेगा.

Advantages

  • इन्हें Restore करना बहुत ही आसान है और fast है क्यूंकि इसमें files और folders की पूरी list को एक ही backup set में store किया जाता है.
  • इसके साथ इसे maintain और restore करना अलग अलग versions के साथ भी बहुत आसान है.

Disadvantages

  • Backups करने में ज्यादा समय लग सकता है क्यूंकि यहाँ सभी files backup किया जाता है एक और बार पूरी तरह से जो की backup time को बढ़ा सकते हैं.
  • ये incremental और differential backups की तुलना में ज्यादा space consume करता है. क्यूंकि यहाँ exact same files को बार बार repeatedly store किया जाता है backup के दोरान जिससे की storage की बर्बादी होती है.

2. Incremental Backup

Incremental backup एक ऐसा backup है जिसमें की सभी changes जो होते हैं वो last backup के बाद वाले होते हैं. यहाँ पर last backup एक full backup या फिर simply last incremental backup भी हो सकता है. यहाँ incremental backups, में एक full backup पहले किया जाता है और उसके बाद दुसरे backup जो होते है वो और कुछ नहीं बस वही changed files और new files होते है जिन्हें की last backup के बाद add किया जाता है.

Incremental Backup का उदहारण

आप Incremental backup के लिए ये protocol set कर सकते हैं जहाँ की इसके काम हर रात को Monday से Friday तक होता रहेगा. ये Assume करने की आपने सबसे पहला backup किया है Monday को. यहाँ पर first backup एक full backup होगा क्यूंकि आपने इसके पहले कोई भी Backup नहीं किया है. वहीँ Tuesday, में incremental backup में केवल वही files को backup किया जायेगा जिन्हें की Monday के बाद change किया गया है और उसमें कुछ नए files add किये गए हैं. ठीक उसी तरह की आपके के दिन में भी केवल जो बदलाव किये गए हैं बस उन्हें की आगे backup किया जायेगा.

Advantages

  • ये बहुत faster backups हैं
  • यहाँ पर storage space का efficient use होता है क्यूंकि यहाँ files को duplicate नहीं किया जाता है. यहाँ पर बहुत ही कम storage space का इस्तमाल होता है .

Disadvantages

  • यहाँ पर Restores बहुत ही slower होते हैं full backup और differential backups की तुलना में.
  • इसके साथ Restores थोड़े complicated भी होते हैं. इसे करने के लिए सभी backup sets को पहले करना होता है जैसे की full backup और दुसरे incremental backups.

3.Differential Backup

Differential backups हमेशा से full backups और incremental backup मध्य में आता है. Differential backup उस backup को कहा जाता है जब सारे changes कर दिए गए हों last full backup करने के बाद. Differential backups, में सबसे पहले एक full backup किया जाता है और उसके बाद फिर जो दुसरे backup run होते हैं वो वही changes होते हैं जो की last full backup के बाद होते हैं. यहाँ पर result बहुत ही faster backup होते हैं अगर हम इसे full backup से तुलना करें तब. Storage space जो इस्तमाल किया जाता है वो बहुत ही कम होते हैं Incremental backups की तुलना में. Restores इसमें slow होते हैं full backup से वहीँ ये Incremental backups से faster होते हैं.

Differential Backup का उदहारण

अगर हम differential backup को setup कर दें की वो सभी रात को Monday से Friday तक backup करें तब जैसे की हम जानते हैं की सबसे पहले वाले Backup जो होगा Monday को वो full backup होगा. उसके बाद next दिनों में जो backup होगा उनमें केवल वही backups store होंगे जो की उस पहले वाले backup से अलग हों. उसी तरह से आगे भी केवल changes किये गए files ही copy किये जायेंगे.

