वेबसाइट कैसे बनाएं

आखिर एक वेबसाइट कैसे बनाएं? Internet के बारे में कौन नहीं जानता है. इसमें हम कोई भी जानकारी जानना चाहें तो उसे प्राप्त कर सकते हैं. वहीँ जो जानकरी हमें search engine प्रदान करती है वो कहीं से तो आते हैं, या किसी ने तो लिखकर publish किया है तभी हमें वो पढने के लिए उपलब्ध हैं. जी हाँ दोस्तों में जिस information sources की बात कर रहा हूँ उसे Websites कहते हैं. लेकिन अक्सर लोगों के मन में ये सवाल जरुर होता है की ये Website कैसे बनती है. इसका एक आसान सा जवाब नहीं है क्यूंकि Website को बनाने की एक पूरी प्रक्रिया होती है. और इसे समझने के लिए आपको यह article Website कैसे बनती है जरुर से पढनी चाहिए.

Internet Users होने के नाते आपने भी बहुत से Websites देखे होंगे लेकिन क्या आपको मालूम है की ये वेबसाइट कैसे बनाएँ? यदि नहीं तो चिंता करने की कोई भी जरुरत नहीं है क्यूंकि आज हम इसी विषय में पूरी जानकारी प्राप्त करेंगे जिससे हमे Website क्या है के साथ साथ ये कैसे बनायीं जाती है, उसके बारे में भी जानकारी मिल जाएगी. इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को वेबसाइट कैसे बनाते हैं हिंदी में के बारे में कुछ तथ्य बताई जाये. क्या पता आपको इसमें कुछ नया सीखने को मिल जाये. तो फिर देरी किस बात की चलिए शुरू करते हैं और Website कैसे बनती है के बारे में पूरी जानकरी प्राप्त करते हैं.

वेबसाइट क्या है

एक Website web pages का collection होता है (Web Pages: ऐसे documents जिन्हें की Internet के द्वारा access किया जाता है), जो की आप अभी एक ऐसा ही अपने सामने देख रहे हैं. एक web page वही होता है जिसे की आप अपने screen में देखते हैं जब आप एक web address को type करते हैं, किसी एक link पर click करते हैं, या कोई query एक search engine में खोजते हैं. एक web page में कोई भी प्रकार का information हो सकता है जिसमें की text, color, graphics, animation और sound मुख्य रूप से होते हैं.

जब आपको कोई अपना web address देता है, तब generally ये उस website का home page होता है. इसमें आपको उस website में क्या है उसके विषय में जानकारी प्रदान करता है. उस home page से, आप चाहें तो अलग अलग sections को जा सकते हैं और दुसरे contents को पढ़ सकते हैं. एक website में एक page, या बहुत सारे pages हो सकते हैं, ये निर्भर करता है की उस website का owner visitors को क्या प्रदान करना चाहता है. अक्सर Websites ज्यादा information होते हैं.

सबसे पहला website कब Create किया गया था और किसके द्वारा

दुनिया का सबसे पहला website Tim Berners-Lee के द्वारा बनाया गया था CERN में और उसे online किया गया August 6, 1991 में. आप भी चाहें तो ये website visit कर सकते हैं इसका address है.

Internet में कौन Website Create करता है

Website मुख्य रूप से कोई business, government, organization, या person बनाते हैं इन्टरनेट पर. अभी की बात करें तब Internet में लाखों करोड़ों की मात्र में websites मेह्जुद हैं जिसे की अलग अलग लोगों ने बनाया है. शुरुवाती दोर में आप भी चाहें तो एक Blog या basic website बना सकते हैं Internet में.

क्यूँ लोग Websites Visit करते है

आमतोर से पाया गया है की, लोग मुख्यरूप से दो कारणों के कारण ही websites देखना पसदं करते हैं :
1. उन्हें अपने जरुरत की information की तलाश रहती है. वो कुछ भी हो सकती है जैसे की एक student अपने एक school home work के लिए किसी एक पक्षी के बारे में चित्र ढूंड रहा है, या कोई किसी product की price check कर रहे हैं, या एक लड़का एक नए सहर में किसी address को ढूंड रहा है.

2. एक task को complete करने के लिए. Visitors को एक latest मोबाइल की तलाश है अपने खरीदने के लिए, किसी गाने या movie को download करने के लिए जिसे वो बाद में देखना चाहते हैं, या किसी एक online discussion में भाग लेने के लिए.

