Java क्या है और कैसे सिखे?

आप तो Java का नाम तो सुने ही होंगे. लेकिन आपके मन में ये सवाल तो आया होगा की जावा क्या है (What is Java in Hindi) और इसके साथ Java Programming Language कैसे सीखें. आज के लेख में इसका जवाब देंगे और इससे संबंधित कुछ और जानकारी देना चाहेंगे.

आज के समय में Programming Language की Demand बहुत ही ज्यादा है. आपको एक रोचक बात बताऊंगा तो आप के होस उड़ जाएंगे. अभी के समय में करीबन 3000000 से भी अधिक Electronic Device में Java Code का इस्तेमाल किया जाता है. इस बात से आप अंदाजा लगा सकते हैं की ये Programming Language कितनी लोक प्रिय है.

अभी भी आप जितने भी Smart Phone का इस्तेमाल कर रहे हैं और Electronic Device जैसे AC, Oven, Smart TV, Digital Fridege इन सभी में इसका इस्तेमाल होता है. कुछ Automated Industries के Equipment में भी अलग अलग parts को Programmed करने में. आप अगर Android Programming को सिखना चाहते हैं, तो फिर Java को सीखना बहुत जरुरी है. तो चलिए जानते है जावा क्या होता है.

Java क्या है (What is java in Hindi)

java kya hai hindi

Java एक General Purpose Programming Language है. इनको Software और Application Development के लिए इस्तेमाल किया जाता है. java एक High Level Programming Language है. 1995 में Sun-micro system ने इसका प्रारंभ किया था. James Gosling इसके प्रमुख Developer में से एक हैं. यह Platform Independent Language है. इसमें लिखे गए Code को आप किसी भी Platform या os में Run कर सकते हैं.

इसमें लिखे गए सारे Codes English में होते हैं नाकि Numeric Codes में. लिखे गए codes को कोई भी बड़ी आसानी से समझ सकता है. इसीलिए इसे High Level Language में सामिल किया गया है. यह Oops के Concept को follow करती है. C++ Language के Fundamental को इसमें Use किया गया है.

program लिखने के लिए कुछ Rules को follow किया जाता है जिसको Syntax बोला जाता है. बिना syntax के program लिखने से Error निकलता है. जैसे आप जब कभी हिंदी या English लिखते हो तो उसमे अगर आप Grammers के Rules को Follow नहीं करते तो वो गलत हो जाता है, वैसे इसमें Syntax को Follow करना बहुत ही जरुरी होता है.

Java का Use क्या है

इस Computer Programming Language का एक ही मकसद है. इसमें जो भी Code लिखा गया है वो सारे Computers में Run होन चाहिए. चाहे वो दोनों machine एक जैसे हो या नहीं, मेरा कहने का मतलब है, चाहे वो कोई भी OS हो (Windows या Mac) जैसे एक उदहारण के तोर पे C++ में लिखा गया Code कभी भी दुसरे machine में एक जैसे Execute नहीं होता. Windows में लिखा गया Code कभी भी Mac OS में Run नहीं होता, लेकिन यह java के मामले में ये गलत है.

Web based Programming और Mobile application, Software बनाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है. Android के जितने भी Operating System हैं जैसे Kitkat, Lolipop,Oreo ये सभी इसी Programming Language से Develop किया गया है. आज के समय में जितने भी Web Pages हैं वो Java Script पे चलते हैं. आपके मन में सवाल होगा की कैसे Code Execute होता है.

Java Program Code कैसे Run या Execute होता है

ये Language, Code को Run करने के लिए एक Abstract Computing Machine का इस्तेमाल किया करता है जिसका नाम है Java Virtual Machine. इसको समझना आपके लिए बेहद जरुरी है.

Java Virtual Machine

इसका short form है JVM. यह एक Virtual Computer है जो सारे Java Program को run करता है. जब एक Program लिखा जाता है उसी को Source Code बोला जाता है. इसी Source Code को Java Compiler की मदद से Compile करके Byte Code Generate किया जाता है. इस Byte Code को Execute करने के लिए JVM को इस्तमाल किया जाता है. JVM के अंदर JAVA Interpreter रहता है वही program को Run करता है.