Advantages

  • ये बहुत ही faster backups होते हैं full backups की तुलना में
  • इनमें storage space को efficiently इस्तमाल किया जाता है क्यूंकि इनमें केवल change किया गया data ही backup किया जाता है.
  • ये बहुत ही Faster restores करता है incremental backups की तुलना में

Disadvantages

  • यहाँ पर Backups बहुत ही slower होते हैं incremental backups की तुलना में
  • यहाँ पर Incremental backup की तुलना में ज्यादा efficiently storage space का इस्तमाल नहीं किया जाता है. सारे files जिन्हें की add किया जाता है और edit किया जाता है उन्हें initial full backup के बाद फिर से duplicate किया जाता है सभी subsequent differential backup के साथ.
  • यहाँ पर Restores बहुत ही slow होते हैं full backups की तुलना में.
  • इसके साथ Restores थोडा ज्यादा complicated होते हैं full backups की तुलना में लेकिन simpler होते हैं incremental backups की तुलना में.

4. Mirror Backup

Mirror backups जैसे की इसके नाम से ही पता चलता है की ऐसे backup को कहा जाता है जहाँ की source की backup को एक जगह में store किया जाये जैसे की एक mirror में original image की एक प्रतिबिम्ब बन जाये. लेकिन यहाँ mirror backups, में जब भी एक file को source में delete किया जाता है, वहीँ इसके mirror backup में भी वो अपने आप ही delete हो जाता है. इसलिए mirror backup को इस्तमाल करते वक़्त बहुत ही सावधानी बरतनी पड़ती है. क्यूंकि अगर कोई file अगर अनजाने में ही सही किसी virus के द्वारा delete हो जाये तब वो इसके mirror backup पर भी असर गिरा सकता है. इसलिए बहुत से लोग इसे एक backup ही नहीं मानते हैं.

बहुत सारे backup software utilities mirror backups के लिए support provide नहीं करते हैं.

Advantages

  • ये backup बहुत ही clean होते हैं और इनमें कोई भी पुरानी और obsolete files नहीं होती है.

Disadvantages

  • इसमें अगर गलती से कोई file source से delete हो जाये तब वो mirror backup से भी delete हो सकता है.

5. Full PC Backup or Full Computer Backup

Full PC backup उन backup को कहा जाता है जिनमें की computers hard drives के entire images की backup ली जाती है न की केवल individual files और folders की. एक drive image एक snapshot के तरह होता है किसी drive की. इसे कहीं भी stored compressed or uncompressed किया जा सकता है.

अगर हम किसी दूसरी file backups, की बात करें तब इसमें केवल user’s document, pictures, videos और music files को restore किया जा सकता है लेकिन वहीँ operating system, programs इत्यदि को दूसरी बार reinstall करना पड़ता है source download या फिर disc media से.

लेकिन वहीँ full PC backup के मदद से आप hard drives को पूरी तरह से restore कर सकते हैं उनकी exact state में यदि उनकी backup मेह्जुद हो तब. इसलिए यहाँ पर हम documents, pictures, videos और audio files के साथ साथ operating system, hardware drivers, system files, registry, programs, emails को भी recover कर सकते हैं. इसे दूसरी शब्दों में कहे तो एक full PC backup की मदद से एक crashed computer को उसके exact state में लाया जा सकता है. Full PC backups को कभी कभी “Drive Image Backups” भी कहा जाता है.

Full PC Backup का उदहारण

ऐसे बहुत सारे vendors हैं जो की full PC backup और restore software प्रबंध करते हैं. इन softwares को computers में पहले install किया जाता है जिन्हें की back up किया जाने वाला होता है.
यहाँ पर जो typically जो किया जाता है वो ये की आपको पहले एक bootable rescue disk or DVD तैयार किया जाता है. जब भी अगर कोई computer crash हो जाये लेकिन उसमें workable hard disk मेह्जुद रहती है, वहीँ पर हम उस rescue disk की मदद से अपने computer को boot up कर सकते हैं कुछ minimum features के साथ जो की हमें hard disk को restore करने में मदद करते हैं.
एक बार जब restore complete हो जाये तब computer अपने आप ही खुद के primary hard disk से boot up कर सकती हैं. जिसमें की आप अपने सारे files, programs, database settings को एक बार फिर से प्राप्त कर सकते हैं.