इसमें जो मुख्य बात होता है याद रखने के लिए वो ये की कोई भी website अपने लिए नहीं बनाता है, हमेशा ये दूसरों को जानकारी प्रदान करता है. इसलिए यदि आप site बना रहे हैं तब अपने लिए content मत लिखिए बल्कि अपने visitors के लिए लिखिए की उन्हें क्या चाहिए. इससे आपकी website की पॉपुलैरिटी ज्यादा बढ़ेगी.

वेबसाइट कैसे बनाएं

Website Kaise Banaye Hindi Me

एक बार आपने अपना Website Design कर लिया और बना लिया फिर बात आता है की कैसे अपने Website को launch करें. ये प्रक्रिया थोडा tricky हो सकता है अगर आपको ये नहीं पता की कैसे websites को place किया जाता है, कैसे उसे internet में host किया जाता है, on the Internet, इसलिए आपको ये सभी चीज़ों को बड़े आराम से सीखना पड़ेगा.

फ्री वेबसाइट कैसे बनाये

ये तो आप जानते ही होंगे की किसी भी website की सबसे महत्वपूर्ण aspect होती है उसका content, लेकिन ये भी बहुत जरुरी होता है की इसके intended audience तक वो information पहुंचे या visitors आपके site तक आसानी से पहुँच सके और उन्हें उनकी जरुरत की information मिल सके जिनकी उन्हें तलाश है. इसलिए अपने website को launch करने से पहले आपको उन्हें अच्छे से check करना चाहिए की वो website thoroughly optimised है भी या नहीं, जिससे वो नए visitors को attract कर सके और साथ में उनकी activities को track भी कर सके. चलिए इस पूरी procedure को सठिक रूप से समझते हैं, जिससे आपको website launch करने में कोई भी तकलीफ का सामना न करना पड़े. तो चलिए जानते है के वेबसाइट कैसे बनती है.

Select और Register करें एक Domain Name

एक ऐसा domain name का चुनाव करें जो की brief, easy to remember (आसानी से याद रहता हो) और जो की आपके website content को suit करे. कुछ common top-level domains में होते हैं .com, .edu, .org, and .net, जो की stand करते हैं commercial, education, organization, और network respectively के तोर पर. कोशिश करें की top-level domain को अपने website के purpose के लिए match करें. लेकिन, कुछ top-level domains में कोई real restrictions नहीं होती है (जैसे की org और com), इसलिए अगर आप जिस नाम को लेना चाहते हैं एक domain में, वो दुसरे domain में available भी हो.

अपने लिए सही Web Hosting को पहले ढूंढे, Choose करें और फिर खरीदें

उचित host का चुनाव करें और जरुरी के bandwidth को secure भी करें जो की आपके website के smooth running के लिए necessary होता है, एक expected मात्रा की traffic के लिए. अब आप सोच रहे होंगे की ये Bandwidth क्या होता है? तब Bandwidth का अर्थ होता है की एक given time period में कितनी amount की data transfer होने के लिए allow किया जा सकता है. इसे ही bandwidth कहा जाता है.

जैसे जैसे आपकी website बड़ी होगी, वैसे वैसे आपको भी अपनी website की bandwidth को बढ़ाना होगा जिससे visitors को कोई तकलीफ न हो website देखने में, अन्यथा वो lag experience कर सकते हैं, जिससे की उनकी user experience ख़राब हो जायेगा और वो आपके website पर नहीं आयेंगे. बहुत से hosting companies आपको software भी प्रदान करते हैं जो की आपको website बनाने में मदद करती है.

अपने Website Files की एक Backup Copy तैयार करे

अपने website files की एक backup copy अपने पास भी रखें अपने hard drive में जिसे केवल आप ही देख और इस्तमाल कर सकते हैं editing के लिए, वहीँ एक copy web host में होता है दूसरों के view करने के लिए internet के माध्यम से.

कोशिश करें की Website को आसानी से Navigate किया जा सके

अगर एक user को आपके website में जरुरत की कोई भी चीजें नहीं मिली 30 seconds के भीतर तब हो सकता है की वो कभी भी आपके website में और वापस न आये. इसलिए जरुरी है की आप अपने website को ठीक तरीके से Organize करें specific sections में और links का भी सही रूप से इस्तमाल करें जिससे की एक page से दुसरे में navigate करना आसान हो.