एक बात जानले जितने भी Computer java program को run करते हैं उन सभी में पहले से ही JVM Installed रहता है. इसी लिए ये Code सारे Computer में चलता है. इसी वजह से java एक Platform Independent Language है. दुसरे जितने भी Programming Languages हैं उनके Compiler जो code produce करते हैं. वो एक ही sysytem के लिए Generate करते हैं और एक ही System में Run होते हैं. लेकिन java compiler जो byte Code generate करता है वह JVM के लिए होता है.
JVM सारे System में रहने की वजह से यह प्रोग्राम हर Computer में चलता है. यह Virtual Machine code को operating system में चलने लायक बनानता है.

Platform Independent

इसके नाम से ही सायद आप समझ गए होंगे की Platform के उपर Depend नहीं करता. यहाँ पे Platform मतलब OS है. जैसे Windows, Linux, Mac, Android. जब हम program लीखते है या कोई software बनाते है वो सारे Os platform पे चलते हैं. लेकिन कुछ प्रोग्राम होते हैं जो बस एक ही computer और OS पे चलते हैं ऐसे program को Platform Dependent Program कहते हैं. अगर कोई एसा Program है जो code दुसरे सारे Platform पे चलता हो (चलने का मतलब Run होना). तो उसे Platform Independent Code कहते हैं.

इसका मतलब यही है, java एक एसी Programming Language है जिसके code सारे Cross-Platform पे चलते हो. एक कहावत है “Write Once Run Any Where” . तो चलिए अब बात करते हैं, कहाँ कहाँ इसका इस्तेमाल होता है और Use क्या है.

JAVA को बनाने का मकसद क्या था (Use of Java in Hindi)

आपको पता होगा पहले जितने भी Programming Language हैं और थे. वो सारे Procedural Structure को Follow करते हैं. इसके बाद आया Obeject Oriented concept मुझे खुसी है की आज के समय में Obeject Oriented पुरे Programming Industry को ही बदल डाला. यह programming Language भी इसी Concept को फॉलो करता है.

आप सोच रहे होंगे वैसे पहले ही इतनी सारी Computer Language हैं फिर भी इसमें क्या खासियत है. अभी के समय में आप जानते ही होंगे की Internet Applications का कितना Demand में हैं. चाहे वो Online Video/image editing, चाहे कुछ Online convert करना हो जैसे Word to PDF, ZIP, RAR FILE बनाना यह सब इसी की बदोलत है.

आज कल Online Form भरना, Online Calculator ये सभी java की मदद से ही संभव हुआ है. Internet में जावा दुसरे web based Language के साथ मिलके काम करता है. मतलब साफ़ साफ़ है Internet Application और Tools Develop करने के लिए इसको बनाया गया है. अगर हम दुसरे Languages के साथ तुलना करें तो यह बड़ी आसानी से Internet में Execute होता है. इसमें Program लिखना भी बहुत आसान है.

Java Script, JSP (Java Server Pages) और java इन सभी के मदद से एक Powerful Web Application बनाया जा सकता है. java applets को आप web में आसानी से Implement कर सकते हो. इसके मदद से आप Offline Program भी लिख सकते हो जो बिना Internet के भी चलते हैं. मै तो आपको यही सलाह देना चाहूँगा अभी और आगे SW की दुनिया में कुछ करना चाहते हो तो इसको जरुर सीखें और कैसे इस Language को सीखें आगे आपको इसकी जानकारी भी इसी लेख में आपको मिल जाएगी. अब तक तो आप बहुत कुछ जान गए हैं लेकिन इसके इतिहास के बारे में भी जान लेना चाहिए.

Berief History Of Java in Hindi

इसका इतिहास बड़ा ही मजेदार है इसलिए आपको ये जान लेना अति आवस्यकत है. इसकी सुरवात Green Team से हुई थी. Java team के members को Green Team बोला जाता था. इस team का बस एक ही मकसद था एक एसी Language बनाई जाए जिसे Electronics Devices जैसे Set-top Boxes, Television को Program किया जा सके . उस दौर में यह एक Advance Concept था. लेकिन यह आगे चल के Internet के लिए ज्यादा मददगार साबित हुआ. कुछ समय बाद यह NetScape के साथ यह Technology मिल गई.