Advantages

  • एक crashed computer को बड़ी ही आसानी से restore किया जा सकता है जहाँ की आपके सारे data सही सलामत रहेंगे. यहाँ पर आपको एक बार फिर operating system, programs और perform settings को install करने की जरुरत नहीं है.
  • ये एक Ideal backup solution है hard drive failure के लिए.

Disadvantages

  • यहाँ पर आप किसी दुसरे motherboard, CPU, Display adapters, sound card से restore नहीं कर सकते हैं.
  • इसके साथ जो भी problems computer में थी backup के time में तो वो फिर से मेह्जुद रहेंगी.

6. Local Backup

एक local backup उसे कहा जाता है जहाँ पर storage medium को पास रखा जाता है. यहाँ पर storage medium को directly plugged in किया जाता है source computer के साथ जिसे की backup किया जायेगा और उसे connect किया जाता है local area network के माध्यम से source के साथ जिसे की backup किया जायेगा.

Examples of Local Backups

  • Internal hard drive
  • External hard drive (desktop or portable)
  • Optical drives जैसे की CDs, DVDs and Blue Ray discs
  • Solid state drives जैसे की USB Thumb drives or Flash Drives
  • Network Attached Storage (NAS)
  • Backup किसी दुसरे shared folder के साथ जो की किसी दुसरे computer में स्तिथ है network में
  • Magnetic tape drives

Advantages

  • ये अच्छा protection प्रबंध करती है hard drive failures, virus attacks, accidental deletes से.
  • ये बहुत ही fast backup करता है और बहुत fast restore भी करता है.
  • यहाँ पर Storage cost बहुत ही cheap होता है जब right storage medium को external hard drives के तरह इस्तमाल किया जाता है.
  • यहाँ पर Data transfer की cost storage medium में बहुत ही negligible और cheap होती है.
  • चूँकि यहाँ पर backups को पास में ही store किया जाता है इसलिए बहुत ही आसानी होती है इन्हें हम backups और restore के लिए इस्तमाल कर सकते हैं.
  • यहाँ पर हमारे पास Full internal control होता है backup storage media के ऊपर और उस data की security पर भी.

Disadvantages

  • चूँकि यहाँ पर backup को बहुत ही पास store किया जाता है इसलिए ये theft, fire, flood, earthquakes और दुसरे natural disasters के प्रति अच्छा protection provide नहीं करती है. इसलिए जब कहीं source को damage पहुँचती है वहीँ अच्छा chance ये भी है की backup को भी हानी पहुंचे.

7. Offsite Backup

ये एक ऐसा backup है जहाँ की backup storage medium को किसी दुसरे geographic location में रखा जाता है source से. इस backup को पहले locally भी किया जा सकता है किसी usual storage devices में लेकिन अगर इसी storage medium को अगर किसी दुसरे location को ले जाया जाये तब ये offsite backup बन जाता है.

Offsite Backups के उदहारण

  • जब office computers के backup drive को Administrator या Manager के द्वारा किसी दुसरे स्थान में ले जाया जाये, उसकी सुरक्षा के लिए.
  • जब backup drive को office के किसी branch में रखा जाये तब.

Offsite backups वो सारे protection प्रबंध करता है जो की local backups करता है, यहाँ इसके साथ added protection जैसे की theft, fire, floods, earthquakes, hurricanes और दुसरे natural disasters से भी सुरक्षा दिलाता है.

Advantages

  • यहाँ आप local backup की तुलना में ज्यादा protection लाभ करते हैं.

Disadvantages

  • सिर्फ online backups, को छोड़कर इसमें हमें storage media को offsite location में ले जाया जाता है.
  • ये बहुत ही ज्यादा charge करते हैं लोगों को दुसरे दुसरे storage devices में rotate होना होता है.
  • चूँकि यहाँ पर storage devices को ज्यादा handle करना होता है इसलिए इन hard disk का damage होना बहुत ही जायज बात है.