अपने Code को Validate करे

आपके Website में इस्तमाल हुए HTML, CSS, XHTML, JavaScript, और XML codes को validate करें ताकि ये पता चल सके की आपके website में सभी clean code और वो सही रूप से function करें visitors के लिए जैसे की उन्हें करना चाहिए. वैसे Internet में बहुत से programs available हैं जो की इस प्रकार के codes को online validate करते हैं.

एक Site Map का सही तरीके से Implement करे

Site maps बहुत मदद प्रदान करती है search engines को, जिससे की वो website को accurately indexing कर सकें. एक site map, एक collection होता है various URLs का जो की आपके Websites के ही होते हैं. एक Site Map को create करने पर, ये allow करते हैं search bots को आपके website के essential pages को ढूंडकर उन्हें display करते हैं.

अपने Website को Test करें Variety of Web Browsers में

आपको अपने website को thoroughly test करना चाहिए ये confirm करने के लिए की उसका design और page structure ठीक तरीके से display होता है या नहीं जैसे की उसे होना चाहिए. Specifically, आपको अपने website को ज्यादा popular browsers, जिसमें की Chrome, Firefox, Internet Explorer, Opera, और Safari, में देखना चाहिए क्यूंकि इन्ही browsers का ही इस्तमाल ज्यादा तोर से users Internet को browse करने के लिए करते हैं.

इस बात का ख़ास रखें की आप SEO-Friendly Code का ही इस्तमाल करे

हमेशा दोनों Meta और ALT tags का इस्तमाल करने अपने articles में ये ensure करने के लिए की आपकी website न केवल user searches में appear हो बल्कि उसके साथ आपके content के pertinent keywords भी ठीक तरीके से display हों. ऐसा करने से आपके articles search engine में आने के ज्यादा chances होते है जिससे आपकी traffic भी बढ़ सकती है. ALT tags को picture के description में लिखा जाता है जिससे search bots को pictures के विषय में पता चल सके, जो की search engine को ये बताता है की आपके site में लगे pictures किस topic के ऊपर आधारित हैं.

Install करें Website Analytics

Website की statistics के विषय में जानना बहुत ही जरुरी होता है. ऐसे में अपने वेबसाइट में Website Analytics का इस्तमाल करना विशेष जरुरी होता है. इससे आप लोगों के imprints से लेकर, clicks , नए visitors जैसे बहुत से जानकरी प्राप्त कर सकते हैं. साथ ही आपके द्वारा की गयी changes का असर को आप judge कर सकते अं और उसके हिसाब से सही सही adjustments कर सकते हैं, website की effectiveness को बढ़ाने के लिए.

Transfer करें आपकी Website की Files को आपके Web Host में

Website की जो copy आपके computer में रहती है उसे local version कहते हैं, और जो की web host में रहती है उसे production version कहा जाता है. इसे करने के बाद आपका website launch की प्रक्रिया complete हो जाती है.

Website बनाने में कौन सी Programming का Use करते हैं?

वैसे तो Website बनाने के लिए बहुत से Programming Languages का इस्तमाल होता है लेकिन यहाँ में आपको कुछ important programming के बारे में बताऊंगा.

HTML: HTML एक markup language होता है page के formatting के लिए. असल में ये एक programming language है भी नहीं, बस यह एक advanced punctuation होता है.

CSS: CSS एक प्रकार का rulesets होती हैं जो की browser को ये direction देती हैं की कैसे display किया जाये HTML formatted content को. यह एक programming language नहीं होती है, जैसे की HTML होती है, वैसे ये बहुत ही ज्यादा powerful होता है.

Javascript: Javascript एक programming language होता है. इसका इस्तमाल website को interactive बनाने के लिए होता है. आप चाहें तो अपने Chrome browser में right click और फिर ‘Inspect Element’ कर javascript को देख सकते हैं, साथ में ये भी जान सकते हैं की ये javascript क्या कर सकता है.

AJAX: AJAX एक extension होता है javascript का जिससे वो webserver से data पा सकते हैं और साथ में page को update भी कर सकते है, बिना page को refresh किये.