James Gosling

James Gosling, JAVA के प्रमुख Developer में से एक हैं. अभी के समय में Java का उपयोग Internet Programming, Mobile Devices, Games, E-Business solution के लिए किया जाता है.
James Gosling, Mike Sheridan, और Patrick Naughton ने Java Language का Project 1991 में शुरु किये थे. इन्होने एक Engineers की टीम बनाई थी इस Project पे काम करने के लिए उस टीम नाम था Green Team. इस Language की Coding C में लिखी गई है.
James Gosling ने इस Language का नाम GreenTalk रखे और File Extension था .gt . बाद में इसका नाम बदल के Oak रखा गया.

इसका नाम Oak ही क्यूँ रखा गया

Oak को Strength का Symbol भी बोला जाता है. Oak Weasten Countries (USA, France, Germany, Romania) का National Tree है. 1995 में Oak नाम को बदलके Java रखा गया, क्यूंकि Oak उस समय पहले से ही Oak Technologies Company का Trade mark था. अब अगला सवाल है आया, इसका नाम Java ही क्यूँ कोई और नाम क्यूँ नहीं.

इसका नाम JAVA ही क्यूँ रखा गया

जब Green Team एक जुट होक Language नाम का चयन कर रही थी. उन सभी टीम सदस्यों ने कुछ नाम के Suggestion दिए जैसे Dynamic, Revolutionary, Silk, Jiot, DNA . वो चहाते थे की कोई एसा नाम जो उनकी Technology को Represent करें. कोई एसा नाम जो Revolutionary हो, Dynamic, Lively, Cool, Unique हो. James Gosling के मुताबिक आखिर में दो नाम के Suggestion थे एक Silk और दूसरा JAVA. Green Team को JAVA नाम काफी Unique लगा आखिर में यही नाम रखा गया.

Java Indonasia का एक Island का नाम था. जहाँ सबसे पहले Coffee Produce हुआ था. Sun MicroSystem में इसको Develop किया गया था. अभी ये Oracle Corporation का एक Part है. JDK 1.0 को January 1996 में Release किया गया था.

Java Version का इतिहास

समय के साथ साथ JAVA के अलग अलग Version को Release किया गया उनकी जानकारी निचे दी गई है.

  • JDK Alpha and Beta (1995)
  • JDK 1.0 (23 Jan, 1996)
  • JDK 1.1 (19 Feb, 1997)
  • J2SE 1.2 (8 Dec, 1998)
  • J2SE 1.3 (8 May, 2000)
  • J2SE 1.4 (6 Feb, 2002)
  • J2SE 5.0 (30 Sep, 2004)
  • Java SE 6 (11 Dec, 2006)
  • Java SE 7 (28 July, 2011)
  • Java SE 8 (18 March, 2014)

Java का Use कहाँ कहाँ है

अभी के समय में 3 Billion से भी अधिक devices java की मदद से चलते हैं. यह IT Indistriy में बहुत ही अत्यधिक इस्तेमाल किए जाने वाली Programming Language है.

JSP – यह एक Web Technology है, इसका Use Web application में किया जाता है. JSP की मदद से Java Code को HTML Document में Insert किया जाता है. Java Code को HTML tag में Insert करने के लिए JSP Tag को Use किया जाता है. इसकी मदद से Dynamic Web Pages बनाए जाते हैं.
PHP-आपको पता होगा यह एक server side Scripting Language है. php में भी जावा का use हुआ है.

Applets – ये भी एक तरह का Full Java program है. जिसको Web page के अंदर add किया जाता है. जिससे web Browser में नए Features देखने को मिलते हैं. applets HTML के अंदर ही रहते हैं. कुछ Online Game भी Applets के उदहारण हैं. applets को Web Browser में Run करने के लिए Plugin की जरुँरत पड़ती है.