NOTE: ज्यादा faster Internet connections होने के वजह से लोग Offline Backup को छोड़ Online Backup के तरफ रुख कर रहे हैं.

8. Online Backup

एक online backup ऐसा backup है जो की एक ऐसे storage medium में किया जाया है जो की source के साथ हमेशा connected रहता है . यहाँ पर “online” शब्द से ये पता चलता है की एक ऐसी storage device या facility जो की हमेशा connected रहती है. इस प्रकार के storage medium और facility हमेशा offsite में located होते हैं और इसके साथ ये backup source के साथ Internet Connection के द्वारा जुड़े रहते हैं. यहाँ पर किसी इंसानी लोगों का हाथ नहीं रहता है कोई भी Storage media से सम्बंधित काम करने के लिए.
आजकल तो काफी commercial data centers अब ऐसे subscription service अपने consumers को प्रबंध करवा रहे हैं. मुख्यतः सारे storage data centers अपने socure से काफी दूर रहते हैं लेकिन वो Internet के जरिये connected रहते हैं.

यहाँ पर एक client application को source computer में install किया जाता है जिसे की back up किया जायेगा. Users को पहले ये define करना पड़ता है की उन्हें किन folders और files को backup करना है और उसके बाद ही backup का process start होता है. यहाँ पहले data को compressed और encrypted किया जाता है उसे Internet के माध्यम से storage data center को भेजने के लिए.
यहाँ storage facility एक commercial data center होता है जो की Source Computer से बहुत दूर स्तिथ होता है. Typically इन्हें किसी भी fire और earthquake जैसे विपदाओं से बचने के दृष्टी से बनाया गया होता है.

Advantages

  • ये सबसे best protection प्रदान करती है fires, theft और natural disasters के विरुद्ध.
  • चूँकि data को बहुत से storage media में replicate किया गया होता है, इसलिए data loss की risk बहुत ही कम होती है.
  • चूँकि यहाँ पर backups बहुत ही frequent होते हैं इसलिए data loss का होना बहुत ही कम होता है दुसरे backup की तुलना में.
  • चूँकि ये online काम करता है इसलिए इसमें human या manual interaction बहुत ही कम है इसके setup के बाद.

Disadvantages

  • ये बहुत ही जायदा expensive option है local backups की तुलना में.
  • शुरुवाती और पहले backups बहुत ही slow होते हैं जो की कई दिन तक भी लग सकते हैं, ये आपके internet connection और कितने amount data को backup किया जाये के ऊपर निर्भर करता है.
  • ये बहुत slow restore करता है.

9. Remote Backup

Remote backups एक form है offsite backup का जिसमें थोडा अंतर है जैसे की हम backup को access, restore और administer भी कर सकते हैं बिना उसके physical location में मेह्जुद रहे. यहाँ ये term “remote” का मतलब है की एक ऐसी ability जिसकी मदद से हम backup को control और administer कर सकें किसी भी location से. यहाँ आपको उन location में physically present रहने की कोई भी जरुरत नहीं है.

Remote Backup के उदहारण

  • Subscription backup services जो की commercial data centers provide करती है.
  • एक offsite FTP Server को backup.

Advantages

  • ये बहुत ही अच्छा protection प्रबंध करती है natural disasters से local backups की तुलना में.
  • यहाँ पर backup को manage करना बहुत ही आसान होता है क्यूंकि यहाँ सभी जगहों में physically present होना नहीं होता है.

Disadvantages

  • ये ज्यादा expensive होता है local backups से
  • ये Local Backup की तुलना में ज्यादा समय लगाएगा backup और restore करने के लिए.