PHP: PHP एक प्रकार का code होता है जिसे की commonly इस्तमाल किया जाता है server side में interact करने के लिए filesystem और databases के साथ और अंत में ये output के तोर पर HTML पैदा करता है. आप चाहें तो python, perl, .NET और दुसरे languages/frameworks का इस्तमाल कर सकते हैं ये करने के लिए.

MySQL: MySQL एक database होता है. सभी programmers और Developers को ये जरुर से सीखना चाहिए की इसका कैसे इस्तमाल करें.

मेरा कहना का ये मतलब है की आपको सभी languages के विषय में कुछ कुछ जरुर से जानना होगा जैसे की HTML, CSS, Javascript और PHP, Python, Perl में से एक और उनकी सम्बंधित frameworks. वैसे बहुत से नए languages भी आ चुके हैं जो की programming को बहुत ही सहज बना दिए हैं, लेकिन basics का clear होना सबसे ज्यादा जरुरी हैं.

क्या Website से सही में पैसा मिलता है?

एक समय था जब मुझे में लगता था की क्या सच में website से पैसे मिलता भी है या ये केवल बस एक झलावा है. लेकिन इस Online Industry में मैंने एक बात सीखी की यदि आपके पास talent हैं और आप पूरी dedication के साथ काम करते हैं तब आप जरुर ही इससे अच्छे पैसे कमा सकते हैं. जो अक्सर लोग समझ नहीं पाते हैं की यहाँ पहले दिन से ही आप पैसे कमाना चालू नहीं कर सकते हैं, बल्कि इसके लिए आपको निरंतर काम करना होता है, धैर्य रखना होता है, कहीं तब जाकर आपको इसमें success मिलती है.

आप में से बहुत लोग सुनते होंगे की bloggers अक्सर अपना day job छोड़कर blogging को अपना primary job बना लेते हैं. जैसे की मैंने किया.

इसलिए चलिए कुछ ऐसे ही उपायों के बारे में जानते हैं जिससे की आप अपने website से ही online पैसे बना सकते हैं वो भी घर बैठे. लेकिन ध्यान दें की सभी तरीकों को एक साथ implement करने के बारे में न सोचें, बल्कि केवल एक दो को ही चुनें और उसमें कड़ी मेहनत करें.

1. Affiliate Promotion करना
2. Banner और display advertisements
3. अपने email subscribers को sell करना
4. Sponsored posts करना
5. Product के reviews लिखना
6. Physical products की sponsorship पाना
7. Membership forum
8. Online course करना
9. दूसरों से donations करने को कहना
10. YouTube में video content बनाना
11. Consulting करना जरुरतमंदों को
12. अपने website को बेच देना

इन सभी तरीकों को आप अपने website में implement कर सकते हैं. जिससे आप जरुर ही पैसे कमा सकते हैं.

Conclusion

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख वेबसाइट कैसे बनाएं जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को वेबसाइट कैसे बनाई जाती है के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं. यदि आपको यह लेख वेबसाइट कैसे बनाये हिंदी में पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

11 COMMENTS

  1. बाप रे बाप भाई इतना लम्बा-चौड़ा लिखोगे तो सबका वेबसाइट का आर्टिकल का पत्ता Google Search Engine से कट जाएगी, बस आप ही चारो तरफ दिखेगे सारे Search इंजन मे

    Thanks Bahut Achha Article

    • Rakesh जी, हम पूरी article लिखना ज्यादा पसंद करते हैं, जिससे लोगों को और कहीं जाने की जरुरत ही नहीं है.

  2. bro such a hard work and aapka dedication dakhar mujhe kafi motivation milta hai ki aap regular ek alag post publish karte hai aur kafi research karne ke baad aise post aap publish karte hoge because itne long articles likhna majak nahi hota hai..good work bro
    mujhe bataye ki aap itne motivate kaise khud ko karte hai???
    kya aap full time only blogging ko hi dete hai ki koi aur work karte hai??
    kya bloggiong aapki hobby hai kyuki regular content likhna wo bhi itne dedication ke sath,,, ye aasan toh nahi.
    agar kuch galat que pucha ho to sorry bro..
    thanks for sharing this article

    • Agar apko likhna pasand nahi to aap ek blogger nahi ban sakte.
      Agar apka likhne ka tarika achha nahi hai to wo dhire dhire improve ho jayega, but agar likhna pasand nahi to woh kaise hoga.
      Me ek full time blogger hun, kyun ki mujhe likhna bahut pasand hai.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.