J2EE – Java 2 Enterprise Edition एक Platform Independent Environment है. जिसकी मदद से Web based Enterprise Application बनाए जाते हैं. XML Based Structured data को Companies आपस में Share करने के लिए J2EE के द्वारा बनाए गए web application को उपयोग किया जाता है.

JavaBeans – यह Visual Basic जैसा ही है. पहले से मोजुद COMPONENT से की मदद से नए और Advanced Application बनाए जाते है. इसमें बहुत सारे Objects को एक Object में रखा जाता है जिसे Bean कहते हैं.

Mobile – उपर दिए गए सारे Technology के बाबजूद भी इस Language का Mobile Devices में बहुत अच्छा योगदान है. इसने Game Industries को पूरी तरह से बदल डाला. जितने भी Mobile Industries हैं वो सब Java Technology का इस्तेमाल करते हैं.

Types of Java Applications (प्रकार)

Web Application

मतलब Server side web application Develop करने के लिए. अभी के समय में Web Application बनाने के लिए Servlet, Jsp, Struts, jsf इन सभी का इस्तमाल किया जाता है.

Standalone Application

इसका मतलब है desktop application और Mobile application. ये वो sw होते हैं जिनको हम हर रोज इस्तेमाल करते हैं. उदहारण:- Media Player, Antivirus, MS-Office, Browsers. AWT और SWING की मदद से Standalone application आसानी से बनाए जाते हैं.

Enterprise Application

बहुत सारे Enterprise Application बनाने में java ही एक मात्र Programming है. क्यूंकि ये High Level Security Provide करता है. banking software, Industry application, accounting application इन सभी तरह के Enterprise Application बनाने के लिए EJB ( Enterprise Java Bean) का इस्तेमाल किया जाता है.

Mobile Application

इसके बारे तो आप जान ते ही होंगे की mobile में जितने भी game और Application Run करते हो वो सभी इस language से बनाया जाता है. Google Playstore में जितने भी app होते हैं वो सभी java प्रोग्रामिंग से develop किए जाते हैं.

Characteristics

Object Oriented –java में सब कुछ Object Oriented है. Object Model की मदद से बड़े लम्बे Code वाले app/sw आसानी से बना सकते हैं.
Platform independent – यह एक खसा language है जिसमे लिखे गए software सारे Operating System में चल सकते हैं. जिसको Cross Platform भी बोला जाता है. लेकिन अगर बात करें C और C++ की तो ये दोनों ही Platform Dependent Language है.

  • Simple – इस को आप आसानी से समझ सकते हैं और आसानी से लिख भी सकते हैं, यही इसकी Quality है. इसिलए इसको Simple बोला जाता है. Oops के Basic Concept अगर समझ गए हैं तो आपको java में Master बनने से आपको कोई नहीं रोक सकता है.
  • Secure – इस के Security Feature की वजह से यह बहुत प्रचलित है. Virus Free, Tamper Free System software Develop कर सकते हैं. Authentication Technique में Public Key Encryption का इस्तमाल किया जाता है.
  • Architectural-neutral – Compiler द्वारा जो code generate किया जाता है वह byte code होता है. जिस code को आप कहीं भी, किसी भी Operating system और Processor में Run कर सकते हो. इसलिए इसको Architectural Neutral बताया जा रहा है. इसके लिए JVM का होना अनिवार्य है जो की सारे System में होते है.
  • Portable – Platform Independent की वजह से यह Portable भी है. क्यूंकि java और Compiler दोनों को ANSI C में लिखा गया है.
  • Robust – इसमें लिखे गए सारे Program मजबूत होते हैं. मजबूत मतलब लोहे जैसे मजूबत नहीं. जब PROGRAM को RUN किया जाता है तो इसमें कोई Error नहीं रहता है. क्यूंकि Compile Time और Run time Error checking mechanism का इस्तमाल होता है.
  • Multi-threaded – इसी features की वजह से आप ऐसे program लिख सकते हो जो multiple task को perform कर सकते हो. मतलब एक Application होगा और उसी में आप सारे Task कर सकते हो.
    High Performance – Just in Time Compilers की वजह से java का Performance काफी अच्छा है.
  • Distributed – इसी nature की वजह से Internet के Distributed Environment में अपना रुतबा कायम है.
  • Dynamic – यह Dynamic Programming है. कोई भी Environment को ये adapt कर सकती है.