10.Cloud Backup

Cloud backup एक ऐसे term है जिसे की हम Online Backup और Remote Backup के जगह में भी इस्तमाल कर सकते हैं. इस प्रकार के backup में data को एक storage server या facility में backup किया जाता है जिसे की internet के माध्यम से connect किया जाता है. साथ में proper login credentials के माध्यम से इन backup को securely किसी भी computer से access किया जा सकता है, इसके लिए बाद अच्छे internet connection की जरुरत होती है. यहाँ पर “cloud” शब्द का मतलब है की ऐसी backup storage facility जिसे की Internet के माध्यम से access किया जा सके.
Cloud Backup के उधाहरण

  • Subscription backup services जिन्हें की commercial data centers के द्वारा provide किया जाता है.
  • एक offsite FTP Server के लिए backup Internet के ऊपर

Advantages

  • चूँकि ये एक offsite backup, इसलिए ये fire, floods, earth quakes और दुसरे natural disasters के खिलाफ अच्छा protection दिलाता है.
  • इससे backup को आसानी से connect और access किया जा सकता है अगर Internet connection मेह्जुद हो तब.
  • यहाँ पर भी Data को कई storage devices के में replicate किया जाता है इसलिए data loss होने के chances बहुत कम हैं.

Disadvantages

  • ये बहुत ही ज्यादा expensive हैं local backups की तुलना में
  • ये Local Backup की तुलना में ज्यादा समय लगाएगा backup और restore करने के लिए.

11. FTP Backup

इस प्रकार के backup में backup को एक File Transfer Protocol (FTP) के माध्यम से Internet में FTP Server से किया जाता है. आमतोर से FTP Server को आप एक commercial data center में देख सकते हैं जो की source data से बहुत दूर स्तिथ होता है. जब FTP server दुसरे अलग location में locate होता है तो इसे एक दुसरे form कहा जाता है offsite backup का.

Advantages

  • चूँकि ये एक offsite backup, इसलिए ये fire, floods, earth quakes और दुसरे natural disasters के खिलाफ अच्छा protection दिलाता है.
  • ये बड़ी आसानी से Internet की मदद से connect और access किया जा सकता है.

Disadvantages

  • ये बहुत ही ज्यादा expensive हैं local backups की तुलना में
  • ये Local Backup की तुलना में ज्यादा समय लगाएगा backup और restore करने के लिए.

मुझे पूर्ण आशा है की मैंने आप लोगों को बैकअप क्या है (What is Backup in Hindi)? के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को Backup के बारे में समझ आ गया होगा. मेरा आप सभी पाठकों से गुजारिस है की आप लोग भी इस जानकारी को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में Share करें, जिससे की हमारे बिच जागरूकता होगी और इससे सबको बहुत लाभ होगा. मुझे आप लोगों की सहयोग की आवश्यकता है जिससे मैं और भी नयी जानकारी आप लोगों तक पहुंचा सकूँ.

मेरा हमेशा से यही कोशिश रहा है की मैं हमेशा अपने readers या पाठकों का हर तरफ से हेल्प करूँ, यदि आप लोगों को किसी भी तरह की कोई भी doubt है तो आप मुझे बेझिजक पूछ सकते हैं. मैं जरुर उन Doubts का हल निकलने की कोशिश करूँगा. आपको यह लेख Backup क्या है? कैसा लगा हमें comment लिखकर जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले.

“ मेरा देश बदल रहा है आगे बढ़ रहा है ”

आइये आप भी इस मुहीम में हमारा साथ दें और देश को बदलने में अपना योगदान दें.

12 COMMENTS

    • Jaydev ji, Backup ka matlab hota hai ki kisi data ko puri tarah se kisi dusri jagah mein encrypt kar dete hain aur ek safe jagah mein rakha jata hai aur jarurat ke samay mein hi istamal kiya jata hai data ki recovery ke liye. Wahin copy karna matlab ki kewal ek folder se dusre folder ko copy karna. ismein kewal kuch hi targeted files ko copy kiya jata hai. ismein data jyada safe nahi hota hai.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.