Different Editions of Java Technology हिंदी में

Java SE –Server Applications, Desktop Application और applets program बनाने के लिए Java SE या Java Standard Edition आपको वो Tools और API Provide करता है. java SE की मदद से जितने भी program लिखे जाते हैं वो सभी Operating System में चलते हैं. जैसे Linux, Windows, Mac.

JEE – (java Enterprise Edition) web application Services, Component model, Enterprise Class Service Oriented Architecture (SOA) के लिए मददगार है.

JME – Java Micro Edition or JME यह APIs का Collection है. इनका इस्तमाल Mobile Phones application, PDAs, TV Set-Top Box software, Gaming Program Develop करने के लिए किया जाता है. micro edition platform का Interface काफी User Friendly है. इसके साथ साथ भोरोसे लायक है. Security Model अलग अलग तरह के Built in Network की सुविधा देता है जिसेमें आप java Based Application इसमें चला सकते हो..

Computer में Java चलाने के लिए क्या चाहिए

  1. सबसे पहले आपको Java software development kit को इस link से http://java.sun.com/ Download करें
  2. Website में जो भी Instruction दिए गए हैं उनको follow करें.

Java Program लिखने के लिए Java Editors

आपको Java program को लिखने के लिए Editors की जरुरत पड़ेगी और आप निचे दिए गए Editers का इस्तेमाल कर सकते हो

  1. Notepad ++ यह एक Editor है जिसमें आप आसानी से Code लिख सकते हैं. Error धुंडने में और Missing Bracket धुंडने में भी आसानी होती है.
  2. Netbeans – यह Java IDE एक open source और free है. जिसको आप इस लिंक से Download कर सकते हो http://www.netbeans.org/index.html
  3. Eclipse – यह भी java IDE है जिसको eclipse open source community ने develop किया है. आप इस link से Download करें http://www.eclipse.org

Java कैसे सीखे

Programming के Demand के मुताबिक अगर आपको Programming के Fundamentals पता हैं तो आपको java सीखना चाहिए. क्यूंकि आप Software Develop करके और play Store में app बनाके आप लाखों में Income कर सकते हो. इसी लिए मेरी सलाह है आप कुछ Tutorial Sites से या YouTube से Video Series देख के आसानी से सिख सकते हो. निचे कुछ channel के नाम और Websites की list दी गई हैं जहाँ से आप Java सिख सकते हो.

JAVA सिखने के लिए Tutorial Site के नाम
https://www.tutorialspoint.com/java/
https://www.codecademy.com/learn/learn-java
https://www.udemy.com/java-tutorial/
https://www.w3schools.in/java-tutorial/
https://www.youtube.com/results?search_query=java+tutorial+

मेरी अंतिम राय इस लेख पे

ये जानकारी खास Students के लिए ज्यादा उपयोगी है. आप आज के लेख में सीखे java क्या है (What is java in hindi). आपके इन सवालों के जवाब भी मिले इस Programming Language का Use क्या है. History मतलब java का इतिहास भी आप जान ही गए होंगे. सबसे जरुरी सवाल जो आप लोग हमेसा से पूछते हो Java कैसे सीखें और Characteristics Features of java के जो खास Exam में आते हैं. java Language से कितने प्रकार के application आप develop कर सकते हैं. सभी का ज्ञान आपको मिल गया है.

उमीद है ये लेख आपको पसंद आया होगा, कैसा लगा आप जरुर निचे बताइए. अगर अभी बी कोई सवाल आप पूछना चाहते हो तो निचे Comment Box में जरुर लिखे. कोई सुझाव देना चाहते हो तो जरुर दीजिये जिस्से हम आपके लिए कुछ नया कर सके. हमारे Blog को अभी तक अगर आप Subscribe नहीं किये हैं तो जरुर Subscribe करें. चलो बनायें Digital India जय हिंद, जय भारत, धन्यबाद.

Hindi Me Jankari

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here